NDTV Khabar

रेल भाड़े की तरह बिजली दर भी पूरे देश में एक होनी चाहिए : नीतीश कुमार

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रविवार को कहा कि जिस प्रकार रेल भाड़े की दर एक है, उसी प्रकार से बिजली की दर भी पूरे देश में एक होनी चाहिए.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
रेल भाड़े की तरह बिजली दर भी पूरे देश में एक होनी चाहिए : नीतीश कुमार

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में ऊर्जा क्षेत्र में इतना काम हुआ है कि अब थर्मल पावर लगाने की जरूरत नहीं है.

पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रविवार को कहा कि जिस प्रकार रेल भाड़े की दर एक है, उसी प्रकार से बिजली की दर भी पूरे देश में एक होनी चाहिए. मुख्यमंत्री सचिवालय स्थित संवाद में आयोजित एक समारोह के दौरान उर्जा प्रक्षेत्र के 1462.36 करोड़ रुपये की योजनाओं का शिलान्यास, उद्घाटन एवं लोकार्पण रिमोट बटन दबाकर करते हुए कहा कि एक प्रश्न जो हम बार-बार उठा रहे हैं कि जो केंद्र द्वारा बिजली एनटीपीसी के माध्यम से मिलती है, उसमें बिहार का जो आवंटन है, उसकी दर ज्यादा है. उन्होंने कहा कि बिहार के ऊर्जा मंत्री ने और ऊर्जा विभाग ने मजबूती के साथ इस बात को केंद्र के समक्ष रखा है.

नीतीश ने कहा कि जिस प्रकार रेलवे भाड़ा एक है, जैसे कि आप तमिलनाडु में घूमिये या बिहार में, यूपी में जाइये या महाराष्ट्र में रेलवे की दर है, उसी तरह से बिजली की दर पूरे देश में एक होनी चाहिये. उन्होंने कहा कि एनटीपीसी द्वारा पूरे देश के लिये बिजली की एक दर निर्धारित की जानी चाहिए. नीतीश ने कहा कि हम लोग मांग करते हैं कि पूरे देश के लिए बिजली का एक दर होना चाहिए. मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में ऊर्जा क्षेत्र में इतना काम हुआ है कि अब थर्मल पावर लगाने की जरूरत नहीं है. हम दो स्थानों पर जहां थर्मल प्लांट लगाना चाहते थे, वहां सौर संयंत्र लगायेंगे.
 
पढ़ें: बिहार के आएंगे 'अच्छे दिन', दिसंबर तक सभी गांव होंगे रोशन

नीतीश ने कहा कि भारत सरकार ने यह तय किया कि बिहार की योजना हर घर बिजली कनेक्शन को केंद्रीय योजना के रूप में अपनाएगा. उन्होंने कहा कि बिहार में आज बिजली के क्षेत्र में इतना काम हुआ है कि उसे राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता मिली है, इसके लिये मैं ऊर्जा विभाग को बधाई देता हूं. मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार में जो हम नीति बनाते हैं, उसकी प्रशंसा बाकी जगह होती है. नीतीश ने कहा कि बिजली प्रक्षेत्र पर हर कदम पर ध्यान दिया गया है ताकि कठिनाई न हो.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement