तेजस्वी के नेतृत्व में बिहार में RJD की करारी हार के बाद अब बड़े भाई तेज प्रताप करेंगे यह काम...

बिहार में तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) के नेतृत्व में राजद (RJD) की करारी हार के बाद लालू यादव (Lalu Yadav) के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) एक बार फिर 'जनता दरबार' लगाएंगे.

तेजस्वी के नेतृत्व में बिहार में RJD की करारी हार के बाद अब बड़े भाई तेज प्रताप करेंगे यह काम...

भाई तेजस्वी के साथ तेज प्रताप यादव.

नई दिल्ली:

बिहार में राजद (RJD) की करारी हार के बाद पार्टी प्रमुख लालू यादव (Lalu Yadav) ने दोपहर का खान तक छोड़ दिया है. पूरी पार्टी सकते में है. बिहार में कांग्रेस-राजद-आरएलएसपी-हम और वीआईपी ने महागठबंधन बनाकर चुनाव लड़ा था. बिहार की 40 में 39 सीटों पर BJP-JDU-LJP गठबंधन का कब्जा रहा वहीं, महागठंधन के हिस्से एक सीट आई. कांग्रेस (Congress) ने किशनगंज की सीट जीती. किशनगंज में कांग्रेस उम्मीदवार डॉक्टर मोहम्मद जावेद ने जेडीयू (JDU) के सैयद महमूद अशरफ को शिकस्त देकर जीती. उन्होंने 34466 वोट से महमूद अशरफ को मात दी. बिहार में राजद ने 20, कांग्रेस ने 9, उपेंद्र कुशवाहा की RLSP ने 5, जीतनराम मांझी की हम ने 3 और सन ऑफ मल्लाह मुकेश साहनी की VIP ने तीन सीटों पर चुनाव लड़ा था. वहीं, JDU ने 17, BJP 17 और LJP ने 6 सीटों पर चुनाव लड़ा था. दूसरी तरफ हारने वाली पार्टियों की तरफ से इसकी समीक्षा जारी है. 

लालू प्रसाद की अनुपस्‍थ‍िति या तेज प्रताप का विद्रोह, आखिर कैसे डूबी बिहार में महागठबंधन की नैया?

इस बीच लालू यादव (Lalu Yadav) के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) एक बार फिर से पटना स्थित पार्टी के प्रदेश कार्यालय में 'जनता दरबार' लगाएंगे. तेजप्रताप ने स्वयं लोगों को इसकी सूचना देते हुए कहा कि वह 27 मई से राजद कार्यालय में जनता दरबार लगाएंगे और लोगों की समस्याओं को सुनेंगे. राजद नेता तेज प्रताप ने ट्वीट कर जनता दरबार लगाने की जानकारी देते हुए लिखा, 'जनता और पार्टी कार्यकर्ताओं के समस्याओं को सुलझाने के लिए आप लोगों के बीच फिर से रहूंगा उपस्थित. दिनांक 27 मई, 2019. समय प्रात: 10 बजे से.' 

यह भी पढ़ें: Results 2019: ...तो इस वजह से बिहार में हुई महागठबंधन की दुर्गति

बता दें कि इससे पहले भी तेज प्रताप पार्टी कार्यालय में जनता दरबार लगा चुके हैं, जिसमें उनसे मिलने बड़ी संख्या में फरियादी पहुंचते थे और अपनी समस्या उनके सामने रखते थे. तेज प्रताप भी तत्काल उनकी समस्याओं के समाधान की पहल करते थे. बताया जा रहा है कि तेज प्रताप इस दौरान कार्यकर्ताओं से मिलकर लोकसभा चुनाव में हुए हार की समीक्षा भी करेंगे. बता दें कि लोकसभा चुनाव में राजद को एक भी सीट नहीं मिली है. राजद ने यह चुनाव तेजस्वी के नेतृत्व में लड़ा था. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

मदर्स डे पर तेज प्रताप ने मां राबड़ी के लिए लिखी भावुक शायरी, तेजस्वी ने भी ट्वीट कर दी बधाई

VIDEO: लालू यादव के कुनबे में कलह​