NDTV Khabar
होम | बिहार

बिहार

  • बिहार में बाढ़ के बाद अब डेंगू बनी बड़ी समस्या, 1400 से ज्यादा मामले आए सामने
    बता दें कि प्रशासन की तरफ से जारी आंकड़ों के अनुसार राज्यभर में डेंगू से प्रभावित मरीजों में 20 फीसदी मरीज की उम्र 17 साल या इससे कम है. राज्य सरकार की तरफ से खासतौर पर छात्रों के लिए एक एडवाइजरी भी जारी की गई है. जिसमें उनसे पूरे बाजू का शर्ट पहनने को कहा गया है. 
  • Bihar by election 2019: सुशील मोदी का दावा, उपचुनाव में एनडीए सभी सीटों पर जीतेगी
    बिहार की जिन पांच विधानसभा और एक लोकसभा सीटों पर उपचुनाव होना है, उसमें बिहार में एनडीए के दो शीर्ष नेता मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी संयुक्त रूप से प्रचार अभियान की कमान संभालेंगे. नीतीश और सुशील मोदी गुरुवार को दरौंदा और किशनगंज विधानसभा सीट के अलावा समस्तीपुर लोकसभा सीट पर संयुक्त चुनावी सभा को सम्बोधित करेंगे.
  • RJD नेता तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार पर साधा निशाना, बोले- बेशर्मों की धूर्तता देखिये...
    आरजेडी नेता तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) ने नीतीश कुमार सरकार पर निशाना साधा है. तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर कहा, 'भ्रष्टाचार में मस्त, छल-कपट में व्यस्त बेशर्मों की धूर्तता और नग्नता देखिए. जिन भ्रष्ट नेताओं ने सीवर, ड्रेनेज सिस्टम, स्मार्ट सिटी, नमामि गंगे के हज़ारों करोड़ बिना डकार लिए हज़म कर लिए वही नीतीश-सुशील मोदी के लोग इसकी जांच करेंगे. वाह सुशासन बाबू! वाह..'
  • पटना जल जमाव के जांच के लिए समिति के गठन का मामला : सुशील मोदी ने नीतीश सरकार की लाज बचाई
    पटना में जलजमाव क्यों हुआ इसकी जांच के लिए बनाई गई समिति को लेकर उठे विवाद के बाद अब खबर आ रही है कि उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी को जैसे ही इस आदेश के बारे में पता चला उन्होंने नगर विकास विभाग के प्रधान सचिव से जानकारी ली और साफ़ कहा कि कि ये जांच दल काम शुरू नहीं करेगा.
  • नीतीश सरकार का 'अजीब' फैसला, पटना की दुर्दशा के 'जिम्मेदार' ही करेंगे जांच
    बिहार की राजधानी पटना में जलजमाव (Patna Flood) से राज्य के नगर विकास विभाग की पोल खुल गई है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने 14 वर्षों के शासनकाल में किस प्रकार से अर्बन प्लानिंग की उपेक्षा की है इसका भी नजारा इस बाढ़ में दिखा है. लेकिन राज्य सरकार ने इस अभूतपूर्व जलजमाव से कुछ ना सीखा और न ही कुछ सबक़ लेना चाहती है.
  • पटना में जल जमाव : नेताओं के एक वर्ग ने लोगों की सेवा की, दूसरे वर्ग ने वोट पाने की रणनीति बनाई
    बिहार की राजधानी पटना में जल जमाव से दो तरह के नेता जनता के सामने आए हैं. एक जिन्होंने इस जल जमाव के बहाने वोट मिले या नहीं, इसकी परवाह किए बिना जनता की ख़ूब सेवा की और वाहवाही भी बटोरी. इन नेताओं में पूर्व सांसद पप्पू यादव, केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद रहे. दूसरे वे नेता जो पानी में तो जनता के बीच नहीं दिखे लेकिन पानी के बहाने सरकार, खासकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को घेरने में कोई कसर नहीं छोड़ी. ऐसे नेताओं में केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह, बिहार भाजपा के अध्यक्ष संजय जयसवाल और विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव प्रमुख थे.
  • आखिर क्यों  बिहार में JDU और BJP के रिश्ते सामान्य नहीं हो रहे हैं
    बिहार में सत्तारूढ़ एनडीए में सब शांत हैं लेकिन सब कुछ असामान्य है. ऐसा पिछले एक हफ़्ते के दौरान भाजपा के नेताओं ख़ासकर केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह द्वारा जलजमाव के बहाने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को 'पानी -पानी' करने के उद्देश्य से जो हर दिन बयानों और ट्वीट का दौर चला था वह भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा के हस्तक्षेप के बाद फ़िलहाल थम गया है.
  • बिहार से राज्यसभा उपचुनाव में निर्विरोध निर्वाचित हुए भाजपा प्रत्याशी सतीश चंद्र दुबे
    राजग प्रत्याशी की जीत पक्की होने के चलते बिहार में विपक्षी महागठबंधन में शामिल राजद ने राज्यसभा की इस सीट के लिए अपने किसी उम्मीदवार को मैदान में नहीं उतारा था. हालांकि शुरुआत में ऐसी अटकलें लगायी जा रही थीं कि इस सीट से जदयू अपना उम्मीदवार खड़ा करना चाहेगी.
  • सुशील मोदी ने दी सफाई, देशद्रोह के मुकदमे से कोई वास्ता नहीं; बीजेपी ने कभी भीड़ की हिंसा का समर्थन नहीं किया
    बिहार के मुजफ्फरपुर में एक शिकायत के बाद स्थानीय कोर्ट के आदेश पर देश की जानी मानी 49 हस्तियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई और फिर पुलिस जांच में शिकायत झूठी पाई गई. एफआईआर दर्ज होने पर बिहार की एनडीए सरकार की जमकर आलोचना होती रही. पुलिस के शिकायत झूठी पाई जाने का खुलासा करने के पहले बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने इस पर सफाई दी कि राज्य सरकार का इससे कोई लेना देना नहीं है. सुशील मोदी ने दावा किया है कि उसी याचिकाकर्ता सुधीर ओझा ने कुछ वर्ष पूर्व उनके खिलाफ भी शिकायत दर्ज कराई थी.
  • PM मोदी को चिट्ठी लिखने वालीं 49 मशहूर हस्तियों को राहत, राजद्रोह के मामले की शिकायत झूठी पाई गई
    देश के उन 49 बुद्धिजीवी लोगों, जिनके खिलाफ मुजफ्फरपुर के एक कोर्ट ने एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया था, के लिए अब एक अच्छी खबर आई है. बिहार पुलिस ने इस मामले को असत्य पाया है. इस केस का सुपरवीजन खुद मुजफ्फरपुर के एसएसपी मनोज कुशवाहा ने किया. उन्होंने इस पूरे मामले को तथ्यहीन, आधारहीन, साक्ष्यविहीन और दुर्भावनापूर्ण बताया है. बिहार पुलिस के एडीजी मुख्यालय जितेंद्र कुमार ने कहा कि इस मामले के शिकायतकर्ता सुधीर ओझा के खिलाफ आईपीसी के धारा 182/211 के तहत कार्रवाई का भी आदेश दिया गया है.
  • अमिताभ बच्चन ने बिहार के बाढ़ पीड़ितों के लिए भेजी लाखों की मदद, सुशील मोदी को सौंपा गया चेक
    बाढ़ की त्रासदी झेल रहे बिहार को सुपर स्टार अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) ने 51 लाख रुपये की आर्थिक मदद दी है. उन्होंने यह मदद बिहार के मुख्यमंत्री राहत कोष को दी है. हिन्दी सिनेमा जगत के नामी अभिनेता अमिताभ बच्चन ने बिहार के लिए मदद राशि का चेक अपने प्रतिनिधि के माध्यम से पटना भेजा. बुधवार को सहायता राशि का चेक बिहार सरकार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी को सौंपा गया. बिहार भारी वर्षा और बाढ़ के कारण कठिन हालात से गुजर रहा है. बिहार में बारिश और बाढ़ से संबंधित विभिन्न घटनाओं में करीब सौ लोगों की मौत हो चुकी है. लोगों को भारी नुकसान झेलना पड़ा है.
  • नीतीश कुमार को निशाना बनाते रहे गिरिराज सिंह आखिर शांत क्यों हो गए? यह है कारण
    केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह (Giriraj Singh) अपने पार्टी हाई कमान की फटकार के बाद पिछले दो दिनों से शांत हैं. भाजपा के सूत्रों के अनुसार पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने फिलहाल उन्हें कोई भी ऐसा बयान देने से मना किया है जिससे गठबंधन पर प्रतिकूल असर पड़े. गिरिराज और उनकी तरह के बिहार भाजपा के अन्य नेता जो जल जमाव के बहाने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) को पानी-पानी करने में लगे थे, अब सब या तो मौन हैं, या शांत हैं. हालांकि बिहार भाजपा के कद्दावर नेता और उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी के करीबियों का हमेशा दावा था कि गिरिराज की अपनी सरकार को घेरने की इस मुहिम को पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व का कोई समर्थन प्राप्त नहीं था.
  • BJP-JDU नेताओं में मचे घमासान पर तेजस्वी का हमला- 'NDA ने बिहार को सर्कस बना दिया और ये लोग कुत्ते-बिल्ली की तरह...'
    बिहार में बाढ़ और भारी बारिश के बाद हुए जल जमाव को लेकर सियासत जारी है. सरकार की सहयोगी दल BJP के कुछ नेता भी इसे लेकर नीतीश कुमार पर हमलावर हैं. उधर, इसी कड़ी में आज प्रमुख विपक्षी दल राजद (RJD) ने NDA गठबंधन वाले नीतीश कुमार (Nitish Kumar) की सरकार पर हमला बोला है.
  • राजद नेता जगदानंद सिंह ने अब नीतीश कुमार से सवाल पूछे
    राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के वरिष्ठ नेता जगदानंद सिंह ने बाढ़ और जलजमाव से जूझते बिहार को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से कई सवाल किए हैं. 'पटना और बिहार में आई बाढ़ की त्रासदी का सच' शीर्षकयुक्त एक बयान में कहा, 'नीतीश जी, पटना में जलजमाव या जलभराव पर पत्रकारों द्वारा पूछे गए सवालों पर आपको आश्चर्यजनक जवाब देते सुना था, लेकिन इंतज़ार करना बेहतर समझा, ताकि आप कष्ट में पड़ी आबादी को समस्या से निजात दिलवा सकें... पटना के लोग अब भी कष्ट में हैं, हालांकि पानी अधिकांश इलाकों से निकाला जा चुका है या निकासी के अंतिम चरण में है... सो, मैं आपसे या आपके माध्यम से निम्न बातें जानना चाहता हूं, जिनके जवाब यदि आप दे सकें, तो लोगों को सच्चाई मालूम होगी...'
  • क्या BJP-JDU के बीच दरार? रावण दहन में CM नीतीश तो पहुंचे लेकिन खाली रही भाजपा नेताओं की कुर्सियां
    लेकिन इस दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ किसी भाजपा नेता के मंच पर मौजूद नहीं होने से राज्य में राजग में दरार पड़ने की अटकलें फिर से लगाई जाने लगी हैं. ऐतिहासिक गांधी मैदान में वर्षों से ‘रावण वध’ किया जा रहा है लेकिन इस बार यहां भीड़ अपेक्षाकृत कम रही.
  • जेडीयू-बीजेपी में सब कुछ ठीक नहीं, आखिर पटना में भाजपा नेता रावण वध कार्यक्रम से अलग क्यों रहे?
    बिहार में सत्तारूढ़ NDA के दो घटक जनता दल यूनाइटेड और भारतीय जनता पार्टी के बीच सब कुछ ठीक नहीं चल रहा. इसका एक उदाहरण मंगलवार को पटना के गांधी मैदान में देखने को मिला जब हर साल आयोजित होने वाली रावण वध कार्यक्रम में वो चाहे बिहार के राज्यपाल हों या उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी या भारतीय जनता पार्टी के स्थानीय विधायक, कोई नहीं दिखा.
  • जलजमाव मामले पर आलोचनाओं का सामना कर रहे CM नीतीश कुमार को लेकर क्या बिहार BJP बंट गई?
    नीतीश की आलोचना के बहाने कई नेताओं ने अपना राजनीतिक एजेंडा भी खुल कर सामने रख दिया. जहां नीतीश कुमार के समर्थन में बिहार भाजपा के दो वरिष्ठ नेता सुशील मोदी और नंद किशोर यादव एक बार फिर खड़े दिखे. वहीं केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने नीतीश कुमार का खुलकर विरोध किया, जो राजनीतिक ताना बाना पिछले एक महीने से बुनना शुरू किया था. उन्होंने अपने विरोध के पत्ते सरकार की आलोचना के नाम पर एक बार फिर खुल कर खेले. इसमें उन्हें बिहार के नगर विकास मंत्री सुरेश शर्मा और बिहार भाजपा के नव नियुक्त अध्यक्ष संजय जयसवाल का भी साथ मिला.
  • 16 दिन की बच्ची को पिता ने जमीन पर पटककर कर दी हत्या, वजह जानकर रह जाएंगे हैरान
    थाना प्रभारी रंजन कुमार ने सोमवार को बताया कि कोरमा थाना क्षेत्र के कुरौनी गांव के रहने वाले सोहराज चौधरी ने अपनी पत्नी से शराब पीने के लिए पैसे मांगे थे, लेकिन उसने पैसे देने से इनकार कर दिया.
  • पटना में बाढ़ हुई कम, लेकिन बीजेपी-जेडीयू के बीच 'पानी सिर के ऊपर'
    बिहार की राजधानी पटना में बाढ़ के बाद बीजेपी और जेडीयू  में ही आपसी टकराव बढ़ता जा रहा है. बीजेपी की ओर से केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह जहां मोर्चा संभाले हुए वहीं अभी तक जेडीयू ने चुप्पी साध रखी थी लेकिन अब ऐसा लग रहा है कि संजय कुमार झा ने मोर्चा संभाल लिया है.
  • बिहार के CM नीतीश कुमार फिर से जद(यू) के निर्विरोध अध्यक्ष चुने गए
    केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह सहित भाजपा के कई नेताओं ने राज्य में, खासतौर पर पटना में आई हालिया बाढ़ से निपटने में सरकार की अक्षमता सहित विभिन्न मुद्दों को लेकर उनके नेतृत्व की आलोचना है. इसके अलावा भाजपा के एक अन्य नेता एवं विधान परिषद सदस्य (एमएलसी) संजय पासवान ने यह मांग की है कि नीतीश कुमार मुख्यमंत्री पद के लिए अब भगवा पार्टी के किसी नेता का मार्ग प्रशस्त करें.
«45678910»

Advertisement