NDTV Khabar

तेज प्रताप यादव के साथ तनातनी की अटकलों के बीच अस्पताल में भर्ती लालू यादव से मिलने तेजस्वी रांची के लिए रवाना

राजद मुखिया लालू यादव के दोनों बेटे तेजस्वी और तेजप्रताप यादव के बीच तनाव में क्या पार्टी पिस रही है. पढ़िए रिपोर्ट.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
तेज प्रताप यादव के साथ तनातनी की अटकलों के बीच अस्पताल में भर्ती लालू यादव से मिलने तेजस्वी रांची के लिए रवाना

खबर आई थी कि दो हफ्ते से बीमार लालू यादव को देखने तेज-तेजस्वी और मीसा भारती में से कोई नहीं गया है. (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. तेजस्वी और तेजप्रताप के बीच क्या चल रही जंग
  2. लालू यादव के दोनों बेटों के बीच कलह से क्या पार्टी का हो रहा नुकसान
  3. अस्पताल में भर्ती लालू यादव को नहीं देखने गए बेटे और बेटी
नई दिल्ली: चारा घोटाले के तीन मामलों में दोषी क़रार दिए जाने के बाद राजद मुखिया लालू प्रसाद यादव इस वक्त न्यायिक हिरासत में रांची के एक अस्पताल में भर्ती हैं, उनको देखने के लिए तेजस्वी यादव रांची रवाना हुए हैं. एनडीटीवी में खबर छपी थी कि लालू यादव के परिवार में उत्तराधिकार को लेकर तेज, तेजस्वी और मीसा भारती के बीच गहरे मतभेद हैं और परिवार में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है. ऐसा माना जा रहा है कि इन्हीं अटकलों पर विराम लगाने के लिए तेजस्वी रांची गए हैं. सूत्रों के मुताबिक इससे पहले पिछले दो हफ़्ते से लालू की तबीयत खराब होने के बावजूद न उनकी बड़ी बेटी मीसा भारती और न ही बेटे तेजप्रताप यादव और तेजस्वी यादव उनका हाल चाल लेने रांची गए. दूसरी ओर पार्टी के नेताओं का कहना हैं कि क़रीब बारह दिनों के दिल्ली प्रवास के बाद तेजस्वी यादव पटना वापस लौटें तो ज़रूर हैं लेकिन उन्होंने पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से कोई मुलाक़ात करने में दिलचस्पी नहीं दिखाई. जिसके बाद पार्टी के पुराने लालू यादव के प्रति वफ़ादार नेताओं का भी मानना है कि सब कुछ सामान्य नहीं लग रहा.तेजस्वी मीडिया से दूरी नहीं बनाते लेकिन पार्टी कवर करने वाले पत्रकार भी मानते हैं कि अब वो उनसे दूरी बनाये हुए हैं.


हथियार से लैस शख्स ने मेरा हाथ पकड़ा, BJP मुझे मारने की साजिश रच रही है: तेज प्रताप यादव

इसके पीछे असल कारण तेज़ प्रताप यादव को माना जाता हैं जो पार्टी में अपनी हैसियत का रोना रोकर न केवल घर में बल्कि पार्टी में भी नेताओं के लिए मुश्किल बढ़ाए हुए हैं. तेज प्रताप चाहते हैं कि उनकी पूछ बढ़े और उनसे पूछे बिना पार्टी कोई निर्णय नहीं ले. लेकिन पार्टी के ही विधायक मानते हैं जब लालू यादव ने खुद तेजस्वी को अपना उत्तराधिकारी घोषित कर दिया हैं तब तेज़प्रताप यादव की मांग दीवार पर सिर मारने के समान हैं. लेकिन राजद के नेता ख़ुद मानते हैं कि तेज़ प्रताप यादव कब कहां किसे फजीहत कर देंगे, कुछ कहा नहीं जा सकता.
राजद में लालू के बाद तेजस्वी और उसके बाद तेजप्रताप, जंग जारी है!

फ़िलहाल परिवार और भाइयों के बीच तनाव का असर न केवल पार्टी के कार्यक्रम पर दिख रहा हैं जैसे रविवार को भोला पासवान जयंती पर पार्टी के तमाम नेताओं के गुहार के बावजूद दोनो भाई नदारद रहे.इसके अलावा सीपीआई माले की रैली में पूर्व सांसद आलोक मेहता को भेजा गया. जबकि आयोजकों को तेजस्वी यादव के आने का इंतज़ार था ,इसके अलावा राफेल डील पर तेजस्वी ट्वीट करते हैं लेकिन एक भी संवाददाता सम्मेलन नहीं किया.

टिप्पणियां
वीडियो-RJD में तेजस्वी Vs तेज प्रताप? : वर्चस्व को लेकर मची लड़ाई 

 हालांकि दोनों के बीच मतभेद की खबरों पर तेजस्वी ने साफ कहा था कि ऐसी कोई बात नहीं है. लेकिन उनके इस बयान के बाद भी तेज प्रताप यादव के तेवर ढीले होते नहीं दिखाई दिए.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement