NDTV Khabar

बिहार के सीएम नीतीश कुमार का बीजेपी के साथ अपने संबंधों पर यह है कहना...

सोमवार को अपने लोक संवाद के बाद संवाददाता सम्मेलन में नीतीश कुमार ने विस्तृत रूप से इस पर सफ़ाई दी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बिहार के सीएम नीतीश कुमार का बीजेपी के साथ अपने संबंधों पर यह है कहना...

बिहार के सीएम नीतीश कुमार का बीजेपी के साथ अपने संबंधों पर यह है कहना... (फाइल फोटो)

पटना: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की एक मांग को सार्वजनिक रूप से क्या ख़ारिज कर दी, दोनों के सम्बन्ध के बारे में तरह तरह के क़यास लगाये जा रहे हैं. सोमवार को अपने लोक संवाद के बाद संवाददाता सम्मेलन में नीतीश कुमार ने विस्तृत रूप से इस पर सफ़ाई दी.

पटना विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय बनाये जाने की मांग क्यों रखी, के सवाल पर कहा कि ये कोई नयी मांग नहीं है. नीतीश कह चुके हैं कि संसद में भी इसे उन्होंने कई बार उठाया. इसके अलावा राज्य सरकार ने कई बार इसके लिये प्रस्ताव भी केंद्र को भेजा है. आम बिहारियों की जन भावना है यह और छात्र शिक्षक भी ऐसा चाहते हैं लेकिन नीतीश ने माना ये केंद्र का विवेक है कि उनकी बातों को माने या नहीं. लेकिन, ये उनका दायित्व है कि लोगों की इच्छा से उन्हें अवगत करवाएं.

लालू यादव का पीएम नरेंद्र मोदी पर तंज, विकास पैदा ही नहीं हुआ तो मरेगा कैसे

प्रधानमंत्री द्वारा इस प्रस्ताव को ना मानने के बाद शुरू हुई अटकलों पर नीतीश का साफ़ कहना था कि पत्रकार लोग इस बात के लिये स्वतंत्र हैं और उनके ऊपर कोई पाबंदी नहीं हैं. नीतीश ने माना कि उन्हें इस बात का अंदाज़ा हैं कि उन्हें इस बात पर कोई आपत्ति नहीं है. लेकिन, नीतीश ने कहा कि उन्हें जो कहना था, कह दिया और वो भी सार्वजनिक रूप से. लेकिन पत्रकार भी अपने तरीक़े से इसका अर्थ लगाने के लिए स्वतंत्र हैं.

बिहार में क्यों बढ़ीं आरजेडी नेता तेजप्रताप यादव की मुश्किलें, पढ़ें पूरी खबर

टिप्पणियां
बिहार भाजपा के नेता कहते हैं नीतीश ने मांग रखकर कुछ ग़लत नहीं किया और अगर प्रधानमंत्री ने मांग को मान लिया होता तो शायद ना विपक्ष या ना मीडिया को इतना मीनमेख निकालने का मौक़ा मिलता. कई केन्द्रीय मंत्री जिसमें रविशंकर प्रसाद प्रमुख हैं, उन्होंने नीतीश कुमार की तरह पटना विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय बनाने की मांग रख चुके हैं.

VIDEO- पटना यूनिवर्सिटी में पीएम ने किया स्टूडेंट्स को संबोधित

फ़िलहाल पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा ने कहा है कि जब बिहार की इस पुरानी मांग को नहीं मानना है, ये मूड बनाकर प्रधानमंत्री आए थे, तब शायद आयोजकों को इस बात का ज़रूर मलाल होगा कि उन्हें क्यों बुलाया. वहीं कुछ लोगों का कहना है कि पटना विश्वविद्यालय के इतिहास में ये बात अब सदा के लिए अंकित रहेगी. प्रधान मंत्री आए तो ज़रूर दिया कुछ नहीं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement