Budget
Hindi news home page

अभिज्ञान का प्‍वाइंट : सरकारों की समस्या पुरानी, पाकिस्तान को लेकर क्या हो नीति?

ईमेल करें
टिप्पणियां
अभिज्ञान का प्‍वाइंट : सरकारों की समस्या पुरानी, पाकिस्तान को लेकर क्या हो नीति?

भारत-पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय सीमा (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: पाकिस्तान पर क्या नीति हो यह सभी सरकारों की बड़ी समस्या रही है। कांग्रेस आज आरोप लगा रही है मोदी सरकार पर, लेकिन वह खुद पाकिस्तान से बातचीत पर अपने ट्रैक रिकार्ड को भूल जाती है।

जानकारों का एक हिस्सा हमेशा से यह मानता रहा है कि आतंकी घटनाएं चाहे जिस भी स्तर की हों, बातचीत का सिलसिला पूरी तरह से कभी बंद नहीं होना चाहिए। यह वह पहलू है जो आजाद हिंदुस्तान के लिए अभी तक की सबसे बड़ी कूटनीतिक चुनौती है। बदलते वक्त के साथ और आतंकवाद में नई तकनीक आने के बाद यह खतरा साल दर साल बढ़ा ही, कभी कम नहीं हुआ है।

पाकिस्तान की चुनी हुई सरकारें कभी इसका कोई पुख्ता सबूत नहीं दे सकीं कि उनकी सरजमीं पर पनपने वाले आतंकवाद को वह पूरी तरह से रोक सकती हैं। बल्कि पाकिस्तान के कई नेता और प्रधानमंत्री यह दलीलें देते रहे हैं कि आतंकवाद से जितना भारत जूझ रहा है, पाकिस्तान खुद भी उसका सबसे ज्यादा पीड़ित रहा है। इसीलिए यह लिखा और कहा गया है कि पाकिस्तान पर कोई स्थाई नीति रखने की बजाय यह समय और माहौल के मुताबिक ही तय हो सकती है।

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं। इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति एनडीटीवी उत्तरदायी नहीं है। इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं। इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार एनडीटीवी के नहीं हैं, तथा एनडीटीवी उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है।


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement

 
 

Advertisement