NDTV Khabar

मनोज बैठा को बिहार पुलिस से ज्यादा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और सुशील मोदी को क्यों है तलाश ?

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी चाहते हैं कि जल्द से जल्द या तो मनोज बैठा गिरफ़्तार हो या आत्मसमर्पण कर दे.

339 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
मनोज बैठा को बिहार पुलिस से ज्यादा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और सुशील मोदी को क्यों है तलाश ?

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार. (फाइल फोटो)

पटना: बिहार में भाजपा से निलंबित नेता मनोज बैठा को दो तरह के लोग खोज रहे हैं. एक बिहार पुलिस जिसकी बैठा को दुर्घटना के तुरंत बाद गिरफ़्तार नहीं करने के कारण तलाश है. वही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी चाहते हैं कि जल्द से जल्द या तो वो गिरफ़्तार हो या आत्मसमर्पण कर दे.

यह भी पढ़ें :  बिहार बीजेपी ने पहले मनोज बैठा से संबंध नकारे, अब पार्टी से निलंबित कर दिया!
 
नीतीश और सुशील मोदी की परेशानी यह है कि बिहार विधानसभा सत्र में न विपक्ष सत्र चलने दे रहा है और विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव उनके मुंह पर चुनौती अलग से देते हैं. दिक़्क़त है कि बैठा फ़िलहाल फरार चल रहे हैं. इस मुद्दे पर राष्ट्रीय जनता दल ने सोमवार को राजभवन मार्च भी किया था. तेजस्वी यादव ने शनिवार को हादसे के तुरंत बाद घटनास्थल पर पहुंचने के बाद मुज़फ़्फ़रपुर में आरोप लगाया था कि बैठा भाजपा के नेता हैं. इसलिए उन्हें भागने दिया गया. 

टिप्पणियां
VIDEO : फरार है नौ बच्‍चों की मौत का गुनहागार


दूसरा आरोप उन्होंने लगाया कि मनोज बैठा घटना के समय शराब के नशे में था. तेजस्वी का अब कहना है कि बैठा की गिरफ़्तारी में देर इसलिए हो रही है कि मेडिकल जांच में शराब के अंश नहीं मिले. भाजपा के नेता मानते हैं कि बैठा जब तक गिरफ़्तार नहीं होगा तब तक शायद नीतीश और सुशील मोदी की परेशानी ख़त्म नहीं होने वाली. राजद को बैठे बिठाए मुद्दा ही नहीं मिला है, बल्कि ये आने लोगों को दिखाने का मौक़ा मिल गया है कि सरकार के तुलना में वो कितना ज़्यादा संवेदनशील है. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement