Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

पटना : तेजस्वी यादव ने जिस सरकारी बंगले को छोड़ा वह सेवन स्टार होटल की तरह!

बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने बंगले में प्रवेश किया तो शानोशौकत देखकर भौंचक्के हो गए

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पटना : तेजस्वी यादव ने जिस सरकारी बंगले को छोड़ा वह सेवन स्टार होटल की तरह!

पटना में वह सरकारी बंगला जिसमें तेजस्वी यादव रहा करते थे.

खास बातें

  1. डिप्टी सीएम सुशील मोदी को आवंटित किया गया है सरकारी बंगला
  2. मोदी ने कहा- प्रधानमंत्री आवास भी इस बंगले की साज सज्जा के सामने बौना
  3. कहा- सजावट पर सरकार ने कम से कम पांच करोड़ रुपये खर्च किए होंगे
पटना:

बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने मंगलवार को उस बंगले में प्रवेश किया जो पहले तेजस्वी यादव के नाम से आवंटित था. सुशील मोदी ने बंगले की साज-सज्जा को देखकर उसे सेवन स्टार होटल से भी बेहतर माना.

हालांकि सुशील मोदी ने सफाई दी कि वे इस बंगले में नहीं रहेंगे क्योंकि नींद उन्हें अभी भी अपने पटना के राजेंद्र नगर में स्थित पैतृक घर में ही आती है. उन्होंने माना कि इस बंगले को देखकर वे दंग रह गए.

सुशील मोदी का इस बंगले में प्रवेश सर्वोच्च न्यायालय के उस फैसले के बाद हुआ है जिसमें तेजस्वी यादव की इस बंगले को विपक्ष के नेता के रूप में आवंटित करने की याचिका खारिज की. तेजस्वी पर 50 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है.

UP के बाद अब बिहार के पूर्व मुख्यमंत्रियों को भी नहीं मिलेगी आजीवन सरकारी बंगला और गाड़ी की सुविधा


सुशील मोदी जो कई बार प्रधानमंत्री आवास भी जा चुके हैं, का कहना है कि प्रधानमंत्री आवास तो इस बंगले की साज सज्जा के सामने बौना है. और मुख्यमंत्री आवास तो काफी फीका. मोदी जो बिहार के वित्त मंत्री भी हैं, का अपना अनुमान है कि इस बंगले में जो पाइल्स फर्नीचर और फिटिंग लगी है उस पर सरकार ने कम से कम पांच करोड़ रुपये जरूर खर्च किए होंगे. उनका कहना है कि कहीं इसी बात का डर था कि भेद न खुल जाए, इसलिए तेजस्वी यादव को इस बंगले से मोह हो गया था. लेकिन ऐसी शान शौकत से रहने की आदत से उन्हें बचना चाहिए था.

VIDEO : तेजस्वी यादव की सवर्ण आरक्षण यात्रा

टिप्पणियां

मोदी ने कहा कि कोई भी मंत्री या विधायक अगर इस बंगले में आएगा तो वह हक्का-बक्का रह जाएगा. उन्होंने कहा कि जो ऑफिस बनाया गया है, उसका वे भरपूर इस्तेमाल करेंगे.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... 15 दस्तावेज देकर भी खुद को भारतीय साबित नहीं कर पाई असम की जाबेदा, कानूनी लड़ाई में खो बैठी सब कुछ

Advertisement