NDTV Khabar

ट्विटर पर तेजस्वी ने लिखा, 'अब याचना नहीं रण होगा', ...तो यूजर्स ने कुछ यूं दिए जवाब

बिहार में एनडीए की सरकार आने के बाद राजनीतिक संकट दूर हो गया है. महागठबंधन की सरकार गिरने के साथ ही सहयोगी रहे कांग्रेस और आरजेडी, नीतीश कुमार और उनकी पार्टी जेडीयू एक दूसरे पर निशाना साध रहे हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
ट्विटर पर तेजस्वी ने लिखा, 'अब याचना नहीं रण होगा', ...तो यूजर्स ने कुछ यूं दिए जवाब

बिहार में एनडीए की सरकार आने के बाद राजनीतिक संकट दूर हो गया है.

खास बातें

  1. बिहार में एनडीए की सरकार आने के बाद राजनीतिक संकट दूर
  2. नीतीश कुमार और तेजस्वी एक दूसरे पर निशाना साध रहे हैं
  3. 27 अगस्त को बिहार के चंपारण में बीजेपी के खिलाफ आरजेडी की रैली
पटना:

बिहार में एनडीए की सरकार आने के बाद राजनीतिक संकट दूर हो गया है. महागठबंधन की सरकार गिरने के साथ ही सहयोगी रहे कांग्रेस और आरजेडी, नीतीश कुमार और उनकी पार्टी जेडीयू एक दूसरे पर निशाना साध रहे हैं. लालू के बेटे तेजस्वी यादव लगातार नीतीश पर प्रहार कर रहे हैं. तेजस्वी ने 27 अगस्त को होने वाली 'भाजपा हटाओ, देश बचाओ' रैली के बारे में  लिखा- “जनादेश के क़त्ल व अपमान के विरुद्ध गांधीजी की कर्मभूमि चंपारण से यात्रा की शुरुआत कर 27 की रैली के लिए शंखनाद होगा. अब याचना नही रण होगा.'  बता दें कि 27 अगस्त को बिहार के चंपारण में बीजेपी के खिलाफ आरजेडी की रैली होनी है. इस रैली में कई विपक्षी पार्टियों के शामिल होने की उम्मीद है. तेजस्वी यादव ने जैसे ही यह ट्वीट किया वे सोशल मीडिया के निशाने पर आ गए.

एक यूजर पुनीता तिवारी ने लिखा अब याचना नही रण होगा के जवाब में मजेदार ढंग से लिखा कि अब लूट नहीं डकैती होगा.
 


ये भी पढ़ें
नीतीश पर तेजस्वी का करारा वार, कहा - मैं तो बहाना था, उन्हें तो बीजेपी की गोद में जाना था

अखिलेश यादव ने बहुत ही मजेदार ढंग से तेजस्वी यादव के ट्वीट को पूरा किया.
 

लालू की पार्टी में भी उठे बगावती सुर, विधायक महेश्वर यादव ने कहा, 'तेजस्वी को इस्तीफा दे देना चाहिए था'

उमरिया विवेक ने लिखा कि इस रण मे कौरवों की हार सुनिश्चित है.
 


ये भी पढ़ें
तेजस्वी यादव के 'जय श्रीराम' वाले बयान पर नीतीश कुमार का वार, मुझे धर्मनिरपेक्षता का पाठ न पढ़ाएं

रुपेश त्रिपाठी ने तो तेजस्वी के बयान का महाभारत से संदर्भ ही कुछ अलग दे दिया.
 


गोविंद कुमार सिंह ने लिखा कि चंपारण की जनता ये जानना चाहती है कि गांधीजी की कर्मभूमि चंपारण के लिए आप क्या क्या किये है पिछले 20 महीने में? कृपया बताने का कष्ट करें.
टिप्पणियां

VIDEO : जब बिहार विधानसभा में नीतीश-तेजस्‍वी में हुआ वार-पलटवार

गौरतलब है कि आरजेडी 27 अगस्त को भाजपा विरोधी दलों को एक मंच पर लाने के मकसद से रैली आयोजित करना चाहती है. राजद ने इस रैली को 'भाजपा हटाओ, देश बचाओ' का नाम दिया है. बिहार के ताजा घटनाक्रम से पहले इस रैली में नीतीश कुमार के भी भाग लेने की बात कही जा रही थी. यहां तक कि नीतीश कुमार खुद कह चुके थे कि अगर उन्हें आमंत्रण मिला तो वे इस रैली में जरूर जाएंगे लेकिन ताजा उलटफेर के बाद अब इस रैली में बसपा सुप्रीमो मायावती, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और अखिलेश यादव के ही भाग लेने की उम्मीद है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement