NDTV Khabar

बिहार में बहार है तो तेजस्वी यादव को किस चीज़ का मलाल है

तेजस्वी ने अख़बार वालों से पूछा कि आख़िर उनकी क्या ग़लती है जिसके कारण उनकी ख़बर या बयान वे नहीं छापते

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बिहार में बहार है तो तेजस्वी यादव को किस चीज़ का मलाल है

तेजस्वी यादव (फाइल फोटो).

खास बातें

  1. प्रादेशिक की जगह शहर के संस्करण तक सीमित किया जा रहा
  2. 80 विधायकों के नेता को 80 लाइन नहीं तो 80 शब्द तो बनते हैं
  3. जनता दल यूनाइटेड के प्रवक्ताओं के बयानों को प्रमुखता
पटना:

बिहार में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने राज्य के अख़बार वालों से पूछा है कि आख़िर उनकी क्या ग़लती है जिसके कारण उनकी ख़बर या बयान वो नहीं छापते. बुधवार को तेजस्वी ने एक बयान में कहा कि नेता प्रतिपक्ष की प्रेस रिलीज़ को खानापूर्ति कर प्रादेशिक की जगह शहर के संस्करण तक सीमित किया जा रहा है. कई तो ख़बर को लेते भी नहीं हैं, विशेषत: हिंदी में.

तेजस्वी ने कहा कि बाक़ी किसी की कोई ग़लती नहीं जो ख़बर को प्रकाशित करना उचित नहीं समझते वो इतना तो मैनेजमेंट को कन्विंस कर सकते है कि राज्य की सबसे बड़ी पार्टी के 80 विधायकों के नेता को 80 लाइन नहीं तो 80 शब्द तो बनते हैं.

टिप्पणियां

तेजस्वी को इस बात का मलाल है कि वे जो बयान देते हैं उस बयान के आधार पर सत्तारूढ़ जनता दल यूनाइटेड के प्रवक्ताओं के बयान अख़बार वाले प्रमुखता से छाप देते हैं लेकिन उनके बयान को जगह नहीं दी जाती. तेजस्वी ने अपने बयान में कहा कि समर्थक शायद आप लोगों से नहीं लेकिन हमसे पूछते हैं कि सत्ता पक्ष के दोनों बड़े दलों के तीन-तीन प्रवक्ताओं के बयानों को विपक्ष के नेता से ज़्यादा स्पेस मिलता है. कुल स्पेस की तो बात ही नहीं हो रही.


हालांकि अपने बयान के साथ तेजस्वी ने बुधवार को कुछ पटना संस्करण में उनके बयान की कतरन भी जारी की.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement