NDTV Khabar

पटना यूनिवर्सिटी के शताब्दी समारोह में पीएम मोदी संग मंच पर नहीं बैठ पाएंगे 'बिहारी बाबू'

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अगले रविवार को पटना यूनिवर्सिटी (पीयू) के शताब्दी समारोह में शिरकत करेंगे. हालांकि 'बिहारी बाबू' और पटना साहेब के सांसद शत्रुघ्न सिन्हा उनके साथ मंच पर मौजूद नहीं रहेंगे.

1KShare
ईमेल करें
टिप्पणियां
पटना यूनिवर्सिटी के शताब्दी समारोह में पीएम मोदी संग मंच पर नहीं बैठ पाएंगे 'बिहारी बाबू'

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सांसद शत्रुघ्न सिन्हा. (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. अगले रविवार को है पटना यूनिवर्सिटी का शताब्दी समारोह
  2. पटना साहेब के सांसद और पूर्व छात्र शत्रुघ्न सिन्हा को मंच पर जगह नहीं
  3. प्रधानमंत्री इस समारोह में एक घंटे के लिए शामिल होंगे
पटना: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अगले रविवार को पटना यूनिवर्सिटी (पीयू) के शताब्दी समारोह में शिरकत करेंगे. हालांकि 'बिहारी बाबू' और पटना साहेब के सांसद शत्रुघ्न सिन्हा उनके साथ मंच पर मौजूद नहीं रहेंगे. पटना यूनिवर्सिटी के अधिकारियों ने स्वीकार किया कि भले 'बिहारी बाबू' इस विश्वविद्यालय के छात्र भी रहे हों, लेकिन मंच पर उन्हें जगह नहीं दी जाएगी.

यह भी पढ़ें : 'एडहॉक शिक्षकों की दास्तान, सरकार कब देगी ध्यान' 

प्रधानमंत्री कार्यालय के अनुसार पटना विश्वविद्यालय के कार्यक्रम के दौरान मंच पर प्रधानमंत्री मोदी के अलावा राज्यपाल, मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री, केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान, उपेन्द्र कुशवाहा, रामकृपाल यादव और अश्विनी चौबे ही मौजूद रहेंगे. हालांकि विश्वविद्यालय प्रशासन का कहना हैं कि मंच पर बैठने के लिए उनके ऊपर इतने लोगों का दबाव है कि पीएमओ का इस मामले में अंतिम फैसला लेना एक तरह से वरदान साबित हो रहा है.प्रधानमंत्री इस समारोह में एक घंटे के लिए शामिल होंगे.  

VIDEO :  प्राइम टाइम: शिक्षकों की कमी से जूझ रहा पटना विश्‍वविद्यालय

पूर्व वित्तमंत्री यशवंत सिन्हा के कार्यक्रम में भाग लेने की उम्मीद कम है. यशवंत सिन्हा यहां के छात्र रहे हैं और उन्होंने यहां के छात्रों को पढ़ाया भी है. सिन्हा को विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा अभी तक आमंत्रण भी नहीं दिया गया हैं, लेकिन 'बिहारी बाबू' मात्र दर्शक दीर्घा में बैठने के लिए इस  कार्यक्रम में जाएंगे. इसे लेकर उनके समर्थकों का कहना है कि इसकी संभावना कम है. लेकिन अगर विश्वविद्यालय की तरफ से विशेष आग्रह हो तब शायद अंतिम समय में वह अपना मन बदल भी सकते हैं. हालांकि कार्यक्रम के समय वह ट्वीट करके अपनी भड़ास निकालेंगे. फिलहाल देखना यह होगा कि शताब्दी समारोह में कौन-कौन राजनेता शिरकत करते हैं. हालांकि समारोह के बहाने बिहार की राजनीति में काफी कुछ देखने को मिल सकता हैं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement