NDTV Khabar

बिहार में बाढ़ की स्थिति में सुधार, पानी घटने के साथ ही अपने घरों को लौटने लगे हैं लोग

अब सिर्फ 116 शिविर चल रहे हैं, जिसमें 1.38 लाख लोग शरण लिए हुए हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बिहार में बाढ़ की स्थिति में सुधार, पानी घटने के साथ ही अपने घरों को लौटने लगे हैं लोग
पटना:

बिहार में बाढ़ की स्थिति में अब थोड़ा सुधार है. राज्य में कुछ स्थानों पर बाढ़ का पानी उतरने की वजह से लोगों ने अपने घर लौटना शुरू कर दिया है. अब सिर्फ 116 शिविर चल रहे हैं, जिसमें 1.38 लाख लोग शरण लिए हुए हैं. राज्य आपदा प्रबंधन विभाग की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि हताहतों की संख्या 514 है और 19 जिलों में 1.71 करोड़ की आबादी प्रभावित है. पिछले 24 घंटों के दौरान किसी की मौत की सूचना नहीं है. हालांकि राहत कार्य अभी भी जारी है.

यह भी पढ़ें: बिहार में बाढ़ प्राकृतिक नहीं, राजनीतिक आपदा और लूट का जरिया : पप्पू यादव

आपदा प्रबंधन विभाग के मुताबिक राज्य में 1,38,602 व्यक्ति अभी भी 116 राहत शिविरों में रह रहे हैं. बाढ़ से 19 जिलों- किशनगंज, अररिया, पूर्णिया, कटिहार, पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण, दरभंगा, मधुबनी, मुजफ्फरपुर, सीतामढ़ी, शिवहर, समस्तीपुर, गोपालगंज, सारण, सीवान, सुपौल, मधेपुरा, सहरसा और खगड़िया की करीब 1.72 करोड़ आबादी प्रभावित हुई. बाढ़ प्रभावित इलाके से 8,54,936 लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया है.


यह भी पढ़ें: बिहार में बाढ़ से अब तक 514 मरे, नीतीश ने की समीक्षा बैठक

टिप्पणियां

मध्य प्रदेश के सहकारिता मंत्री विश्वास सारंग ने मध्य प्रदेश सरकार की तरफ से बिहार के बाढ़ पीड़ितों की सहायता के लिए मुख्यमंत्री राहत कोष में 5 करोड़ रुपये का चैक मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को सौंपा. नीतीश ने मध्य प्रदेश सरकार को धन्यवाद दिया तथा वहां की सरकार के इस सामाजिक पहल की सराहना की. मुख्यमंत्री ने कहा कि विपदा के समय सभी को संवेदनशील होना चाहिए और पीड़ितों की सेवा में बढ़-चढ़कर हाथ बंटाना चाहिए.

VIDEO : मरने वालों की तादाद से न देखें बाढ़ को
बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने भी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मिलकर अपनी तरफ से 1.10 लाख रुपये का चैक मुख्यमंत्री राहत कोष के लिए सौंपा. पूर्व मध्य रेल द्वारा जारी विज्ञप्ति के अनुसार बुधवार को लंबी दूरी की रवाना होने वाली 27 ट्रेनों तथा आगामी 31 अगस्त को रवाना होने वाली 18 ट्रेनें रद्द कर दी गई हैं.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement