नीतीश कुमार की बिहार पुलिस को दो टूक, सब सुविधाएं दे रहे हैं तो अब कुछ तो करो!

सीएम नीतीश कुमार ने कहा- बिहार के पुलिस विभाग में गड़बड़ करने वालों के साथ नरमी नहीं बरती जाएगी

नीतीश कुमार की बिहार पुलिस को दो टूक, सब सुविधाएं दे रहे हैं तो अब कुछ तो करो!

बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने विधानसभा में गृह विभाग के बजट पर भाषण दिया.

खास बातें

  • नीतीश कुमार ने अपराधों के आंकड़ों को झुठलाने की कोशिश नहीं की
  • 15 अगस्त से हर थाने में क्राइम और जांच के लिए अलग-अलग अधिकारी
  • शराब का धंधा होने पर संबंधित अफसर की थाने में दस सालों तक पोस्टिंग नहीं
पटना:

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुरुवार को साफ साफ शब्दों में अपने पुलिस कर्मियों से कहा कि 'जब हम आपके लिए सब काम कर रहे हैं तब कुछ तो करोगे भाई.' नीतीश बिहार विधानसभा में गृह विभाग के बजट पर बोल रहे थे. उन्होंने अपने भाषण में कहा कि अब पुलिस विभाग में गड़बड़ करने वालों के साथ नरमी नहीं बरती जाएगी.

इस भाषण की खास बात यह रही कि जिन अपराधों, जैसे चोरी, हत्या या अपहरण जैसी वारदातों में वृद्धि हुई है, नीतीश ने उनके आंकड़ों को झुठलाने की कोशिश नहीं की बल्कि सदन में उनके विभाग द्वारा किए गए विश्लेषण को सामने रखा. नीतीश के अनुसार हत्याओं में वृद्धि जमीनी विवाद से ज़ुड़ी है. वहीं चोरी की घटनाओं में वृद्धि बंद पड़े घरों के कारण हो रही हैं. नीतीश के अनुसार अपहरण की घटनाओं में वृद्धि का आंकड़ा सर्वोच्च न्यायालय के बचपन बचाओ आंदोलन की याचिका पर एक फैसले के कारण बढ़ा है. नीतीश ने कहा कि अपराध उन्मूलन का दावा तो वे नहीं कर सकते लेकिन नियंत्रित करने के लिए हर उपाय जरूर कर रहे हैं.

नीतीश कुमार ने अपने भाषण में पंद्रह अगस्त से बिहार के हर थाने में क्राइम और उसकी जांच के लिए अलग-अलग अधिकारियों की व्यवस्था बहाल करने की घोषणा की. साथ ही उन्होंने कहा कि विधि व्यवस्था की स्थिति पहले से बेहतर है. उन्होंने गलत काम करने वाले पुलिस वालों को चेतावनी ज़रूर दी कि अब जिनके इलाके में शराब की खरीद-बिक्री होगी उनकी थाने में दस सालों तक पोस्टिंग नहीं होगी. साथ ही जिनके खिलाफ कोई विभागीय कार्रवाई चलेगी उनकी थाने में पोस्टिंग नहीं होगी.

बिहार : RSS की जांच पर बीजेपी नेता की नीतीश को नसीहत, क्यों घिनौनी राजनीति में पड़ रहे?

बृहस्पतिवार को चर्चा के दौरान नीतीश कुमार ने बार-बार विपक्षी दलों के सदस्यों से भी सुझाव मांगे. उन्होंने कहा कि अगर किसी के पास कोई सुझाव हो तो वे उनको उससे अवगत करा सकते हैं. हालांकि नीतीश कुमार के भाषण के अंतिम क्षण में राजद के सदस्यों ने बहिष्कार किया.

Newsbeep

VIDEO : बाढ़ प्रभावित एक लाख से अधिक लोग राहत शिविरों में

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com