NDTV Khabar

क्या शरद यादव की नाराजगी अभी भी खत्म नहीं हुई? लालू का दावा - भाजपा के साथ नहीं जा सकते

बिहार में जदयू के महागठबंधन से अलग होने और बीजेपी के साथ सरकार बनाने के बाद से पार्टी के वरिष्ठ नेता शरद यादव नाराज बताए जा रहे हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
क्या शरद यादव की नाराजगी अभी भी खत्म नहीं हुई? लालू का दावा - भाजपा के साथ नहीं जा सकते

शरद यादव ने ट्वीट करके मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा...

खास बातें

  1. जदयू से पार्टी के वरिष्ठ नेता शरद यादव नाराज बताए जा रहे हैं
  2. शरद यादव ने एक ट्वीट करके संकेत दिए कि नाराजगी खत्म नहीं हुई
  3. आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव ने कहा कि शरद यादव हमारे नेता हैं
पटना:

बिहार में जदयू के महागठबंधन से अलग होने और बीजेपी के साथ सरकार बनाने के बाद से पार्टी के वरिष्ठ नेता शरद यादव नाराज बताए जा रहे हैं. खबर तो यह भी आई थी नीतीश के कदम से नाराज खेमे ने शरद यादव से मुलाकात की थी. रविवार को शरद यादव ने एक ट्वीट करके संकेत दिए कि उनकी नाराजगी खत्म नहीं हुई है. मजे की बात यह है कि नई सरकार के बनने के बाद से शरद यादव चुप्पी साधे हुए हैं. उधर, आरजेडी लगातार दावा कर रही है कि शरद यादव बीजेपी के साथ नहीं जाएंगे.आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने तो यह भी कह दिया कि शरद यादव हमारे नेता हैं.

शरद यादव ने ट्वीट करके मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा. इससे उनकी बीजेपी को लेकर नाराजगी साफ झलकती है. ट्वीट में उन्होंने लिखा, 'न ही विदेशों में जमा कालाधन भारत लाया गया है, जो कि सत्ता में बैठी पार्टी का मुख्य नारा था और न ही पनामा पेपर्स मामले में जिनका नाम है उनमें से किसी को पकड़ा गया है.' इससे पहले भी शरद यादव ने शुक्रवार और शनिवार को भी मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कई ट्वीट किए थे.  
 


राजद प्रमुख लालू प्रसाद ने जदयू के वरिष्ठ नेता शरद यादव के भाजपा के साथ नहीं जाने का रविवार को दावा करते हुए उनसे अपील की कि सांप्रदायिक ताकतों को परास्त करने के लिए वे पूरे देश का भ्रमण करें तथा इसमें वे अपनी पूरी शक्ति लगा दें. लालू ने कहा — आज देश में जिस प्रकार का संप्रदायिक माहौल उत्पन्न किया गया है वैसी स्थिति में शरद जी जैसे धर्मनिरपेक्ष नेताओं की सख्त जरूरत है.

ये भी पढ़ें
ट्विटर पर तेजस्वी ने लिखा, 'अब याचना नहीं रण होगा', ...तो यूजर्स ने कुछ यूं दिए जवाब

उन्होंने कहा कि इस संबंध में वे शरद जी से बातचीत करेंगे. उल्लेखनीय है कि होटल के बदले भूखंड मामले में सीबीआई की प्राथमिकी को लेकर उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव के जनता के बीच स्पष्टीकरण पर अड़े जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गत 26 जुलाई को महागठबंधन (जदयू—राजद—कांग्रेस) से नाता तोड़ लिया था.

ये भी पढ़ें
'हम नीतीश कुमार के हर शब्द पर भरोसा कर रहे थे, लेकिन वो RSS की स्क्रिप्ट के अनुसार चल रहे थे'

टिप्पणियां

जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के राजग खेमे में लौटने और भाजपा के साथ गठबंधन करने के बाद गत शुक्रवार को जिस दिन नीतीश ने बिहार विधानसभा में विश्वास मत हासिल किया उसी दिन कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद और माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने कि शरद के घर जाकर उनसे लंबी बात की थी.

VIDEO : जेडीयू में नीतीश कुमार के फ़ैसले का हो रहा विरोध 

उल्लेखनीय है कि राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद ने इससे पूर्व शरद यादव को यूपीए में भी शामिल होने का भी न्योता दिया था, पर शरद द्वारा इस पर अभी तक कोई प्रतिक्रिया जाहिर नहीं की गई है.
(इनपुट भाषा से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement