NDTV Khabar

राफेल विवाद पर नीतीश कुमार की राय का देश को इंतजार : शिवानंद तिवारी

कहा- भ्रष्टाचार के मामले में नीतीश जी संभवत: सबसे संवेदनशील नेता, इस सवाल पर कई मर्तबा लीक से हटकर कदम उठाए

528 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
राफेल विवाद पर नीतीश कुमार की राय का देश को इंतजार : शिवानंद तिवारी

आरजेडी के नेता शिवानंद तिवारी (फाइल फोटो).

खास बातें

  1. शिवानंद तिवारी ने फेसबुक पर साझा की पोस्ट
  2. कहा- महागठबंधन में रहते हुए नोटबंदी का समर्थन किया था
  3. भ्रष्टाचार को ही आधार बनाकर नीतीश लालू से अलग हुए थे
नई दिल्ली:

आरजेडी नेता शिवानंद तिवारी ने कहा है कि राफेल विवाद पर नीतीश जी की राय क्या है. यह जानने के लिए देश इंतजार कर रहा है.

शिवानंद तिवारी ने फेसबुक पर साझा की गई एक पोस्ट में कहा है कि भ्रष्टाचार के मामले में नीतीश जी संभवत: सबसे संवेदनशील नेता माने जाएंगे. इस सवाल पर कई मर्तबा लीक से हट कर कदम उठाया है. स्मरण होगा कि महागठबंधन में रहते हुए उन्होंने नोटबंदी का समर्थन किया था. जबकि गठबंधन के अन्य सभी घटक दलों ने नोटबंदी का विरोध किया था. नोटबंदी से कालाधन समाप्त होगा. भ्रष्टाचार नियंत्रित होगा. नरेंद्र मोदी जी के इस वादे पर नीतीश जी ने यकीन किया था. यही आधार बनाकर उन्होने नोटबंदी का समर्थन किया था.

यह भी पढ़ें :  आयुष्मान योजना को लेकर नीतीश कुमार ने पीएम मोदी को दिया सुझाव, कहा...


तिवारी ने कहा है कि भ्रष्टाचार को ही आधार बनाकर नीतीश जी लालू जी से अलग हुए थे. सिर्फ अलग ही नहीं हुए थे. बल्कि जिन नरेंद्र मोदी की विभाजनकारी राजनीति के विरुद्ध 2014 का लोकसभा का चुनाव लड़े. महागठबंधन बनाकर जिनको 2015 के विधानसभा चुनाव में बुरी तरह पराजित किया था. पुन: उनके पास जाने के लिए भ्रष्टाचार को ही उन्होंने आधार बनाया था. भ्रष्टाचार के मुकाबले विभाजनकारी राजनीति को तरजीह दिया. यह असाधारण कदम था. अपनी संपूर्ण राजनीतिक पूंजी को नीतीश जी ने दांव पर लगा दिया था. विचारधारा उनके लिए गौण हो गई, भ्रष्टाचार प्रमुख हो गया. इसीलिए राफेल विवाद पर नीतीश जी की राय का देश बेसब्री से इंतजार कर रहा है.

टिप्पणियां

VIDEO : नीतीश ने बढ़ाईं बीजेपी की मुश्किलें

तिवारी ने कहा कि हम यह नहीं कह रहे हैं कि नीतीश जी जहां हैं वहां से बाहर आ जाएं. लेकिन भ्रष्टाचार के विरुद्ध अपना झंडा सबसे ऊंचा रखने का दावा करने वाले नीतीश जी से इस प्रकरण की स्वतंत्र जांच की मांग की अपेक्षा तो की ही जा सकती है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement