'आप' सरकार को सवाल से परेशानी?

'आप' सरकार को सवाल से परेशानी?

दिल्ली के परिवहन मंत्री गोपाल राय (फाइल फोटो)

एक आंदोलन से जन्मी आम आदमी पार्टी सबसे ज्यादा इस बात का ढिंढोरा पीटती थी कि वो बाकी राजनीतिक दलों से अलग है। वो कितनी अलग है, ये पहले भी सवालों में आ चुका है, लेकिन अब इस पार्टी को सवाल पूछे जाने से भी समस्या है। हमारे सहयोगी रवीश रंजन शुक्ला ने जब 'आप' सरकार के ट्रांसपोर्ट मिनिस्टर गोपाल राय की प्रेस कॉन्फ्रेंस में सवाल पूछा, तो मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आदेश पर उन्हें और उनके कई पत्रकार मित्रों को उस व्हाट्सएप ग्रुप से अलग कर दिया गया, जो उनके दो मंत्रियों के थे।

घटनाक्रम कुछ ऐसा रहा कि शनिवार को 3 बजे ट्रांसपोर्ट मंत्री गोपाल राय की प्रेस कॉन्फ्रेंस थी, जिसमें ऑड-ईवन को लेकर जानकारी दी जानी थी। उसमें हमारे संवाददाता रवीश रंजन शुक्ला ने पब्लिक ट्रांसपोर्ट से जुड़े सवाल पूछे। मंत्री गोपाल राय जवाब देने की कोशिश कर ही रहे थे कि वहीं बैठे मीडिया सलाहकार नगेंद्र शर्मा ने बीच में ही तेज आवाज में 'अगला सवाल' बोलते हुए बात काट दी। उनका अंदाज़ ऐसा था कि अगला सवाल ना पूछा जा सके।

इसके बाद इस मसले पर रवीश रंजन शुक्ला ने एक ब्लॉग लिखा, जिसे कई सारे पत्रकारों ने शेयर किए। अब इसका नतीजा ये हुआ है कि 6 जर्नलिस्टों को दिल्ली सरकार के दो मंत्रियों - स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन और ट्रांसपोर्ट मंत्री गोपाल राय के व्हाट्सएप ग्रुप से बिना कोई कारण बताए बाहर निकाल दिया गया, ये कहते हुए कि ऊपर से आदेश है।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

(अभिज्ञान प्रकाश एनडीटीवी इंडिया में सीनियर एक्जीक्यूटिव एडिटर हैं)

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं। इसआलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवासच्चाई के प्रति एनडीटीवी उत्तरदायी नहीं है। इस आलेख में सभी सूचनाएंज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं। इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवातथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार एनडीटीवी के नहीं हैं, तथा एनडीटीवी उनकेलिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है।