NDTV Khabar

जदयू के बागी नेता शरद यादव बोले, 'नीतीश और मोदी के खिलाफ बनेगा राष्ट्रीय महागठबंधन'

बैठक में जदयू के राज्यसभा सदस्य अली अनवर, एम पी वीरेन्द्र कुमार, बिहार सरकार के पूर्व मंत्री रमई राम और अतिथि प्रतिनिधि के तौर पर राजद के सांसद जयप्रकाश यादव भी मौजूद थे.

1Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जदयू के बागी नेता शरद यादव बोले, 'नीतीश और मोदी के खिलाफ बनेगा राष्ट्रीय महागठबंधन'

जदयू के बागी नेता शरद यादव (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. कहा जिन लोगों ने अपनी राह बदल ली है, उनसे अब हमें कोई वास्ता नहीं है.
  2. शरद यादव ने कहा कि बिहार में चुनाव पूर्व महागठबंधन बरकरार है.
  3. यह लड़ाई व्यक्ति के खिलाफ नहीं, विचारधारा के खिलाफ है.
नई दिल्ली:

अपने गुट को असली जेडीयू बताते हुए रविवार को शरद यादव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और नीतीश कुमार के खिलाफ फिर हमला बोला. जदयू के बागी नेता शरद यादव ने कहा कि बिहार में चुनाव पूर्व महागठबंधन बरकरार है और अब अवसरवादी ताकतों से देश को बचाने के लिये इसका देशव्यापी विस्तार किया जाएगा. यादव ने अपनी अगुवाई वाले जदयू की रविवार को राष्ट्रीय परिषद की बैठक में देश भर से जुटे पदाधिकारियों को संबोधित करते हुये बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर एक साथ हमला बोला. यादव ने कहा कि कुमार ने महज सत्ता की खातिर मोदी के खिलाफ बने महागठबंधन से खुद को अलग कर बिहार की जनता के साथ विश्वासघात किया है. उन्होंने जदयू से कुमार को निकालने की परिषद के सदस्यों की मांग को खारिज करते हुये कहा कि ‘जिन लोगों ने अपनी राह बदल ली है, उनसे अब हमें कोई वास्ता नहीं है. यह लड़ाई व्यक्ति के खिलाफ नहीं, विचारधारा के खिलाफ है.’

यह भी पढ़ें : ...जब नीतीश कुमार ने पार्टी नेताओं से कहा, 'अगर मैं मर जाऊं?'


यादव ने कहा कि सत्ता की खातिर विचारधारा को छोड़ने वालों की वजह से खतरे में पड़ी देश की साझी विरासत को बचाने के लिये उन्होंने सभी विपक्षी दलों को मोदी सरकार के खिलाफ एकजुट करने का अभियान तेज कर दिया है. उन्होंने नीतीश गुट द्वारा उनकी राज्यसभा सदस्यता रद्द करने की सिफारिश के बारे में कहा कि वह पहले भी तीन बार लोकसभा और तीन बार राज्य सभा की सदस्यता से सिद्धांत की खातिर इस्तीफा दे चुके हैं.

उनके लिये संसद की सदस्यता नहीं सिद्धांत महत्वपूर्ण है. यादव ने धर्म, जाति, खानपान और पहनावे के नाम पर समाज को बांटने वाली ताकतों से उपजे संकट का हवाला देते हुये राष्ट्रीय स्तर पर विपक्ष की एकजुटता को महागठबंधन के बैनर तले सुनिश्चित करने का भरोसा जताया. उन्होंने कहा कि इन अवसरवादी लोगों को जनता सबक सिखायेगी. इससे पहले जदयू के कार्यकारी अध्यक्ष छोटूभाई बसावा की अध्यक्षता में हुई राष्ट्रीय परिषद की बैठक में गत 17 सितंबर को राष्ट्रीय कार्यकारिणी द्वारा पारित प्रस्तावों को मंजूरी दी गयी. पार्टी के महासचिव अरुण श्रीवास्तव ने बताया कि इन प्रस्तावों में नीतीश गुट द्वारा अनिल हेगड़े को पार्टी का चुनाव अधिकारी बनाने और हेगड़े द्वारा की गयी पदाधिकारियों की नियुक्ति को रद्द करने की बात कही गयी है.

VIDEO : शरद यादव की राज्यसभा सदस्यता रद्द करने की मांग उठाई जेडीयू ने

टिप्पणियां

श्रीवास्तव ने बताया कि रविवार की बैठक में पार्टी बिहार इकाई को छोड़ कर 19 अन्य प्रदेश इकाईयों के अध्यक्ष और अन्य पदाधिकारी मौजूद रहे. राष्ट्रीय परिषद के 998 सदस्यों में से बैठक में मौजूद लगभग 500 सदस्यों से शरद यादव गुट को ही असली जनता दल मानते हुये इसमें अपनी आस्था व्यक्त करने का हलफनामा भी लिया गया. इन हलफनामों को चुनाव आयोग के सुपुर्द किया जायेगा, जिससे पार्टी के चुनाव चिन्ह पर शरद गुट के दावे की पुष्टि की जा सके. बैठक में जदयू के राज्यसभा सदस्य अली अनवर, एम पी वीरेन्द्र कुमार, बिहार सरकार के पूर्व मंत्री रमई राम और अतिथि प्रतिनिधि के तौर पर राजद के सांसद जयप्रकाश यादव भी मौजूद थे.

(इनपुट भाषा से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement