Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

मायावती चाहें तो हम बिहार से उन्हें राज्यसभा भेजेंगे : लालू प्रसाद यादव

लालू ने कहा, 'मायावती के साथ राज्यसभा में जो व्यवहार किया गया, उससे साफ है कि बीजेपी दलित विरोधी पार्टी है.'

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मायावती चाहें तो हम बिहार से उन्हें राज्यसभा भेजेंगे : लालू प्रसाद यादव

आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. लालू ने कहा - दलितों की आवाज दबाई जा रही है, बीजेपी अहंकार में डूबी है
  2. 'मायावती के साथ जो बर्ताव हुआ, उससे साफ है कि बीजेपी दलित विरोधी है'
  3. बीजेपी ने कहा - मायावती भावुकता के जरिये 'भ्रम' पैदा करना चाह रही हैं
पटना:

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष मायावती के राज्यसभा से इस्तीफे को राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने वाजिब और स्वभाविक बताते हुए कहा कि बीजेपी दलित विरोधी पार्टी है. लालू ने यह भी कहा, 'मायावती चाहेंगी तो हम बिहार से उन्हें दोबारा राज्यसभा भेजेंगे.'

वहीं, बीजेपी ने राज्यसभा से इस्तीफा देने पर मायावती को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि उनका यह कदम 'ड्रामा' है, जिसका मकसद भावुकता के जरिये 'भ्रम' पैदा करना है. नई दिल्ली में बीजेपी महासचिव भूपेंद्र यादव ने कहा कि लोग अब मायावती से गुमराह नहीं होने वाले हैं.

भूपेंद्र यादव ने कहा कि मायावती जनाधार खो चुकी हैं और राज्यसभा में उनका छह वर्षों का कार्यकाल वैसे भी संसद के अगले सत्र में खत्म होना था. उन्होंने संकेतों में कहा कि मायावती ने 'हताशा' में यह कदम उठाया.
यह भी पढ़ें
राज्यसभा से बसपा सुप्रीमो मायावती के इस्तीफे के मायने....


वहीं पटना में पत्रकारों से बात करते हुए लालू ने कहा, 'दलितों की आवाज दबाई जा रही है, बीजेपी अहंकार में डूबी हुई है. मायावती के साथ राज्यसभा में जो व्यवहार किया गया, उससे साफ है कि बीजेपी दलित विरोधी पार्टी है.'
यह भी पढ़ें
इन 10 कारणों से बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने राज्‍यसभा से दे दिया इस्‍तीफा

लालू ने कहा कि चाणक्य ने कहा था कि जिस सभा में जायज बातों को ना सुना जाए और बहुमत का भय दिखाकर लोगों को बोलने नहीं दिया जाए, वह कोई सभा नहीं है. लालू ने कहा कि आज का दिन इतिहास के पन्नों में काले दिन के तौर पर दर्ज किया जाएगा, क्योंकि आज उच्च सदन में गरीबों और दलितों की स्थापित नेता मायावती को गरीबों की बात को उठाने नहीं दिया गया.
यह भी पढ़ें
सदन से वॉकआउट करने वाली बीएसपी सुप्रीमो मायावती के समर्थन में उतरा विपक्ष

उल्लेखनीय है कि बीएसपी अध्यक्ष मायावती ने मंगलवार को राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया. उनका आरोप है कि सत्तापक्ष ने उन्हें दलितों पर अत्याचार का मुद्दा राज्यसभा में उठाने नहीं दिया. मायावती ने मंगलवार शाम राज्यसभा के सभापति हामिद अंसारी से मिलकर उन्हें अपना त्यागपत्र सौंप दिया.

टिप्पणियां

वीडियो : सदन में बोलने न देने से नाराज मायावती का इस्तीफा


उन्होंने इस्तीफा देने के बाद कहा, 'मैंने त्यागपत्र सौंपने के लिए सभापति से मुलाकात की. यह अच्छी बात नहीं है कि मेरे लिए महत्वपूर्ण मुद्दों पर सदन में बोलने नहीं दिया गया. जब मैं बोलने के लिए खड़ी हुई तो सरकार ने मेरी बात पूरी नहीं होने दी. उनके सदस्य खड़े हो गए और हस्तक्षेप करने लगे. यह अच्छी बात नहीं है.'
(इनपुट एजेंसियों से)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... नीना गुप्ता ने ट्रांसपेरेंट ब्लैक साड़ी में पुरानी तस्वीर की शेयर, लिखा- ''25 साल पहले भी...''

Advertisement