NDTV Khabar

नीतीश पीठ में ख़ंजर घोपने वाले, पिछड़ों के दुश्मन नंबर एक : लालू

लालू ने हमला तेज करते हुए फेसबुक पर एक और पोस्ट लिखकर नीतीश कुमार से जुड़े इतिहास को सामने लाने की कोशिश की.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
नीतीश पीठ में ख़ंजर घोपने वाले, पिछड़ों के दुश्मन नंबर एक : लालू

लालू ने अपनी पोस्ट में नीतीश को आरएसएस का एजेंट करार दिया...

खास बातें

  1. लालू का आरोप - RSS की गोद में खेलने वाले पिछड़ों के पहले नेता नीतीश
  2. लालू ने लगातार दूसरे दिन फेसबुक पर लिखी पोस्ट
  3. तेजस्वी यादव ने नीतीश की नैतिकता पर सवाल खड़े किए
पटना: महागठबंधन टूटने के बाद आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव सहित पूरा परिवार नीतीश को निशाने पर लिए हुए है. बुधवार को तेजस्वी यादव ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस करके नीतीश कैबिनेट में दागी मंत्रियों का जिक्र करके उनकी नैतिकता पर सवाल खड़े किए. लालू ने भी हमालवर रुख जारी रखा. बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री ने बाकयदा फेसबुक पर आज एक और लिखकर नीतीश कुमार से जुड़े इतिहास को सामने लाने की कोशिश की. लालू ने नीतीश को आरएसएस का एजेंट बताते हुए उन्हें पिछड़ों का सबसे बड़ा दुश्मन करार दिया. मंगलवार को भी लालू ने पोस्ट लिखकर नीतीश की खिचाई की थी.

पढ़ें : 'तुम मंडल छोड़ कमंडल थाम लिए' : नीतीश पर हमला और शरद पर डोरे डालते दिखे लालू यादव

'RSS की गोद में शुरू से ही खेलते रहे नीतीश'
लालू ने अपनी फेसबुक पोस्ट में लिखा, "बाबरी मस्जिद ध्वस्त करने के बाद जब आडवाणी देशभर में घूम रहे थे तो नीतीश 1994 में बंबई में आडवाणी का हाथ अपने हाथ से उठाकर एकता का प्रदर्शन कर रहा था. जब पूरे देश में मंडल की राजनीति उफान पर थी, बिहार में हमारी और यूपी में मुलायम सिंह और मान्यवर कांशीराम की सरकार थी. सदियों से सतायें वंचित, उपेक्षित, दलित, अकलियत और पिछड़ों की एकता चरम पर थी, सभी पीड़ित लोग एक दूसरे के दर्द के साझेदार बनकर एक ही माला के सुंदर मोती बन रहे थे. उस दौर में अपनी संकीर्ण मानसिकता और अतिमहत्वकांक्षी होने के कारण नीतीश कुमार बहुजनों के हितों की तिलांजलि देकर RSS की गोद में जाकर खेलने वाला पहला पिछड़ा नेता था. नीतीश कुमार भाजपा नेताओं के साथ घूम घूमकर उस वक़्त आरएसएस को मज़बूत करने की वकालत करता था जिस वक़्त भाजपा और आरएसएस मंडल कमीशन, आरक्षण और वंचितों की भागीदारी का विरोध कर रही थी."

पढ़ें : 'तेजस्वी इस्तीफा दे भी देते तो भी नीतीश बीजेपी के साथ सरकार बना लेते'

टिप्पणियां
VIDEO : लालू ने नीतीश को बताया सत्ता का लालची

उन्होंने आगे लिखा, "आज फिर 2017 में जब अकलियत, दलित और पिछड़ा को एकजुट कर हम देश और बाबा साहेब का संविधान बचाने की कोशिश कर रहे थे, यह पलटूराम बहुजनों की एकता को दुत्कार फिर अपने आकाओं की गोद में खेलने चला गया. यह दलितों, पिछड़ों का सबसे बड़ा दुश्मन है. इसी ने आरएसएस के इशारे पर वंचित समाज को बांटने का काम किया है."

लालू ने लिखा, "आरएसएस खुलकर बहूजनों का विरोध करता है और मनुवाद का समर्थन करता है लेकिन यह आदमी तो उनसे भी ख़तरनाक है. यह पीड़ितों और वंचितो के साथ रहकर उनके उद्देश्यों को समझकर उनकी पीठ में ख़ंजर घोपता है. इससे बड़ा जमात का कोई दुश्मन नहीं है. यह सबसे बड़ा अवसरवादी और विश्वासघाती है. सबों को इससे संभलकर रहने की ज़रूरत है मत भूलिये अपने स्वार्थ के लिए यह बीजेपी को भी छोड़ चुका है."


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement