NDTV Khabar

मुजफ्फरपुर बालिका गृह रेप कांडः मीडिया रिपोर्टिंग रोके जाने पर जानिए क्या बोले पटना हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश

पटना हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश मुकेश आर शाह ने मुजफ्फरपुर कांड में मीडिया रिपोर्टिंग पर रोक लगाने के पीछे तर्क दिया है कि इससे आरोपियों को अग्रिम रूप से लाभ मिलने की आशंका रहती है. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मुजफ्फरपुर बालिका गृह रेप कांडः मीडिया रिपोर्टिंग रोके जाने पर जानिए क्या बोले पटना हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश

प्रतीकात्मक तस्वीर.

खास बातें

  1. मुजफ्फरपुर कांड में मीडिया रिपोर्टिंग पर क्यों लगी है रोक
  2. पटना हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस ने बताया कारण
  3. केस उजागर करने में मीडिया की भूमिका को सराहा
मुजफ्फरपुर बालिका गृह रेप कांड से जुड़ी रिपोर्टिंग पर कोर्ट की ओर से रोक लगाए जाने का मुद्दा चर्चा में रहा है. इस मुद्दे पर अब जाकर पटना हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश मुकेश आर शाह ने बयान दिया है.उन्होंने मीडिया रिपोर्टिंग पर रोक लगाने के पीछे तर्क दिया है कि इससे आरोपियों को अग्रिम रूप से लाभ मिलने की आशंका रहती है. 

क्यों न रिपोर्टिंग ही बंद हो जाए, क्यों न आप अख़बार ही कल से बंद कर दें

उन्होंने कहा- मैं अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और मीडिया के खिलाफ नहीं हूं.  मगर व्यापक जनहित में कभी-कभी उचित रोक लगाने की जरूरत होती है.  मीडिया ट्रायल नहीं होना चाहिए. आरोपियों को अग्रिम रूप से मीडिया रिपोर्ट से लाभ नहीं पहुंचना चाहिए. पटना हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश ने मुजफ्फरपुर कांड में अब तक मीडिया की भूमिका की सराहना भी की.उन्होंने कहा कि इस केस को जनता के सामने लाने में मीडिया ने अहम भूमिका अदा की. इसकी सराहना करता हूं.

जनता दल यूनाइटेड ने अब तेजस्वी यादव से CBI अधिकारी के तबादले पर पूछा सवाल


एसपी के ट्रांसफर पर कोर्ट का सवालः बीते दिनों मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड की जांच कर रहे सीबीआई एसपी के ट्रांसफर की घटना पर हाई कोर्ट ने सवाल खडे़ किए हैं. मुख्य न्याायधीश ने  सीबीआई से सवाल किया कि कैसे लखनऊ और रांची का प्रभार देख रहे सीबीआई के एसपी को मुजफ्फरपुर बालिका गृह का केस देखने की अतिरिक्त जिम्मेदारी दे दी गई. सवाल किया कि एक एसपी को तीन राज्यों का चार्ज कैसे दिया जा सकता है?.

मुजफ्फरपुर रेप केस : मामले की जांच की पटना हाई कोर्ट ने मॉनिटरिंग शुरू की

टिप्पणियां
मुख्य न्यायाधीश ने कहा कि एसपी के ट्रांसफर पर स्पष्टीकरण दिया जाना चाहिए. इस पर सीबीआई का पक्ष रख रहे वकील ने कहा कि जांच एजेंसी एसपी रैंक के अफसरों की कमी से जूझ रही है. सीबीआई ने इस मामले को गंभीरता से देखने की बात कही तो कोर्ट ने कहा कि आप किसी भी जांच अधिकारी के तौर पर तैनात कर सकते हैं, मगर ध्यान रखिए वह कोई प्रभारी एसपी नहीं होना चाहिए. 

वीडियो-हाईकोर्ट की निगरानी में होगी मुजफ्फरपुर शेल्टर होम कांड की CBI जांच
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement