NDTV Khabar

नीतीश कुमार की मुहिम को चार चांद लगाने वाली महिला को ही जिंदा जलाया गया

बेलागोपी गांव में एक शराब कारोबारी ने अपनी पत्नी व बेटी पर केरोसिन तेल उड़ेलकर जिंदा इसलिए जला दिया कि दोनों ने इस अवैध कारोबार में अपने परिवार के मुखिया का साथ नहीं दिया.

227 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
नीतीश कुमार की मुहिम को चार चांद लगाने वाली महिला को ही जिंदा जलाया गया

बिहार में पिता ने पत्नी और बेटी को जिंदा जलाया

पटना: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बिहार में शराबबंदी के फैसले को बिहार की महिलाओं की प्रमुख मांगों में से एक मानते रहे हैं. नीतीश के इस फैसले में महिलाओं ने अहम भूमिका भी निभाई, मगर नीतीश की इस मुहिम में साथ देने वाली महिला और बच्ची को जिन्दा जला दिया जाता है तो सरकार के लिए यह विचार करने वाला प्रश्न है.

स्कूल के चौकीदार ने 4 छोटे बच्चों पर शराब डालकर जिंदा जलाया, 40 लोग घायल

बिहार के मुजफ्फरपुर जिले के गायघाट थाने के बेलागोपी गांव में एक शराब कारोबारी ने अपनी पत्नी व बेटी पर केरोसिन तेल उड़ेलकर जिंदा इसलिए जला दिया कि दोनों ने इस अवैध कारोबार में अपने परिवार के मुखिया का साथ नहीं दिया. घर में पत्नी और बेटी को आग लगाने के बाद आरोपी फरार हो गया. घटना की जानकारी जब तक आस-पड़ोस के लोगों को मिलती तब तक महिला एवं बच्ची पूरी तरह झुलस चुकी थी. लोग इलाज के लिए उन्हें अस्पताल लेकर पहुंचे लेकिन तब तक उन दोनों की मौत हो चुकी थी.

टिप्पणियां
पश्चिम बंगाल में पैसे न देने पर बेटे ने बूढ़े पिता को जिंदा जला दिया, मां भी झुलसी

माधुरी देवी ने स्थानीय थाना अहियापुर में पुलिस को सुचना दी थी मगर पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की. मृतका की मां दिव्या देवी ने बताया कि मेरी बेटी माधुरी को हमेशा उसके पति गुलाब सिंह के द्वारा शराब खरीदने के लिए पैसे मांगे जाते थे, जिसका विरोध हमेशा मेरी बेटी एवं उसकी बच्ची किया करती थी. इसी को लेकर घर में हमेशा लड़ाई झगड़ा हुआ करता था.
 
आरोपी गुलाब सिंह एक शराबी है और शराब का कारोबार भी करता है. बिहार में शराबबंदी के बाद शराब की बोतलें दोगुने तिगुने दामों में मिलती हैं और कारोबारियों को इसमें अधिक मुनाफा होता है. गुलाब सिंह ने सोचा कि इस कारोबार में पीने को शराब भी मिल जाएगी और पैसा भी कमा लेंगे. इन दिनों शराब खरीदने में अधिक पूंजी की जरूरत के कारण अपने ससुराल वालों पर पैसे देने का दबाव बनाया करता था, जिसका विरोध उसकी पत्नी एवं बेटी किया करती थी. 
घटना के बाद मरने से पहले माधुरी देवी ने पुलिस को अपना बयान दर्ज कराया था. वहीं इस मामले में मायके वालों ने पति व ससुराल वालों पर हत्या का मामला दर्ज कराया है. मृतक की मां दिव्या देवी ने पुलिस को बताया कि माधुरी का पति शराबी है, शराब के धंधे का विरोध करने एवं रुपये नहीं मिलने पर घटना को अंजाम दिया है. दिव्या देवी ने माधुरी के पति गुलाब सिंह, गुड्डू सिंह, ससुर लक्ष्मी सिंह व सास को मामले में नामजद किया है. बताया जाता है की सभी आरोपी फरार हैं.
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement