तेज प्रताप यादव ने कहा- मॉब लिंचिंग के लिए RSS और बजरंग दल जिम्मेदार

तेज प्रताप यादव ने बिहार और देशभर में मॉब लिंचिंग के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और बजरंग दल को जिम्मेदार ठहराया.

तेज प्रताप यादव ने कहा- मॉब लिंचिंग के लिए RSS और बजरंग दल जिम्मेदार

तेज प्रताप यादव (फाइल फोटो)

खास बातें

  • मॉब लिंचिंग के लिए RSS और बजरंग दल जिम्मेदार: तेज प्रताप
  • राजद व दूसरे विपक्षी दलों ने राज्य विधानसभा में फिर उठाया ये मुद्दा
  • बीते एक हफ्ते में आधे दर्जन से अधिक लिंचिंग के मामले सामने आए
बिहार:

राष्ट्रीय जनता दल (राजद) प्रमुख लालू प्रसाद के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) ने बुधवार को बिहार व देश भर में मॉब लिंचिंग (भीड़ द्वारा पीट-पीटकर हत्या) के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) व बजरंग दल को जिम्मेदार ठहराया. बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री ने मॉब लिंचिंग के संदर्भ में कहा, 'बिहार व देश भर में मॉब लिंचिंग के पीछे आरएसएस व बजरंग दल हैं.' राजद व दूसरे विपक्षी दलों ने राज्य विधानसभा के जारी सत्र में फिर से इस मुद्दे को उठाया है. बीते एक हफ्ते में राज्य भर से आधे दर्जन से अधिक लिंचिंग के मामले सामने आए हैं.

सावन के पहले सोमवार को तेज प्रताप यादव ने अपनाया ये रूप, कुछ ऐसे की भगवान शंकर की पूजा- देखें Video

बता दें कि हालही में देश में धार्मिक पहचान के कारण घृणा अपराधों के बढ़ते मामलों पर चिंता प्रकट करते हुए प्रबुद्ध नागरिकों के एक समूह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक खुले पत्र में कहा था कि 'जय श्री राम' का उद्घोष भड़काऊ नारा बनता जा रहा है और इसके नाम पर पीट-पीट कर हत्या के कई मामले हो चुके हैं. 

फिल्मकार अडूर गोपालकृष्णन और अपर्णा सेन, गायिका शुभा मुद्गल और इतिहासकार रामचंद्र गुहा, समाजशास्त्री आशीष नंदी सहित 49 नामी शख्सियतों ने 23 जुलाई को यह पत्र लिखा था. इसमें कहा गया है कि 'असहमति के बिना लोकतंत्र नहीं होता है.'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

RJD प्रमुख लालू यादव को मिली जमानत, तो बेटे तेज प्रताप बोले- सत्य परेशान हो सकता है लेकिन...

साथ ही पत्र में कहा गया था, 'हम शांतिप्रिय और स्वाभिमानी भारतीय के रूप में, अपने प्यारे देश में हाल के दिनों में घटी कई दुखद घटनाओं से चिंतित हैं. मुस्लिमों, दलितों और अन्य अल्पसंख्यकों की पीट-पीटकर हत्या के मामलों को तत्काल रोकना चाहिए. हम एनसीआरबी का आंकड़ा देखकर चौंक गए कि वर्ष 2016 में दलितों पर अत्याचार के कम से कम 840 मामले थे लेकिन दोषसिद्धि के प्रतिशत में गिरावट देखी गयी.' इनपुट: (आईएएनएस)