NDTV Khabar

सृजन घोटाले के आरोपी बीजेपी नेता विपिन शर्मा ने दिल्ली में खरीदे थे एक दर्जन फ्लैट

विपिन शर्मा ने दिल्ली के गार्डिनिया बिल्डर के निर्माणाधीन अपार्टमेंट में करीब 5 करोड़ का भुगतान कर 10 फ्लैट बुक कराए थे.

13K Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
सृजन घोटाले के आरोपी बीजेपी नेता विपिन शर्मा ने दिल्ली में खरीदे थे एक दर्जन फ्लैट

विपिन शर्मा का दिल्ली और बॉम्बे में जमीन और अपार्टमेंट में और भी निवेश है....

खास बातें

  1. सृजन घोटाले में एक और चौंकाने वाला तथ्य सामने आया
  2. विपिन शर्मा ने करीब 5 करोड़ का भुगतानकर 10 फ्लैट बुक कराए थे
  3. जांच एजेंसियों के हाथ भुगतान से जुड़े कागजात हाथ लगे
पटना: बिहार के 1200 करोड़ रुपये के सृजन घोटाले में एक और चौंकाने वाला तथ्य सामने आया है. बीजेपी से अब निलंबित और किसान मोर्चा के राज्य उपाध्यक्ष विपिन शर्मा ने एक बार में ही दिल्ली में 10 फ्लैट केवल एक बिल्डर से ख़रीदे थे. जांच एजेंसियों के हाथ पूरे भुगतान से जुड़े 5 करोड़ से अधिक के मनी ट्रेल के कागजात हाथ लगे हैं. इस मामले की जांच अब सीबीआई कर रही है. सूत्रों के अनुसार विपिन शर्मा ने दिल्ली के गार्डिनिया बिल्डर के निर्माणाधीन अपार्टमेंट में करीब 5 करोड़ का भुगतान कर 10 फ्लैट बुक कराए थे. विपिन शर्मा ने कुछ फ्लैट अपने नाम जबकि कुछ अपने संबंधियों के नाम से बुक कराए थे लेकिन सबका भुगतान सृजन के खातों से सीधे किया गया.

जांच एजेंसियों की मानें तो पहली ही पूछताछ में भागलपुर निवासी इस कंपनी के निदेशक मनोज राय ने स्वीकार किया और सारे कागजात भी उपलब्ध करा दिए. विपिन शर्मा का दिल्ली और बॉम्बे में जमीन और अपार्टमेंट में और भी निवेश है. ये सारा पैसा सृजन की काली कमाई का हिस्सा है जो सरकारी बैंको से गबन किया हुआ है.

इसके अलावा जांच एजेंसियों के पास इस घोटाले से जुड़े दो और आरोपियों दीपक वर्मा और प्रणब कुमार घोष द्वारा भी जमीन और अपार्टमेंट निर्माण में करोड़ों के निवेश का पता चला है. घोष और वर्मा दोनों मनोरमा देवी के नजदीकी बताए जाते हैं और इनकी 'अंग विहार' नाम की एक कंपनी है जो भागलपुर में कुछ अपार्टमेंट और जमीन के कारोबार के लिए जानी जाती है. घोष पेशे से अकाउंटेंट हैं और सृजन का ऑडिट वही करते थे. पूरे घोटाले  का मास्टरमाइंड भी उन्हीं को माना जा रहा है. मनोरमा देवी को फ़र्ज़ी चेक के पीछे भी उन्हीं का दिमाग बताया जाता है.

पढ़ें: सृजन घोटाला : नीतीश कुमार बोले, सीबीआई जांच पर भरोसा नहीं है तो मॉनिटरिंग करवा लें

वही वर्मा भागलपुर की राजनीती में बीजेपी के सक्रिय नेता रहे लेकिन 2015 का चुनाव उन्होंने राष्ट्रीय लोक समता पार्टी की टिकट पर लड़ा और हार गए. फ़िलहाल इस घोटाले में नाम आने के बाद उन्हें उपेंद्र कुशवाहा ने भी अपनी पार्टी से निलंबित कर दिया है.

पढ़ें: सृजन घोटाला : सुशील मोदी ने कहा- रेखा मोदी से मेरा या मेरे परिवार का कोई लेना देना नहीं

जांच एजेंसियों का असल सिरदर्द यह है कि मामले के मुख्य आरोपी अमित उनकी पत्नी प्रिया, विपिन शर्मा, दीपक वर्मा अब तक फरार हैं. हालांकि उनके खिलाफ काफी पुख्ता सबूत सीबीआई के हाथ लग हैं लेकिन जब तक ये लोग गिरफ्तार नहीं हो जाते तब तक गबन हुई राशि का असल में क्या हुआ और किसने कहां कितना निवेश किया है? इसके बारे में पता नहीं चल पाएगा.

VIDEO : बिहार के बहुचर्चित सृजन घोटाले में नया खुलासा


इस बीच आयकर विभाग ने सृजन से जुड़े 75 खातों को फ़िलहाल जब्त किया गया है. विभाग का मानना है कि इन खातों की जांच से इस बात का पता चल पाएगा कि आखिर राशि किन-किन लोगों के पास पहुंची. इधर सृजन द्वारा न केवल रेखा मोदी बल्कि उनकी बेटी उर्वशी मोदी के अकाउंट में भी आभूषण की खरीदारी के लिए पैसे ट्रासंफर किए गए थे. इन आभूषण को अधिकारियों के परिवार वालों को गिफ्ट देने के लिए उपयोग किया जाता था.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement