NDTV Khabar

बिहार में न लॉ है, न ऑर्डर; देश तानाशाही की ओर बढ़ रहा : लालू यादव

राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू यादव रांची गए, कई महीनों बाद किसी मुद्दे पर अपनी प्रतिक्रिया दी

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बिहार में न लॉ है, न ऑर्डर; देश तानाशाही की ओर बढ़ रहा : लालू यादव

लालू प्रसाद यादव बुधवार को पटना से रांची चले गए.

खास बातें

  1. लालू ने पांच वामपंथी विचारकों की गिरफ्तारी की निंदा की
  2. कहा- देश में आपातकाल लागू करने का रास्ता प्रशस्त हो गया
  3. कहा- मुझे जानबूझकर चुनाव से दूर रखने के लिए साजिश रची गई
पटना: राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू यादव बुधवार को रांची चले गए. रवाना होने से पहले उन्होंने महीनों बाद किसी मुद्दे पर अपनी प्रतिक्रिया दी. लालू यादव ने बिहार की विधि व्यवस्था पर कहा कि यहं न लॉ है न ऑर्डर है. बिहार की हालत वैसी है जैसे रोम जल रहा था और नीरो बंशी बजा रहा था.

लालू ने पटना एयरपोर्ट पर पत्रकारों के सवालों के जवाब देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर कथित हमले की साज़िश के सम्बंध में पांच लोगों की गिरफ्तारी की निंदा की. उन्होंने कहा कि कैसे प्रधानमंत्री हैं जो खुद बोल रहे हैं कि मेरे ऊपर खतरा है. लालू ने कहा कि देश तानाशाही की तरफ बढ़ रहा है. कब किसकी गिरफ्तारी होगी कोई नहीं जानता. देश में आपातकाल लागू करने का रास्ता प्रशस्त हो गया है.

यह भी पढ़ें : 10 अप्रैल से पैरोल पर जेल से बाहर चल रहे लालू प्रसाद यादव मुंबई से पहुंचे पटना, 30 अगस्त तक करना है सरेंडर

लालू ने अपने मामले की चर्चा करते हुए कहा कि वे निर्दोष हैं और उन्हें फंसाया गया है. लेकिन उन्हें उम्मीद है कि उन्हें न्याय मिलेगा. लालू ने कहा कि उन्हें जानबूझकर चुनाव से दूर रखने के लिए सब साज़िश रची गई है. लालू यादव करीब तीन महीने से इलाज के नाम पर जेल से बाहर हैं. उन्होंने कहा कि हमको अस्पताल में आराम करने का शौक नहीं है. बीमारी के कारण अस्पताल में रहे. अदालत जहां कहेगी वहां रहेंगे. लालू ने कहा कि राबड़ी देवी और तेजस्वी पर भी लगाए गए आरोप बेबुनियाद हैं. हमें जानबूझकर तनाव में रखा जा रहा है ताकि चुनाव पार हो जाए.

टिप्पणियां
VIDEO : लालू की AIIMS से छुट्टी

रांची में फिलहाल लालू यादव को एक बार फिर RIMS में रखा जाएगा क्योंकि उन्हें अभी भी इन्फ़ेक्शन का डर है. हालांकि उनके वकीलों का कहना है कि उन्हें अभी भी कई ऐसी बीमारियां हैं जिनके इलाज के किए उन्हें बाहर रहने की अनुमति दी जानी चाहिए थी.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement