NDTV Khabar

बिहार में 'मुश्किल' में महागठबंधन, अब कांग्रेस ने साधा सीएम नीतीश कुमार पर निशाना

तेजस्वी का राज्य के सीएम पर छिपा हुआ हमला जेडीयू को नागवार गुजरा है और इसके बाद बिहार ईकाई के अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने महागठबंधन के भविष्य पर ही सवाल खड़ा कर दिया.

1.3K Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
बिहार में 'मुश्किल' में महागठबंधन, अब कांग्रेस ने साधा सीएम नीतीश कुमार पर निशाना

कांग्रेस और आरजेडी बिहार में महागठबंधन सरकार का हिस्‍सा हैं (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. तेजस्‍वी यादव ने बिना नाम लिए मुख्‍यमंत्री नीतीश पर निशाना साधा
  2. तेजस्वी का राज्य के सीएम पर छिपा हुआ हमला जेडीयू को नागवार गुजरा
  3. वशिष्ठ नारायण सिंह ने महागठबंधन के भविष्य पर ही सवाल खड़ा कर दिया
पटना: बिहार में महागठबंधन एक मुश्किल दौर से गुजर रहा है, इस बात के संकेत साफ दिखने लगे हैं. एनडीए के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को समर्थन दे रहे बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने पलटवार करते हुए कहा है कि 'बिहार की बेटी' की हार पर सबसे पहला निर्णय नीतीश कुमार ने लिया है. उन्होंने कहा कि जो लोग एक सिद्धांत में यकीन करते हैं वो एक फैसला लेते हैं और जो लोग कई सिद्धांतों में भरोसा रखेत हैं वो अलग अलग फैसले लेते हैं.

दरअसल इस पूरे विवाद की शुरुआत राष्ट्रपति पद के लिए विपक्ष की उम्मीदवार मीरा कुमार के नाम की घोषणा के बाद से शुरू हुई, जब नीतीश कुमार ने अपना फैसला बदलने से इनकार करते हुए ये इस चयन पर ही ये कहते हुए सवाल उठाए कि आखिर 'बिहार की बेटी' को हारने के लिए ही क्यों चुना गया.

हालांकि इसके बाद आरजेडी अध्यक्ष ने अपनी ओर से नीतीश का फैसला बदलने की भरपूर कोशिश की. इफ्तार पार्टी के दौरान दोनों नेताओं में बातचीत भी हुई, लेकिन नीतीश ये कहते हुए डटे रहे कि अगर ये ऐतिहासिक भूल है तो इसे कर लेने दीजिए.

बात यहीं नहीं रुकी, पीएम मोदी के रेडियो कार्यक्रम 'मन की बात' की तर्ज पर बिहार के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने दिल की बात शुरू की है और कल यानी रविवार को तेजस्वी ने इसी कड़ी में बिहार के सीएम नीतीश कुमार पर बिना नाम लेते हुए उन्हें आत्मकेंद्रित और अवसरवादी कह दिया. तेजस्वी ने कहा, 'आत्मकेंद्रित व्यवहार की वजह से विपक्ष भ्रमित और थोड़ा बिखरा हुआ दिख रहा है. अवसरवादी बर्ताव और राजनीतिक दांवपेच से तत्कालिक फायदे हो सकते हैं या सरकार बन-बिगड़ सकती है, लेकिन टेलीविजन एंकरों के उलट इतिहास इस बात की गवाही देगा कि जब प्रगतिशील राजनीति को मजबूत करने की जरूरत थी तो हमने दूसरा रास्ता चुना.'

तेजस्वी का राज्य के सीएम पर ये छिपा हुआ हमला जेडीयू को नागवार गुजरा है और इसके बाद बिहार ईकाई के अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने महागठबंधन के भविष्य पर ही सवाल खड़ा कर दिया. उन्होंने कहा कि अब सरकार में शामिल लोग ऐसे बयान जारी कर रहे हैं तो ये खतरे की घंटी बजने जैसा है. उन्हें डिप्टी सीएम से ऐसे बयान की उम्मीद नहीं थी.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement