NDTV Khabar

बिहार : महाबोधि मंदिर परिसर से बम मिलने के बाद धार्मिक स्थलों की सुरक्षा बढ़ी, NIA ने शुरू की जांच

इस बीच, पूरे बोधगया स्थित सभी मठों (मोनेस्ट्री) की सुरक्षा बढ़ा दी गई है और लोगों से संदिग्ध या लावारिस वस्तुओं की सूचना तत्काल पुलिस को देने की अपील की गई है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बिहार : महाबोधि मंदिर परिसर से बम मिलने के बाद धार्मिक स्थलों की सुरक्षा बढ़ी, NIA ने शुरू की जांच

महाबोधि मंदिर की सुरक्षा बढ़ाई गई

पटना: बौद्ध संप्रदाय के महत्वपूर्ण तीर्थस्थल बिहार के बोधगया स्थित  महाबोधि मंदिर परिसर के पास शुक्रवार को दो जगहों से विस्फोटक बरामद किए गए, जिसके बाद राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की टीम ने यहां पहुंच कर जांच शुरू कर दी है. इस बीच, पूरे बोधगया स्थित सभी मठों (मोनेस्ट्री) की सुरक्षा बढ़ा दी गई है और लोगों से संदिग्ध या लावारिस वस्तुओं की सूचना तत्काल पुलिस को देने की अपील की गई है. घटना के बाद राजधानी पटना के भी प्रमुख धार्मिक स्थलों की भी सुरक्षा कड़ी कर दी गई है. पुलिस के एक अधिकारी ने शनिवार को बताया, "शुक्रवार की देर शाम महाबोधि मंदिर के मुख्य द्वार नंबर चार तथा उसके सामने से लावारिस थैले मिले, जिसकी जांच के बाद इसमें विस्फोटक होने की पुष्टि हुई."

बोध गया में महाबोधि मंदिर के कालचक्र परिसर के नजदीक बरामद हुए दो बम, दलाई लामा के भाषण के बाद हुआ था विस्फोट

टिप्पणियां
मगध प्रक्षेत्र के पुलिस उप महानिरीक्षक विनय कुमार ने बताया, "दो संदिग्ध वस्तुएं मिलने के बाद उसकी जांच कराई गई जिसमें विस्फोटक होने की पुष्टि हुई है. उन्होंने बताया कि बम निरोधक दस्ते ने विस्फोटकों को अपने कब्जे में लेते हुए उसे वहां से तत्काल हटा दिया. यह कितना शक्तिशाली विस्फोटक है, इसकी जांच की जा रही है.  विस्फोटक मिलने के बाद आसपास के सभी इलाकों में सघन तलाशी ली गई. पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि इसकी सूचना एनआईए को दे दी गई थी. एनआईए की टीम भी शनिवार को गया पहुंच गई और इस मामले की जांच शुरू कर दी. 

वीडियो : महाबोधि परिसर में बढ़ाई गई सुरक्षा

प्रशासनिक पदाधिकारियों के मुताबिक, अभी तक की जांच में सीसीटीवी कैमरे में तीन संदिग्ध देखे गए हैं, जिनके विषय में सूचना इकट्ठा की जा रही है. इधर, सूत्रों का दावा है कि शुक्रवार देर शाम ही कालचक्र मैदन के समीप एक जेनरेटर सेट के पास बम विस्फोट हुआ था, हालांकि इसकी अधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है. गौरतलब है कि विश्व धरोहर महाबोधि मंदिर परिसर सहित बोधगया के कई हिस्सों में सात जुलाई 2013 में एक आतंकी संगठन द्वारा श्रृंखलाबद्ध विस्फोट किया गया था, जिसमें दो लोग घायल हो गए थे. इसके बाद से यहां की सुरक्षा बढ़ा दी गई थी.
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement