कबीर, गुरु नानक और गोरखनाथ संबंधी बयान पर पीएम मोदी पर बरसे राजद नेता, कहा- फैक्ट चेक करें

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री को बताना चाहिए कि यह कैसे मुमकिन है. जब गोरखनाथ का जन्म 11 वीं सदी में हुआ था, संत कबीर के जन्म से कम से कम चार सदियां पहले.

कबीर, गुरु नानक और गोरखनाथ संबंधी बयान पर पीएम मोदी पर बरसे राजद नेता, कहा- फैक्ट चेक करें

पीएम मोदी (फाइल फोटो)

पटना:

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव  की पार्टी राजद के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने कबीर, गुरु नानक और गोरखनाथ के एक साथ बैठ कर चर्चा करने संबंधी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की टिप्पणी को लेकर उनकी आलोचना की और जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा कि ये तीनों समकालीन नहीं थे. बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी ने संत कबीर की याद में आयोजित एक कार्यक्रम में कथित रूप से यह टिप्पणी की थी.

आखिर क्‍यों कबीरदास ने मगहर में जाकर त्‍यागे थे प्राण?

शिवानंद तिवारी ने कहा, ‘उत्तर प्रदेश के मगहर में दिए गए मोदी के भाषण के वीडियो में उन्हें यह कहते हुए साफ सुना जा सकता है कि यह वही स्थान है जहां संत कबीर, गुरु नानक देव और संत गोरखनाथ साथ बैठकर आध्यात्मिकता पर चर्चा करते थे.’

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री को बताना चाहिए कि यह कैसे मुमकिन है. जब गोरखनाथ का जन्म 11 वीं सदी में हुआ था, संत कबीर के जन्म से कम से कम चार सदियां पहले. गुरु नानक, संत कबीर से कुछ दशक छोटे हैं... उनकी बैठक के बारे में न कोई ऐतिहासिक तथ्य है, न ही ऐसा विश्वास है.’ 
साबित हो रहे हैं.

कबीर की सीख के सहारे पीएम मोदी ने विपक्षी दलों को बनाया निशाना, कहा- सत्ता के लालच में एक हो गए धुर विरोधी, 10 बातें

उन्होंने कहा कि अब अपने कद को देखते हुए प्रधानमंत्री मोदी को यह महसूस करना चाहिए कि उनकी ये बड़े मिस्टेक्स पूरे देश को शर्मिंदा करते हैं.  अगर उन्हें अपने भाषणों के दौरान इतिहास में डूबने की काफी इच्छा होती है, तो उन्हें कम से कम तथ्यों की जांच कर लेनी चाहिए. 

पीएम मोदी की राह पर सीएम योगी आदित्‍यनाथ, मजार पर किया 'ऐसा'

Newsbeep

आगे उन्होंने कहा कि पीएम मोदी को तथ्यों के आधार पर बातें करनी चाहिए. उन्हें कुछ भी बोलने से पहले फैक्ट्स चेक कर लेने चाहिए. उन्होंने कहा कि पीएम मोदी के लिए अच्छा होगा कि वह अपने वादों पर काम करें, जो कि सभी अभी तक खोखले वादे ही 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: रणनीति: संत कबीर के जरिए सियासत?