NDTV Khabar
होम | बिहार

बिहार

  • बिहार के CM नीतीश कुमार फिर से जद(यू) के निर्विरोध अध्यक्ष चुने गए
    केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह सहित भाजपा के कई नेताओं ने राज्य में, खासतौर पर पटना में आई हालिया बाढ़ से निपटने में सरकार की अक्षमता सहित विभिन्न मुद्दों को लेकर उनके नेतृत्व की आलोचना है. इसके अलावा भाजपा के एक अन्य नेता एवं विधान परिषद सदस्य (एमएलसी) संजय पासवान ने यह मांग की है कि नीतीश कुमार मुख्यमंत्री पद के लिए अब भगवा पार्टी के किसी नेता का मार्ग प्रशस्त करें.
  • PM मोदी को खत लिखने वाले हस्तियों के खिलाफ मुकदमा कोर्ट के आदेश पर हुआ, सरकार का लेना देना नहीं: बिहार पुलिस प्रमुख
    पीएम मोदी के नाम जुलाई में खुला खत लिखने वाली 49 हस्तियों के खिलाफ मुकदमे से बिहार सरकार का कोई लेना-देना नहीं है. राज्य के पुलिस प्रमुख गुप्तेश्वर पांडे (Guptesvar Pandey) ने NDTV को बताया कि यह अदालत के आदेश के बाद किया गया था और इसे लेकर पैनिक होने की कोई वजह नहीं थी. बता दें कि इन लोगों के खिलाफ दायर हुए मुकदमे पर बड़ा बवाल हुआ था.  
  • जल जमाव को लेकर 'अपनों' के निशाने पर आए नीतीश को मिला सुशील मोदी का साथ, आलोचकों को यूं दिया जवाब...
    बिहार में भारी बारिश के बाद हुए जल जमाव को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) निशाने पर हैं. नीतीश कुमार को हमला बोलने वालों में सरकार की सहयोगी BJP के नेता और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह (Giriraj Singh) भी शामिल हैं. उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी को अच्छी तरह मालूम है कि गिरिराज सिंह ने जल जमाव के बहाने नीतीश कुमार को 'पानी-पानी' करने का जो अभियान शुरू किया है, उसके निशाने पर वह भी हैं. रविवार को नीतीश कुमार के जनता दल यूनाइटेड (JDU) के राष्ट्रीय अध्यक्ष फिर से चुने जाने पर सुशील मोदी (Sushil Modi) ने न केवल ट्वीट कर उन्हें बधाई दी, बल्कि तारीफ़ में जो कहा वो शायद गिरिराज और उनके समर्थकों को नागवार गुज़रेगा.
  • NDA से JDU के मनमुटाव की खबरों के बीच, तेजस्वी यादव ने कहा-नीतीश के लिये गठबंधन के दरवाजे...
    राष्ट्रीय जनता दल (राजद) नेता ने पीटीआई भाषा को दिये एक साक्षात्कार में नीतीश पर प्रहार करते हुए कहा कि उन्होंने राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) और भाजपा को अपना जनाधार बढ़ाने में मदद की और धर्मनिरपेक्ष एवं समाजवादी राजनीति को जोखिम में डाल दिया. 
  • Bihar: बाढ़ के बाद महामारी की आशंकाओं के बीच अस्पताल अलर्ट पर, जारी किए टोल फ्री नंबर
    पूरे प्रदेश में डेंगू और चिकनगुनया से प्रभावित लोगों की संख्या 900 के पार पहुंच गई है. जिसमें अकेले पटना में क़रीब 520 मामले हैं. शनिवार को डेंगू के 120 मामले पॉजिटिव पाए गए. जबकि चिकनगुनिया के भी 70 से ज़्यादा मामले सामने आ चुके हैं. महामारी की आशंकाओं के बीच बिहार सरकार ने सभी अस्पतालों को अलर्ट पर रखते हुए सभी सुविधाओं को जनता के लिए उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं.
  • राम विलास पासवान ने की नीतीश की तारीफ, राज्य के मुखिया के तौर पर आपने सुशासन की नयी परिभाषा लिखी है
    बिहार के मुख्य मंत्री  नीतीश कुमार के लिए कुछ राहत की ख़बर है. जहां एक ओर पटना में जल जमाव को लेकर वो अपनी ही सहयोगी पार्टी बीजेपी के एक गुट के नेताओं की आलोचना का सामना कर रहे हैं तो वहीं एक और सहयोगी लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान उनके बचाव में आए हैं.   हालांकि पासवान ने पटना का जल जमाव का कोई ज़िक्र तो नहीं किया लेकिन उन्होंने शनिवार को एक ट्वीट कर ज़रूर कहा कि राज्य के मुखिया के तौर पर आपने (नीतीश कुमार) सुशासन की नयी परिभाषा लिखी है.
  • बिहार में बाढ़ और बारिश के बाद अब डेंगू-चिकनगुनिया की मार, मरीजों की संख्या 900 के पार पहुंची
    बिहार में बाढ़, बारिश और जल जमाव से बुरे हालात हैं. राज्य में 160 से ज़्यादा लोगों की मौत हो चुकी है जबकि अब महामारी का ख़तरा मंडरा रहा है. पूरे प्रदेश में डेंगू और चिकनगुनया से प्रभावित लोगों की संख्या 900 के पार पहुंच गई है. जिसमें अकेले पटना में क़रीब 520 मामले हैं. शनिवार को डेंगू के 120 मामले पॉजिटिव पाए गए. जबकि चिकनगुनिया के भी 70 से ज़्यादा मामले सामने आ चुके हैं. वहीं पटना में हुई बाढ़ से दुदर्शा के बाद चारो ओर से घिरे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान का साथ मिला है.  हालांकि पासवान ने पटना का जल जमाव का कोई ज़िक्र तो नहीं किया लेकिन उन्होंने शनिवार को एक ट्वीट कर ज़रूर कहा कि राज्य के मुखिया के तौर पर आपने सुशासन की नयी परिभाषा लिखी है.   
  • भाजपा जलजमाव के बहाने आख़िर नीतीश कुमार को निशाने पर क्यों रख रही है?
    बिहार की राजधानी पटना में जलजमाव के बहाने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को जितना विपक्षी राष्ट्रीय जनता दल (राजद) की आलोचना का सामना नहीं करना पड़ रहा है उससे कहीं अधिक आलोचना उनको अपने सहयोगी भाजपा के नेताओं की झेलनी पड़ रही है जिसका नेतृत्व केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह कर रहे हैं.
  • पटना की मेयर जलजमाव के मुद्दे पर संवाददाता सम्मेलन में क्यों पानी पानी हो गयीं? देखें VIDEO
    पटना शहर में जल जमाव को लेकर प्रभावित इलाकों में सभी जनप्रतिनिधियों के खिलाफ गुस्‍सा है फिर चाहे वो मंत्री हों, विधायक या मेयर. इसका अंदाज़ा इन सबों को है लेकिन अब अपनी गलतियों को स्वीकार करने की बजाय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर सारा ठीकरा फ़ोड़ने की एक रणनीति के तहत ये लोग बारी-बारी से संवादाता सम्मेलन कर रहे हैं.
  • Bihar Floods: पटना में अब भी कई जगह जलजमाव, अब डेंगू और चिकनगुनिया का बढ़ा खतरा
    राजधानी पटना में बारिश थमने के बाद भी कई इलाकों में अभी भी पानी जमा है. कुछ इलाकों में पानी निकाला गया है जहां अब महामारी का ख़तरा बन गया है.
  • JDU ने केंद्रीय मंत्री पर किया पलटवार, कहा- क्या नीतीश कुमार के पैरों की धूल भी हैं गिरिराज सिंह?
    बिहार की राजधानी पटना में आम लोग जलजमाव की समस्या से जूझ रहे हैं लेकिन केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह (Giriraj Singh) और जनता दल यूनाइटेड (JDU) के बीच वाक युद्ध थमने का नाम नहीं ले रहा है. हालांकि अब लगता है कि जनता दल यूनाइटेड के नेताओं ने गिरिराज (Giriraj Singh) के हर ट्वीट और बयान का जवाब देने की ठान ली है.
  • राज्यसभा की जो सीट नीतीश कुमार देना चाहते थे केसी त्यागी को उसे अमित शाह ने बातचीत कर दी सतीश दुबे को
    पूर्व सांसद सतीश दूबे अब राज्यसभा के सदस्य होंगे. वह पहले वाल्मीकि नगर से सांसद थे और उनकी सीट जनता दल यूनाइटेड से समझौते में चली गयी थी. सतीश दूबे ने अपना नामांकन शुक्रवार को भरा और उनका निर्वाचित होना तय है. लेकिन भाजपा सूत्रों के अनुसार ये सीट जो आरजेडी के सांसद राम जेठमलानी के मौत के बाद खाली हुई थी.
  • पटना की ऐसी दुर्दशा करने का आखिर कौन है जिम्मेदार? क्या यही हैं वो 6 'खलनायक'
    पटना शहर में बहुत कुछ विचित्र हो रहा है. शहर में एक हफ़्ते में केंद्र, राज्य और अन्य एजेंन्सी मिलकर भी बारिश के जमा पानी निकाल नहीं पाये हैं. आपको जानकर हैरानी होगी कि न पटना नगर निगम और न पानी निकालने का ज़िम्मा जिस  एजेंसी को दिया गया है उसके पास शहर के नालों का कोई नक़्शा है.  हद तो तब हो गई शहर के रख रखाव और बाहर से पानी की निकासी कैसे हो जिसका ज़िम्मा जिन लोगों के ऊपर था वे ही अब आक्रमक तरीके से दोषियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई हो राग छेड़ दिया है. मतलब आप ठीक समझे जो BJP के नेता हैं ख़ासकर बिहार BJP के नवनियुक्त अध्यक्ष संजय जयसवाल पटना कि मेयर सीता साहू ये अब मांग कर रहे हैं कि दोषियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई हो जबकि उन्हें मालूम है कि अधिकांश दोषी कोई और नहीं इनके अपने मंत्री विधायक और मेयर हैं जिन्होंने अपना काम और दायित्व ठीक से नहीं निभाया. 
  • गिरिराज सिंह ने दी नीतीश सरकार को नसीहत, कहा- बिहार में एक पार्टी की नहीं है सरकार, जहां गलत होगा वहां हम बोलेंगे
    बिहार के दरभंगा पहुंचे केंद्र सरकार के मंत्री गिरिराज सिंह ने लहेरियासराय के गोविंदपुर में एक पूजा पंडाल में न सिर्फ मां दुर्गा की आरती में शामिल हुए बल्कि वहां फलाहार भी किया और बिहार में खुशहाली और समृद्धि की मां से आराधना की. उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि देश अदृश्य शक्ति से चलता है. वह अदृश्य शक्ति देवी दुर्गा, कृष्ण और अन्य देवी देवताओं की है और इस शक्ति का महत्त्व समाज में भी स्वीकारा गया है. बिहार सरकार द्वारा पटना में रामलीला बंद करने पर गिरिराज सिंह ने बिहार सरकार के फैसले को अनुचित बताते हुए कहा कि यह फैसला सरकार ने कैसे ले लिया, यह उनकी समझ से परे है.
  • सड़कों पर पानी भरने से पटना की जनता परेशान, JDU और BJP के नेता एक-दूसरे पर डाल रहे जिम्मेदारी
    इस बात में कोई संदेह नहीं कि बिहार की राजधानी पटना अगर पिछले 7 दिन से जल जमाव से परेशान और तबाह है तो मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी समेत सभी लोग जिम्मेदार हैं. लेकिन दोनो दलों के नेताओं के बीच अब बयानों के माध्यम से जो हो रहा है, उससे तो लगता है कि जनता के बीच एक दूसरे को विलेन घोषित करने के लिए ये कोई मौका नहीं गंवाना चाहते. सबसे पहले जल जमाव के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को जिम्मेदार ठहराने का सिलसिला भाजपा की तरफ से शुरू हुआ और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने इसकी शुरुआत की.
  • आखिरकार दिखे तेजस्वी यादव, लेकिन अपने जीजाजी के साथ रेवाड़ी में
    बिहार की राजधानी पटना में लाखों लोग जल जमाव से पिछले पांच दिन से परेशान हैं लेकिन विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव एक बार भी लोगों की सुध लेने नहीं पहुंचे. उनकी पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के नेता भी उनकी हर त्रासदी की स्थिति में गायब रहने की आदत से परेशान हैं. वे लोगों के सवालों पर किनारा करते दिखते हैं. तेजस्वी यादव के बारे में बृहस्पतिवार को उनके जीजाजी चिरंजीव राव ने एक ट्वीट में बताया कि वे उनके नामांकन में साथ हैं. उन्होंने साथ में नामांकन जमा करते हुए उनका फोटो भी ट्वीट किया.
  • पटना में फिर दो दिनों के लिए आ सकता है बारिश का दौर, मौसम विभाग ने कहा घबराने की जरूरत नहीं
    बिहार की राजधानी पटना में पानी तो घट रहा है लेकिन बाढ़ जैसे हालात बने हुए हैं. वहीं मौसम विभाग ने भी दो दिन तक बारिश का अलर्ट जारी किया है. हालांकि मौसम विभाग ने यह भी कहा है कि बारिश बहुत तेज नहीं होगी इसलिए किसी को भी घबराने की जरूरत  नहीं है.
  • UP में बारिश की वजह से छह और लोगों की मौत, Bihar में मृतकों की संख्या बढ़कर 55 हुई
    मौसम विभाग ने गुरुवार को उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में हल्की बारिश की भविष्यवाणी की है. इससे पहले मौसम विभाग ने बुधवार को बताया कि कुंडा (प्रतापगढ) में सबसे अधिक 13 सेंटीमीटर बारिश हुई. मंझानपुर (कौशाम्बी) में दस, बांदा में छह, डलमउ, बिन्दकी, फतेहपुर और कर्वी में पांच-पांच सेंटीमीटर, महोबा में 11, झांसी में सात और उरई में छह सेंटीमीटर बारिश रिकार्ड की गई. 
  • पटना में जलजमाव को लेकर बोले केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह- जो बाढ़ आया उसके लिए जनता नहीं हम जिम्मेदार
    बेगूसराय में बुधवार को पत्रकारों से बात करते हुए गिरिराज ने कहा ''मैं बेगूसराय से जनप्रतिनिध हूं अगर यहां कुछ नहीं होता है तो कमियों को हम स्वीकारेंगे और जनता से क्षमा याचना करेंगे. राजग का हिस्सा होने के साथ पटना में भी भाजपा के कई सांसद हैं और वहां की जनता ने हमपर भरोसा किया. जो बाढ़ आया उसके लिए जनता नहीं हम जिम्मेदार हैं.
  • नीतीश ने माना कि पंपिंग हाउसों के काम न करने से जल जमाव था, कहा- अब पटना को सुधार देंगे
    मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को माना कि पटना के पंपिंग हाउस काम नहीं कर रहे थे, लेकिन साथ ही उन्होंने वादा किया कि अब पटना को सुधार देंगे. बिहार की राजधानी पटना पिछले पांच दिनों से रिकॉर्ड बरसात के कारण जल जमाव की समस्या झेल रही है. इसके कारण पटना साहिब में रहने वाले लाखों लोगों का जीवन अस्त व्यस्त हो गया है. जल जमाव का एक बड़ा कारण शहर में जल निकासी के पंपिंग स्टेशन का काम नहीं करना बताया जा रहा है. ख़ुद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को स्वीकार किया कि सभी पंपिंग हाउस काम नहीं कर रहे थे. मंगलवार देर शाम से ही अधिकांश ने काम करना शुरू किया जिससे कि जल निकासी का काम भी आखिरकार प्रारंभ हो पाया.
«5678910»

Advertisement