तेजस्वी यादव ने सीबीआई और बिहार सरकार को क्यों घेरा?

विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव का कहना है कि मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड में नीतीश कुमार और उनके भाजपा के मंत्रियों को बचाने के लिए CBI कहानी पलट रही

तेजस्वी यादव ने सीबीआई और बिहार सरकार को क्यों घेरा?

बिहार विधानसभा के विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव (फाइल फोटो).

खास बातें

  • सरकारी संरक्षण में 34 बच्चियों के साथ सत्ताधारियों ने सामूहिक रेप किया
  • मुख्यमंत्री और मंत्रिमंडल के उनके परम शिष्यों को बचाने की कोशिशें हो रहीं
  • मुजफ्फरपुर बलात्कार कांड राजनीतिक नहीं बल्कि मानवीय मुद्दा
पटना:

मुजफ्फरपुर बालिका गृह बलात्कार कांड (Muzaffarpur Rape Case) में जांच एजेंसी सीबीआई (CBI) ने सर्वोच्च न्यायालय को बताया था कि उसने किसी बच्ची का शव बरामद नहीं किया. जो कंकाल मिला था वो किसी वयस्क व्यक्ति का था. इसके बाद इस मामले के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर पर अब हत्या का कोई मामला नहीं चलेगा. लेकिन विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव (Tejaswi Yadav) का कहना है कि मुजफ्फरपुर बालिका गृह बलात्कार पीड़ित 34 बच्चियों ने बताया था कि उनकी 2-3 साथियों की जघन्य दुष्कर्म के बाद दरिंदगी से हत्या कर शव वहीं उसी कॉम्पाउंड मे गाड़ दिए थे. खोदने पर उनके कंकाल भी मिले लेकिन अब नीतीश कुमार (Nitish Kumar) और उनके भाजपा (BJP) के मंत्रियों को बचाने के लिए CBI कहानी पलट रही है.

तेजस्वी के अनुसार सरकारी संरक्षण में 34 बच्चियों के साथ सत्ताधारी सफ़ेदपोशों द्वारा वर्षों तक सामूहिक बलात्कार की घटना उजागर होने पर पूरे देश में हाहाकार मचा था. देश की रूह कांप उठी थी. उस पर अब CBI द्वारा मुख्यमंत्री और मंत्रिमंडल में शामिल उनके परम शिष्यों को बचाने की कोशिशें हो रही हैं.

कोर्ट ने कहा CBI जांच अधिकारी का ट्रांसफर न करें. मुजफ्फरपुर बलात्कार कांड राजनीतिक नहीं बल्कि मानवीय मुद्दा है. कैसे अनाथ लड़कियों के साथ सत्ता संपोषित व संरक्षित सामूहिक दुष्कर्म किया जाता रहा और सीएम मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर और गैंग को लगातार फंडिंग करते रहे? उसके घर जाते रहे? उसके अखबार को नियमों के विपरीत जाकर करोड़ों के विज्ञापन देते रहे? उसे चुनाव भी लड़वाते रहे? और अब उसके विरुद्ध स्पष्ट साक्ष्य होने के बावजूद उसे बचाने की लाख कोशिशें कर रहे हैं.

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस: CBI की जांच रिपोर्ट पर RJD का तंज- अब हो गया न्याय! बजाओ ताली! वाह मोदीजी वाह!

आश्चर्य नहीं होना चाहिए कि बड़ी मछलियों को बचाने के लिए मुख्यमंत्री कुछ छोटी मछलियों की बलि चढ़वा दें.

क्या CBI इतनी अंधी, बहरी हो गई है जो ब्रजेश ठाकुर के खुद के कर्मचारी बता रहे हैं कि बच्चियों की हत्या कर शव यहां गाड़े गए थे. शेष पीड़ित लड़कियां बता रही हैं, पड़ोस के प्रत्यक्षदर्शी बता रहे हैं. क्या किसी के घर में किसी और के कंकाल मिलेंगे?

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस: CBI का SC में दावा- वहां नहीं हुआ किसी लड़की का मर्डर, जिनकी हत्या का था शक वे सब जिंदा हैं

अगर कुछ नहीं हुआ था तो नीतीश कुमार जी ने तत्कालीन समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा का इस्तीफ़ा क्यों मांगा? और दूसरे मंत्री को क्यों छोड़ा? उनके अति विश्वासपात्र के सहयोगी के NGO से भी लड़कियां गायब हुई थीं और उसको इसका इनाम देते हुए मुख्यमंत्री ने बाद में उसे भी मंत्री बनाया.

नीतीश कुमार जी ने मुज़फ़्फ़रपुर बलात्कार कांड पर अपने रोल और ब्रजेश ठाकुर से गहरे रिश्तों पर पर अब तक स्पष्टीकरण क्यों नहीं दिया?

शेल्टर होम केस: 25 पूर्व डीएम सहित 70 अधिकारियों के खिलाफ बिहार सरकार को लेना होगा एक्शन

VIDEO : मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस में सीबीआई का बड़ा दावा

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com