NDTV Khabar

कन्हैया कुमार के खिलाफ बेगूसराय से क्या राकेश सिन्हा को उतारेगी BJP? ट्विटर पर चर्चा गरम

बेगूसराय लोकसभा सीट से चुनाव लड़ने की अटकलें लगने पर बीजेपी सांसद प्रो. राकेश सिन्हा ने ट्वीट कर जवाब दिया है.

1KShare
ईमेल करें
टिप्पणियां
कन्हैया कुमार के खिलाफ बेगूसराय से क्या राकेश सिन्हा को उतारेगी BJP? ट्विटर पर चर्चा गरम

खास बातें

  1. अभी राज्यसभा सांसद हैं प्रो. राकेश सिन्हा
  2. टीवी चैनलों पर रखते हैं राय
  3. बिहार के रहने वाले हैं प्रोफेसर सिन्हा
नई दिल्ली: बिहार की बेगूसराय लोकसभा सीट से जेएनयू के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार के महागठबंधन से चुनाव लड़ने की अटकलें लगीं तो उनके मुकाबले के लिए बीजेपी सांसद प्रो. राकेश सिन्हा का भी नाम उछलने लगा. बेगूसराय से मौजूदा बीजेपी सांसद भोला सिंह अस्वस्थ चल रहे हैं और उनका इलाज एम्स में चल रहा है. कहा जा रहा है कि बीजेपी इस सीट से प्रत्याशी तलाश रही है, ऐसे में बेगूसराय से नाता रखने पर प्रो. सिन्हा को ही मैदान में उतारा जा सकता है. हालांकि, अपना नाम उछलने पर प्रो. राकेश सिन्हा ने ट्वीट कर वामपंथी विचारधारा के लोगों पर ठीकरा फोड़ा है. कहा है कि वे उनके भविष्य की को लेकर कुछ ज्यादा ही चिंतित हैं.

वंशवादी गृहयुद्ध' को लेकर लालू प्रसाद यादव और राकेश सिन्हा के बीच छिड़ी जंग

दरअसल जेएनयू के छात्रनेता कन्हैया कुमार के बेगूसराय से लोकसभा चुनाव लड़ने की खबर ने सियासी पारा चढ़ा दिया. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आरजेडी और कांग्रेस ने बेगूसराय की सीट भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी(सीपीआई) को सीट छोड़ने की तैयारी की है. कन्हैया को महागठबंधन के उम्मीदवार के तौर पर उतारने पर विचार किया जा रहा है.इस बीच यह भी अटकलें लगीं कि बेगूसराय से बीजेपी अपने राज्यसभा सदस्य प्रो. राकेश सिन्हा को मैदान में उतार सकती है. क्योंकि सिन्हा भी बेगूसराय के ही रहने वाले हैं. कन्हैया कुमार का भी घर बेगूसराय ही है.

 
उधर चुनाव लड़ने के सवाल पर कन्हैया कुमार ने समाचार एजेंसी भाषा से कहा- 'अगर पार्टी मुझे बेगूसराय से चुनाव लड़ाने का फैसला करती है और महागठबंधन के अन्य सहयोगी दल भी  समर्थन देते हैं तो मुझे चुनाव लड़ने में कोई आपत्ति नहीं है'.  वहीं प्रो. राकेश सिन्हा ने ट्वीट कर कहा-कुछ वामपंथी मेरे भविष्य को लेकर ट्विटर पर बहुत चिंतित हैं.वे बेगूसराय के लोकसभा चुनाव की भविष्यवाणी करते हुए मन भर गाली दे रहे हैं.इतना समय और ऊर्जा वे मार्क्स को भारतीय संदर्भ में समझने में लगाते तो शायद उनकी मानसिक उन्नति होती.बेगूसराय में भगवा बयार उन्हें दिखाई नही पड़ रहा है. 

वीडियो-राष्ट्रपति कोविंद ने राज्यसभा के लिए 4 नए चेहरों को नॉमिनेट किया 

टिप्पणियां



 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement