NDTV Khabar

ये अलीबाबा चालीस चोर की सरकार है : शत्रुघ्‍न सिन्‍हा

उन्होंने यशवंत सिन्हा को अपना बड़ा भाई बताते हुए कहा कि वो कृष्ण के समान हैं और तेजस्वी उनके अर्जुन हैं. बिहारी बाबू के निशाने पर केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली भी रहे.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
ये अलीबाबा चालीस चोर की सरकार है : शत्रुघ्‍न सिन्‍हा

यशवंत सिन्हा के राष्ट्र मंच द्वारा आयोजित समारोह में बोलते शत्रुघ्‍न सिन्‍हा

पटना: बिहारी बाबू शत्रुघ्‍न सिन्हा ने फ़िलहाल भाजपा की सदस्यता से इस्तीफ़ा नहीं दिया है. लेकिन पार्टी को अपने ख़िलाफ़ कार्रवाई के लिये एक बार फिर उकसाते हुए उन्होंने केंद्र सरकार को अलीबाबा और चालीस चोर की संज्ञा दे दी. सिन्हा शनिवार को राष्ट्र मंच द्वारा आयोजित कार्यक्रम में बोल रहे थे. इस मंच से पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा ने भाजपा छोड़ने की घोषणा की. लेकिन बिहारी बाबू ने कहा कि अगली बार उन्हें टिकट मिले या ना मिले, फिर यशवंत सिन्हा की तरफ़ मुख़ातिब होकर कहा, 'हम तोरा साथ रहब'.

उन्होंने यशवंत सिन्हा को अपना बड़ा भाई बताते हुए कहा कि वो कृष्ण के समान हैं और तेजस्वी उनके अर्जुन हैं. बिहारी बाबू के निशाने पर केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली भी रहे.

नोटबंदी से नकदी की वर्तमान समस्या पर बोलते हुए शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि एक देश एक टैक्स से अब पूरे देश में जल्द चालीस टैक्स लगेगा. लेकिन उन्हें बेबाक़ बात करने में कोई डर नहीं हैं.

शत्रुघ्न सिन्हा अपनी पार्टी को चुनौती देते हुए कहा कि वह उन्हें निष्कासित कर दिखाए. साथ ही कहा कि क्रिया की प्रतिक्रिया होगी. उन्होंने कहा कि उनके खिलाफ कार्रवाई को लेकर वे लोग (अपनी पार्टी) पिछले बिहार विधानसभा चुनाव के बाद सोच रहे थे. वे इतने असहाय हैं और उनकी स्थिति इतनी दयनीय है कि इसके लिए मुहुर्त देख रहे थे. शत्रुघ्न ने कहा कि वे जब चाहें ऐसा निर्णय ले सकते हैं पर न्यूटन के तीसरे नियम को याद रखें कि हर क्रिया की प्रतिक्रिया होती है.

सिने अभिनेता से राजनेता बने शत्रुघ्न ने कहा कि भाजपा में उसे छोड़ने के लिए शामिल नहीं हुए थे और हमेशा कहता रहा हूं कि यह मेरी पहली और आखिरी पार्टी है लेकिन वे अगर मुझे छोड़ना चाहें तो छोड़ दें. उन्होंने कहा कि यह पार्टी के खिलाफ बगावत नहीं देश के प्रति अपनी वफादारी है, हमें भी यह सिखाया गया है कि व्यक्ति से बड़ा दल होता और दल से बड़ा देश. शत्रुघ्न ने सभागार में मौजूद लोगों से पूछा कि वे जो कर रहे हैं क्या वह देश हित में नहीं है. उन्होंने कहा कि नोटबंदी और जीएसटी के कारण देश में बेरोजगारी बढ़ी और छोटे छोटे व्यापार और कारखाने बंद हो गए तो उसके बारे में बात किया जाना जनहित में है या नहीं.

टिप्पणियां
VIDEO: यशवंत सिन्हा का बीजेपी छोड़ने का ऐलान

(इनपुट भाषा से...)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement