NDTV Khabar

बिहार के बाढ़ग्रस्त इलाकों का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 26 अगस्त को करेंगे हवाई सर्वेक्षण

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता और बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने मंगलवार को ट्विटर पर ट्वीट कर लिखा, "प्रधानमंत्री 26 अगस्त को बिहार के बाढ़ प्रभावित जिलों का हवाई सर्वेक्षण करेंगे." 

60 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
बिहार के बाढ़ग्रस्त इलाकों का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 26 अगस्त को करेंगे हवाई सर्वेक्षण

बिहार के सीएम नीतीश कुमार के साथ पीएम नरेंद्र मोदी.

पटना: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बिहार के बाढ़ प्रभावित जिलों का 26 अगस्त को हवाई सर्वेक्षण करेंगे. हवाई सर्वेक्षण के दौरान प्रधानमंत्री प्रभावित क्षेत्रों में चलाए जा रहे राहत और बचाव कार्यों तथा बाढ़ से हुए नुकसान का जायजा लेंगे. भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता और बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने मंगलवार को ट्विटर पर ट्वीट कर लिखा, "प्रधानमंत्री 26 अगस्त को बिहार के बाढ़ प्रभावित जिलों का हवाई सर्वेक्षण करेंगे." 

उल्लेखनीय है कि बिहार के सीमांचल सहित 18 जिलों के 178 प्रखंडों की 1.38 करोड़ से ज्यादा की आबादी बाढ़ से प्रभावित है, जबकि बाढ़ की चपेट में आने से 341 लोगों की मौत हो गई है. इससे पहले, पूर्व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अचानक आई बाढ़ के बाद केंद्र सरकार द्वारा तत्काल सेना और राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) सहित अन्य सहायता तत्काल उपलब्ध कराए जाने को लेकर प्रधानमंत्री को धन्यवाद दे चुके हैं. 

पड़ोसी देश नेपाल और बिहार में लगातार हुई भारी बारिश के कारण आयी बाढ से प्रदेश में 37 और लोगों की मौत हो जाने से मरने वालों की संख्या बढ़कर अब 341 हो गई है तथा बाढ़ से 18 जिलों की एक करोड़ 46 लाख 19 हजार आबादी प्रभावित हुई है.

यह भी पढ़ें : बिहार : पूर्णिया में बाढ़ पीड़ितों के लिए मसीहा बनकर सामने आया पुलिस अधिकारी

उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बिहार के बाढ़ प्रभावित इलाकों का आगामी 26 अगस्त को हवाई सर्वेक्षण करेंगे. सुशील ने ट्विट करके कहा है कि प्रधानमंत्री बिहार के बाढ प्रभावित जिलों का आगामी 26 अगस्त को हवाई सर्वेक्षण करेंगे. उपमुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री से इस आशय का अनुरोध कल दिल्ली में भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री की बैठक के दौरान किया था. उन्होंने बताया कि बैठक के दौरान सभी भाजपा शासित प्रदेशों से बिहार में बाढ राहत कार्य चलाने जाने के लिए अंशदान किए जाने को कहा गया है.

आपदा प्रबंधन विभाग से प्राप्त जानकारी के मुताबिक पडोसी देश नेपाल और बिहार में लगातार हुई भारी बारिश के कारण अचानक आयी बाढ से प्रदेश में अब तक 341 लोगों की मौत हो जाने के साथ बाढ से 18 जिलों की एक करोड 46 लाख 19 हजार आबादी प्रभावित हुई है.

यह भी पढ़ें : बाढ़ के कारण 11वें दिन भी ठप हैं पूर्वोत्तर की रेल सेवाएं

बाढ से प्रदेश के 18 जिले किशनगंज, अररिया, पूर्णिया, कटिहार, पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण, दरभंगा, मधुबनी, मुजफ्फरपुर, सीतामढी, शिवहर, समस्तीपुर, गोपालगंज, सारण, सुपौल, मधेपुरा, सहरसा, एवं खगडिया प्रभावित हुए. इसमें अररिया में 75 लोग, पश्चिमी चंपारण एवं सीतामढी में 36, कटिहार में 26, मधुबनी एवं किशनगंज में 23—23, पूर्वी चंपारण, दरभंगा एवं मधेपुरा में 19—19, सुपौल में 15, गोपालगंज में 14, मुजफ्फरपुर में 7, पूर्णिया में 9, खगडिया एवं सारण में 6—6 तथा शिवहर एवं सहरसा में 4—4 व्यक्ति की मौत हुई है.

एनडीआरएफ की 28 टीम 1152 जवानों एवं 118 बोट के साथ, एसडीआरएफ की 16 टीम 446 जवानों एवं 92 बोट के साथ तथा सेना की 7 कालम 630 जवानों और 70 बोट के साथ बचाव एवं राहत कार्य में जुटी हुई हैं.

VIDEO : बिहार में बाढ़ ने अब तक 341 जान ली

राज्य सरकार द्वारा बाढ़ में घिरे लोगों को सुरक्षित निकाले जाने का कार्य युद्ध स्तर पर किया जा रहा है. अब तक 761774 लोगों को बाढ प्रभावित इलाके से सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया है और 1085 राहत शिविरों में 229097 व्यक्ति शरण लिए हुए हैं. बाढ राहत शिविर में नहीं रहने वालों के लिए 1608 सामुदायिक रसोईघर चलाए जा रहे हैं जिसमें 452511 लोगों को भोजन कराया जा रहा है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement