NDTV Khabar

पटना बाढ़: रेस्क्यू के बाद महिला का छलका दर्द, कहा- कभी सोचा तक नहीं था कि..., देखें VIDEO

महिला ने कहा कि हमनें कभी नहीं सोचा था कि हमें कभी ऐसे भी रहना पड़ेगा. उन्होंने कहा कि बाढ़ की वजह से उन्हें बहुत दिक्कत हुई.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पटना बाढ़: रेस्क्यू के बाद महिला का छलका दर्द, कहा- कभी सोचा तक नहीं था कि..., देखें VIDEO

रेस्क्यू होने के बाद भावुक हुई महिला

खास बातें

  1. पटना की बाढ़ में कई दिनों से फंसी थी महिला
  2. बुधवार को किया गया रेस्क्यू
  3. पटना में चलाया जा रहा है स्पेशल ऑपरेशन
नई दिल्ली:

बिहार के पटना में 'आफत' की बारिश भले ही रुक गई हो लेकिन यहां रहने वाले लोगों की परेशानी अभी भी जस की तस बनी हुई है. अभी भी ज्यादातर इलाकों में लोग फंसे हैं. प्रशासन वायुसेना और एनडीआरएफ की मदद से लोगों को रेस्क्यू करने में जुटी है. पटना के कंकड़बाग में एक ऐसे ही परिवार को सुरक्षित बाहर निकाला गया है. जो बीते कई दिनों से फंसा था. परिवार की एक महिला एएनआई से बात करते हुए भावुक हो गईं और फूंट फूंट कर रोने लगी. उन्होंने कहा कि हमनें कभी नहीं सोचा था कि हमें कभी ऐसे भी रहना पड़ेगा. उन्होंने कहा कि बाढ़ की वजह से उन्हें बहुत दिक्कत हुई. मेरे साथ मेरा पूरा परिवार था और सब एक साथ फंसे थे. न हमारे घर में बिजली थी न ही खाने का कोई सामान. हम बस जैसे तैसे करके बाहर निकल पाए. 


गौरतलब है कि सीएम नीतीश कुमार ने बाढ़ के बाद बने हालात का मंगलवार रात को निरीक्षण किया. बता दें कि भारी बारिश से मरने वाले 42 लोगों में भागलपुर में दस, गया में छह, पटना एवं कैमूर में चार-चार, खगड़िया एवं भोजपुर में तीन-तीन, बेगूसराय, नालंदा एवं नवादा में दो-दो, पूर्णिया, जमुई, अरवल, बांका, सीतामढी और कटिहार में एक-एक व्यक्ति शामिल हैं. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को इलाके का निरीक्षण के बाद अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिये. पटना के एक अणे मार्ग स्थित अपने सरकारी आवास से गांधी मैदान होते हुये नीतीश ने मंगलवार को शहर के जलजमाव वाले क्षेत्रों का मुआयना किया था.

बिहार में बाढ़ की स्थिति को लेकर कांग्रेस ने राज्य सरकार पर निशाना साधा

मुख्यमंत्री ने श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल में चलाये जा रहे आपदा राहत बचाव कार्य के लिये राहत सामग्री आपूर्ति, भंडारण, पैकेटिंग एवं निर्गत केन्द्र का भी जायजा लिया. उन्होंने इसके पश्चात सैदपुर के जलजमाव वाले क्षेत्रों का जायजा लिया और अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिये थे. निरीक्षण के बाद मुख्यमंत्री ने जलभराव से प्रभावित क्षेत्रों के लोगों से मुलाकात कर उनकी समस्याएं सुनी व उनके निदान के लिए अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिये थे. मुख्यमंत्री ने जल निकासी के कार्य में तेजी लाने का निर्देश दिया. उधर, बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने सचिवालय स्थित अपने कार्यालय कक्ष में मंत्रियों, स्थानीय विधायकों व पटना नगर निगम, बुडको व नगर विकास विभाग के आला अधिकारियों के साथ उच्चस्तरीय बैठक कर जलमग्न इलाकों में उच्च क्षमता के पम्प लगा कर जमे हुए पानी में अगले 48 घंटे में निकालने का निर्देश दिया था.

गृह राज्य मंत्री किशन रेड्डी ने बिहार की बाढ़ पर जताई चिंता, कहा- जरूरत पर रवानगी के लिए तैयार हैं अर्द्धसैनिक बल

उन्होंने बताया था कि कोल इंडिया, एनटीपीसी और कल्याणपुर सीमेंट से मंगाए गए उच्च क्षमता के पम्पों के जरिए कंकड़बाग और राजेन्द्र नगर जैसे सर्वाधिक प्रभावित इलाकों से पानी को निकाला जायेगा. इस बैठक में अलग-अलग मोहल्लों में जमे पानी को 50 नए पम्पों के जरिए युद्ध स्तर पर निकालने के साथ ही जल संसाधन विभाग से भी पम्प मंगाने का निर्णय लिया गया. वहीं, राज्य की पूर्व मुख्यमंत्री और राजद की वरिष्ठ नेता राबड़ी देवी ने पटना में खराब जल निकाली प्रणाली के लिए सीएम नीतीश कुमार और उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी को जिम्मेदार ठहराया है.

बिहार बाढ़: बचाव और राहत कार्यों के लिए NDRF की टीम, वायु सेना के हेलीकॉप्टर तैनात

उन्होंने मंगलवार को कहा था कि उनके शासन काल में भारी बारिश के कारण जब इस शहर में कुछ इंच पानी जमा हो जाता था तो सुशील धरने पर बैठ जाते थे. आज से 20 वर्ष पूर्व हमारी सरकार में सीवरों की नियमित सफ़ाई होती थी. भारी बारिश के कारण अगर 1-2 घंटे शहर के कुछ हिस्सों में यदि कुछ इंच जलजमाव होता भी था तो उसी 2-3 इंच पानी में सुशील मोदी नौटंकी करने धरने पर बैठ जाते थे. हमारे शासन में कभी भी गंदा पानी कई-कई दिनों तक जमा नहीं रहा. राबड़ी देवी ने आरोप लगाया कि नीतीश कुमार और सुशील मोदी के 15 वर्ष के राज में 4 दिन से 5-6 फुट गंदा पानी जमा है. क्यों नहीं सुशील मोदी अब नौटंकी कर धरना देते? काहे मुँह छिपाए घुम रहे हैं? ये तो नगर विकास मंत्री भी रहे हैं.

पटना बाढ़ में फंसा मिला रिक्शावाला, बॉलीवुड एक्ट्रेस ने वीडियो शेयर कर उतारा गुस्सा- इसे देखकर भी आंख...

बताए सारा पैसा कौन, कैसे, किसलिए, कहाँ और क्यों खा गया''? वहीं माकपा की जिला समिति की सदस्य एवं महिला नेत्री सरिता पांडेय के नेतृत्व में मंगलवार को पटना के बाइपास पर सड़क जाम की गई. माकपा के सचिव मनोज कुमार चंद्रवंशी ने बताया कि पटना के सांसद रविशंकर प्रसाद और विधायक नितिन नवीन के आश्वासन पर सड़क जाम समाप्त हुआ.

टिप्पणियां

VIDEO: पटना में आफत की बारिश.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement