NDTV Khabar

ह्यूस्टन में प्रधानमंत्री अमेरिका की महानता की भी तारीफ करें और सीखें

आज़ादी के बाद भारत के किस शहर में दूसरे शहर में आकर लोग बसे? जिनकी तुलना आप न्यूयार्क के न्यू जर्सी या ब्रिटेन के साउथ हॉल से कर सकते हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
ह्यूस्टन में प्रधानमंत्री अमेरिका की महानता की भी तारीफ करें और सीखें

अमरीका के शहर ह्यूस्टन में आज प्रधानमंत्री की रैली है. उसके बहाने आप अमरीका को भी समझने का प्रयास करें. उस मुल्क के समाज में इतना लोकतंत्र तो है कि आप दूसरे देशों से जाकर बस सकते हैं, नागरिकता ले सकते हैं और चुनाव लड़कर वहां की संसद में पहुंच सकते हैं. अन्य संस्थाओं में आराम से प्रतिभा के दम पर जगह पा सकते हैं. वहां रहने वाले लाखों भारतीयों का एक हिस्सा ह्यूस्टन के स्टेडियम में पहुंचेगा तो अमरीकी उनकी निष्ठा या राष्ट्र भक्ति पर संदेह नहीं करेंगे. बल्कि हो सकता है कि वे भी सुनने चले जाएं.

इसके बावजूद ट्रंप प्रशासन माइग्रेशन और एच वन बी वन वीज़ा को लेकर आक्रामक रवैया रखता है तब भी वहां बस चुके भारतीयों ने कभी असुरक्षित महसूस नहीं किया. उन्हें डर नहीं लगा कि अमरीकी एक दिन कहेंगे कि जो दूसरे देश का है वो हमेशा दूसरे देश का होता है. मातृ भूमि और पुण्य भूमि का बोगस सिद्धांत लेकर शक नहीं करेंगे. नहीं कहेंगे कि ये भारतीय हमारे संसाधन पर बोझ हैं. चार जुलाई को रैलियों में नहीं आते हैं. इसलिए इनकी जांच हो और एक नेशनल रजिस्टर बने. तब क्या होता? हम रोज़ इस बात का जश्न मनाते हैं कि रूस में कोई भारत का विधायक हो गया. आस्ट्रेलिया में सांसद हो गया. अमरीका और ब्रिटेन से तो ऐसी ख़बरें आम हो चुकी हैं. लेकिन भारत में क्या होता ? क्या हुआ वो भी याद करें?

सरकार ने दी कॉरपोरेट टैक्‍स में राहत, क्‍या आम आदमी को होगा फायदा?


आज़ादी के बाद भारत के किस शहर में दूसरे शहर में आकर लोग बसे? जिनकी तुलना आप न्यूयार्क के न्यू जर्सी या ब्रिटेन के साउथ हॉल से कर सकते हैं. अमरीका के कितने ही मोहल्ले हैं जो भारतीयों के गढ़ के रूप में पहचाने जाते हैं बल्कि वहाँ भारतीय आराम से अमरीकी लोगों के बीच में रहते हैं. दुकानें हैं. उनकी कंपनियां हैं. बिल्कुल सुरक्षित जीवन जी रहे हैं. वहां जाते ही सब सिस्टम की बड़ाई करने लगते हैं. उनकी बातों से आपको एक बार नहीं लगेगा कि अमरीका की पुलिस मदद नहीं करती या आती है तो रिश्वत लेकर चली जाती है या उन्हें फ़र्ज़ी केस में फंसा देने का डर है. बल्कि मैंने देखा है कि भारत से ज़्यादा वहां जाकर लोग सिस्टम और समाज को लेकर सुरक्षित महसूस करते हैं. इसलिए तरक़्क़ी भी ख़ूब करते हैं.

स्कूल में पढ़ने वाली ग्रैता तुन्बैर जलवायु संकट पर कैसे बन गईं ग्लोबल नेता

आज भारत में दस लाख अमरीकी आकर बस गए होते, फ्रांस या ब्रिटेन से आकर बसे होते तो रोज़ यही भारतीय उनकी राष्ट्र भक्ति को लेकर संदेह कर रहे होते. उनके मताधिकार छीन लेने की बात करते और कहते कि भारत में रहें, दुकान चलाएं मगर वे मंत्री या प्रधानमंत्री नहीं बन सकते हैं. हम रोज़ उन्हें शक की निगाह से देखते. बल्कि अमरीका में रहने वाले भारतीय ही भारत में इस तरह की बातों को बढ़ावा देते. ऐसी बात करने वाले संगठनों को चंदा देते. समर्थन देते. नेताओं के रोज़ बयान आते कि आप पैदा अमरीका में हुए, इसलिए भारत की नागरिकता नहीं मिल सकती क्योंकि आपकी निष्ठा भारत के प्रति हो ही नहीं सकती. हमारी संसद अमरीका के सामने कितनी कम लोकतांत्रिक नज़र आती है. आप ख़ुद तुलना करें.

अर्थव्यवस्था ढलान पर है, लेकिन क्या ऐसी ख़बरें हिन्दी अख़बारों में छप रही हैं...?

अब इसी संदर्भ में आप केंद्र सरकार के नागरिक क़ानून के प्रस्ताव को देखिए. अभी पास नहीं हुआ है. उसमें है कि सिर्फ हिन्दू सिख पारसी विस्थापितों को नागरिकता दी जाएगी. जो बांग्लादेश से लेकर अफ़ग़ानिस्तान में सताए गए हैं. इसमें मुसलमान नहीं है. नागरिकता का धर्म के आधार पर विभाजन किया गया है. आज अगर अमरीका इसी तरह का क़ानून बना दे तब क्या होगा? ह्यूस्टन के स्टेडियम में प्रधानमंत्री अकेले खड़े होकर भाषण दे रहे होते. वो भारत के गर्व की बात करेंगे ही लेकिन आप ज़रा इस नज़र से वहाँ आई भीड़ को देखिए. क्या यही भीड़ इस बात का समर्थन करती कि पुणे में बस चुके दस लाख अमरीकी भारतीयों को ट्रंप संबोधित करेंगे. पहले तो हम बसने के सवाल पर ही दंगा करा देते और अगर बस भी जाते तो ट्रंप की रैली के वक्त एंकर चीख़ रहे होते कि ये भारत से ग़द्दारी है. कोई आबादी पर लेक्चर देने के बहाने निशाना बना रहा होता.

रवीश कुमार का ब्लॉग: 'अगर नाम बदलने से हालात बदलते हैं तो अम्बानी रख लेता हूँ'

टिप्पणियां

भारत एक विशाल देश है मगर कई बार लगता है कि हमारा आत्मविश्वास कमज़ोर है. दिल छोटा है. भारत को उदार और विशाल बनाना है. यह काम नागरिकों से होगा. नेताओं से नहीं. अगर दुनिया कुटुंब है तो दुनिया को भी बुलाओ. सिर्फ उनके घर का मत खाओ. अपने घर में भी खिलाओ. जैसा इस महान भूमि ने अतीत में किया है.

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति NDTV उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार NDTV के नहीं हैं, तथा NDTV उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.



NDTV.in पर विधानसभा चुनाव 2019 (Assembly Elections 2019) के तहत हरियाणा (Haryana) एवं महाराष्ट्र (Maharashtra) में होने जा रहे चुनाव से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरें (Election News in Hindi), LIVE TV कवरेज, वीडियो, फोटो गैलरी तथा अन्य हिन्दी अपडेट (Hindi News) हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement