NDTV Khabar

नीतीश सरकार ने रामनवमी के दौरान क्षतिग्रस्त दुकानों के लिए मुआवज़ा की राशि जारी की

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के आदेश के बाद बृहस्पतिवार शाम को औरंगाबाद, नवादा और समस्तीपुर जिले के लिए क़रीब 36 लाख रुपये की राशि मंज़ूर की गई. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
नीतीश सरकार ने रामनवमी के दौरान क्षतिग्रस्त दुकानों के लिए मुआवज़ा की राशि जारी की

बिहार की सीएम नीतीश कुमार.

खास बातें

  1. रामनवमी के दिन कई स्थानों पर हुई हिंसा
  2. हिंसा के दौरान कई दुकानों पर लगाई गई आग
  3. कई लोगों को हुआ काफी नुकसान.
पटना:

आज शाम तक बिहार के तीन जिलों में पिछले हफ़्ते रामनवमी के जुलूस के दौरान हुई हिंसा में जिन लोगों की दुकान या किसी भवन को नुक़सान हुआ है उन्हें मुंआवजे की राशि मिल जाएगी. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के आदेश के बाद बृहस्पतिवार शाम को औरंगाबाद, नवादा और समस्तीपुर जिले के लिए क़रीब 36 लाख रुपये की राशि मंज़ूर की गई. 

राज्य सरकार ने सबसे अधिक औरंगाबाद जहां क़रीब 40 दुकानों में आग लगाई गई थी, वहाँ के ज़िला अधिकारी के रिपोर्ट पर क़रीब 25 लाख की राशि आवंटित की है. राज्य में सबसे अधिक संपत्ति को नुक़सान इसी शहर में हुआ था. राज्य के कई आला अधिकारियों को कई दिन यहां कैम्प करना पड़ा था. 

इसके बाद नवादा जिले को क़रीब साढ़े आठ लाख रुपये दिया गया है, जहाँ क़रीब आधे दर्जन लोगों को निशाना बनाया गया था. इसके अलावा समस्तीपुर को वहां के रोसेडा में एक मस्जिद और मदरसा को हुए नुक़सान के बाद मरम्मत के लिए क़रीब दो लाख से कुछ अधिक राशि वहां के जिला अधिकारी के रिपोर्ट के आधार पर दिया गया है.

राज्य के गृह सचिव आमिर सुभानी का कहना है कि अमूमन हर बार किसी ऐसी घटना के बाद नुक़सान की भरपाई राज्य सरकार करती है, लेकिन इस बार सभी रिपोर्ट जल्द आ गईं और राशि का आवंटन भी उसके आधार पर कर दिया गया. 


टिप्पणियां

वहीं राजनीतिक जानकार मानते हैं कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को इस बात का अंदाज़ा है कि हिंसा के बाद उनकी छवि पर पूरे देश में एक नकारात्मक चर्चा शुरू हुई है और ऐसे क़दम उठाकर वह अपने विरोधियों और आलोचकों को जवाब देना चाहते हैं कि वे अभी भी वही नीतीश कुमार हैं. 

भले भाजपा के साथ सरकार चला रहे हों लेकिन उन्हें अपने राज्य में मुसलमानों का ख़्याल रखना आता है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement