मजदूरों को जबरदस्ती रोकने की बात अफवाह, कर्नाटक में किसी को नहीं रोका गया: सुशील मोदी

उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने गुरुवार को ट्वीट कर कहा कि बिहार सरकार के अनुरोध पर जब श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलने लगी हैं तो किसी मजदूर को न तो कहीं जबरस्ती रोका जा सकता है, न जबरन वापस भेजा सकता है.

मजदूरों को जबरदस्ती रोकने की बात अफवाह, कर्नाटक में किसी को नहीं रोका गया: सुशील मोदी

बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी (फाइल फोटो)

पटना:

बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने गुरुवार को कहा कि कर्नाटक में किसी प्रवासी मजदूर को नहीं रोका गया. बेंगलुरू से दो ट्रेनें बिहार आ चुकी हैं तथा राज्य सरकार ने मजदूरों की वापसी के लिए आठ और विशेष ट्रेनों की स्वीकृति दी है. सुशील ने गुरुवार को ट्वीट कर कहा कि बिहार सरकार के अनुरोध पर जब श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलने लगी हैं तो किसी मजदूर को न तो कहीं जबरस्ती रोका जा सकता है, न जबरन वापस भेजा सकता है. उन्होंने कहा कि कर्नाटक में किसी को नहीं रोका गया, बेंगलुरू से दो ट्रेन बिहार आ चुकी हैं. राज्य सरकार ने प्रवासी मजदूरों की वापसी के लिए आठ और स्पेशल ट्रेनों को मंजूरी दी है. सुशील ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि मजदूरों को जबरदस्ती रोकने की अफवाह उड़ाने वाले बतायें कि पंजाब से एक भी स्पेशल ट्रेन क्यों नहीं आयी? उन्होंने कहा कि कांग्रेस बताए कि पंजाब सरकार ने मजदूरों को जबरदस्ती रोका या काम मिलने पर लोगों ने घर वापसी का इरादा छोड़ दिया?

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि लॉकडाउन के दूसरे चरण में अनेक प्रकार की छूट मिलने से उद्योग-धंधे प्रारम्भ होने लगे, इसलिए कर्नाटक, गुजरात, पंजाब सहित कई राज्यों में मजदूरों को काम मिलने लगा है. बड़ी संख्या में लोग घर के बजाय काम पर लौटने का मन बना चुके हैं. सुशील ने कहा कि कर्नाटक सरकार ने श्रमिकों के लिए पैकेज की घोषणा की. तेलंगाना सरकार के अनुरोध पर खगड़िया से 222 मजदूर चावल मिलों में काम करने के लिए खगड़िया से तेलंगाना रवाना हो गए. उन्होंने कहा कि लॉकडाउन ने विकसित राज्यों को बिहार की श्रमशक्ति का एहसास करा दिया.

'वंदे भारत मिशन' के तहत विदेश में फंसे भारतीयों को लेकर केरल पहुंची पहली फ्लाइट

सुशील ने कहा कि हिसार से बिहार के 1,200 मजदूरों को लेकर श्रमिक स्पेशल ट्रेन किशनगंज के लिए रवाना हुई. हम सभी मजदूरों का स्वागत करते हैं. उन्होंने आरोप लगाया कि जिस कांग्रेस ने राष्ट्रमंडल खेल से लेकर कोयला ब्लॉक आवंटन तक दस साल में अरबों रुपये के घोटाले किए, वह गुजरात से लौटने वाले 1185 छात्रों-मजदूरों के किराये में मात्र 6 लाख 82 हजार 750 रुपये चुकाने को सोनिया गांधी की महान कृपा बता रही है. सुशील ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि जिनके संस्कार भारतीय हैं, वे अपनी उपकार-सहायता का प्रचार नहीं करते. बिहार के विपक्षी महागठबंधन में शामिल राजद एवं कांग्रेस ने येदियुरप्पा पर प्रवासी श्रमिकों को बंधक बनाने की कोशिश करने और उन्हें "गिरमिटिया मजदूर" मानने का आरोप लगाया था.



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com