NDTV Khabar

बिहार: सृजन घोटाले का मामला न्यायालय पहुंचा, सीबीआई से जांच कराने के लिए याचिका दायर

बिहार के भागलपुर जिले में सरकारी राशि के फर्जीवाड़े का मामला अब पटना उच्च न्यायालय तक पहुंच गया है

1405 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
बिहार: सृजन घोटाले का मामला न्यायालय पहुंचा, सीबीआई से जांच कराने के लिए याचिका दायर

पुलिस का दावा है कि यह गोरखधंधा वर्ष 2009 से ही चल रहा था...

पटना: बिहार के भागलपुर जिले में सरकारी राशि के फर्जीवाड़े का मामला अब पटना उच्च न्यायालय तक पहुंच गया है. इस 700 करोड़ रुपये से ज्यादा की सरकारी राशि के कथित घोटाले की जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से कराने की मांग को लेकर बुधवार को पटना उच्च न्यायालय में एक जनहित याचिका दायर की गई. भागलपुर के सबौर स्थित स्वयंसेवी संस्था सृजन महिला विकास सहयोग समिति के बैंक खाते में सरकारी योजनाओं के पैसे रखने के मामले में पटना उच्च न्यायालय के अधिवक्ता मणिभूषण प्रताप सेंगर ने उच्च न्यायालय में एक जनहित याचिका दायर कर इस मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की है. 

सेंगर ने अपनी याचिका में कहा है कि यह घोटाला एक हजार करोड़ रुपये से ज्यादा का है. उन्होंने याचिका में इस घोटाले में राज्य के बड़े-बड़े राजनीतिज्ञों सहित वरिष्ठ अधिकारियों की संलिप्तता की आशंका जताते हुए कहा है कि इस स्थिति में विशेष जांच दल (एसआईटी) द्वारा निष्पक्ष जांच में शंका प्रतीत होती है.  सेंगर ने कहा कि अदालत से मांग की गई है कि इस मामले में पारदर्शिता बनी रहे और जांच निष्पक्षता के साथ हो, इसके लिए इस मामले की जांच सीबीआई से कराई जानी चाहिए.
 
पढ़ें: सृजन घोटाला : बीजेपी नेता विपिन शर्मा ने मॉल में बुक कराई थी 4 दुकानें

याचिका के माध्यम से यह भी मांग की गई है कि राज्य में संचालित वैसे सभी स्वयंसेवी संगठनों के वर्ष 2015 से 2017 के बीच के क्रिया कलापों और संपत्ति की जांच कराई जाए, जो वित्तीय लेन-देन का कार्य करते हैं. उन्होंने याचिका के माध्यम से सभी स्वयंसेवी संगठनों का नियंत्रण सरकार के हाथ में देने की भी बात कही है. उल्लेखनीय है कि स्वयंसेवी संस्था सृजन महिला विकास सहयोग समिति के बैंक खाते में सरकारी योजनाओं के पैसे रखे जाते थे, जिसका उपयोग संस्था द्वारा अपने व्यक्तिगत कार्यो में किया जाता था. 

VIDEO : बीजेपी सांसद पर सृजन घोटाले की आंच​


पुलिस का दावा है कि यह गोरखधंधा वर्ष 2009 से ही चल रहा था. इस मामले में बैंक अधिकारी, सरकारी अधिकारी सहित 10 से ज्यादा लोगों को अब तक गिरफ्तार किया जा चुका है. इस मामले की जांच पुलिस के अलावा आर्थिक अनुसंधान इकाई के अधिकारी कर रहे हैं. 

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement