NDTV Khabar

शिनजियांग डायरी 1 : उइघर मुस्लिम कितने मुक्त

चीन ने यह संदेश देने के लिए पत्रकारों को आमंत्रित किया कि शिनजियांग प्रांत भयंकर आतंकवाद से ग्रस्त और उसकी उइघर मुस्लिमों पर कार्रवाई दुनिया के हित में

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
शिनजियांग डायरी 1 : उइघर मुस्लिम कितने मुक्त

मैं 16 अगस्त की शाम चीन के उइघर मुस्लिमों के सबसे बड़ी आबादी वाले प्रदेश उइघर ऑटोनोमस प्रोवंस की राजधानी उरमुची शहर पहुंची. यह खुद चीन की सरकार के आमंत्रण पर था. मकसद था पश्चिमी मीडिया में उइघरों के बारे में चीन की दमनकारी नीतियों की 'सच्चाई' दिखाना. मैं भी लगातार इस तरह की खबरें देख-सुन और पढ़ रही थी. मन में कई सवाल थे और खुद पड़ताल करने की इच्छा.

हमारे जैसे ही वहां कई और देशों के पत्रकार बुलाए गए थे. अल्बानिया की यूनिवर्सिटी में धर्म पढ़ाने और अपना वीडियो ब्लॉग चलाने वाले ओल्सी, जेनेवा में तुर्की न्यूज एजेंसी के लिए यूएन कवर करने वाले बैरम से लेकर जापानी, चेक, सउदी, अफगानिस्तान, यूएई, स्वीडन, रूस, किर्गिस्तान, कज़ाकिस्तान और दक्षिण कोरिया से लेकर भारत से मैं और PTI के पत्रकार प्रशांत नेवरेकर वहां पहुंचे. पश्चिमी मीडिया का कोई पत्रकार इस ग्रुप में शामिल नहीं था.

hsm16kok

पहले तीन दिनों तक, दिन का पहला हिस्सा लेक्चर का रहा. प्रांत के कुछ अधिकारी और एकैडमिक चीन में उइघरों के इतिहास, वहां पर आतंकवाद, इस प्रांत की आर्थिक उपलब्धियां और संभावनाएं, सिल्क रूट और किस तरह चीन में आतंकवाद, अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद का हिस्सा है, ये सब बताते रहे. मुख्य तौर पर इनका मकसद मुझे यह समझाने का लगा कि शिनजियांग प्रांत भयंकर आतंकवाद से ग्रस्त है जो कार्रवाई उइघर मुस्लिमों पर चीन में हुई है वो न सिर्फ चीन के बल्कि दुनिया भर के हित में है. हां, इन लेक्चर में आतंकवादियों को एक अलग नाम से कई बार बुलाया गया- शैतानी ताकत!

vv6efbac

पहले दिन के लेक्चर के बाद पत्रकारों को उरमुची के म्यूज़ियम ले जाया गया. चीन की धरोहरों के साथ उइगरों और दूसरी अल्पसंख्यक संस्कृति की कुछ तस्वीरें दिखाई गईं. अगला पड़ाव था एक एग्ज़ीबीशन. यह खास एग्ज़िबीशन आम लोगों के लिए नहीं है. यहां हमारे जैसे शिनजियांग पहुंचे पत्रकार और चीनी अधिकारी ही लाए जाते हैं. इस जगह पर शिनजियांग प्रांत में हुए आतंकी हमलों की तस्वीरें, तारीखें, जब्त किए हथियारों का बड़ा ज़खीरा है.

b4kauqa4

मैंने वॉशिंगटन के न्यूज़ियम में FBI वाला हिस्सा भी देखा है जहां अमेरिका में हुए आतंकी हमले और उनकी जांच से जुड़े सामान रखे हैं. लेकिन उरमुची की यह एग्ज़िबीशन अलग है. जहां वॉशिंगटन में आप एक भी ऐसी तस्वीर नहीं देखेंगे जिसमें इंसानी शरीर के चिथड़े उड़े हुए हों, बुरी तरह घायल-लहूलुहान हो, उरमुची में ये सब कुछ है. यह कंपाने, परेशान करने वाली तस्वीरें हैं. करीब 47 ऐसे हमलों की तस्वीरें यहां पर हैं. सड़कों पर धारदार हथियारों से हमलों के कुछ CCTV फुटेज भी हैं.

rf353ov

अधिकारियों के मुताबिक ऐसे कई और हमले हुए हैं. इनका सीधा मकसद हमलों की भयावहता बयान करना है. लेकिन आज जब दुनिया के किसी भी कोने की तस्वीर हर उस शख्स के पास उपलब्ध है जिसके पास इंटरनेट है, तब इन तस्वीरों को ऐसे पेश करने का मतलब आखिर क्या हो सकता है. शायद इन सबका मतलब उन वोकेशनल ट्रेनिंग सेंटर को एक कंटेक्स्ट देना था जिन्हें दुनिया concentration Camp बता रही है.

3d51gi4k

इन पहले दिनों में सभी पत्रकारों को उस इस्लामिक ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट भी ले जाया गया जहां उइघर इमामों को सरकारी खर्चे पर ट्रेनिंग, रहने की सुविधा और मासिक भत्ता दिया जाता है. प्रिंसिपल सरकार की तारीफों के पुल बांधते हैं.

lu0glr6c

हम उरुमची के सांस्कृतिक केंद्र भी गए जहां पर पारंपरिक उइघर नृत्य संगीत की एक झलक मिली...लेकिन ये सब उस कहानी का पर्दा हैं जो चीन के 'वोकेशनल ट्रेनिंग सेंटर' में बन रही है.

जारी...

टिप्पणियां

(कादम्बिनी शर्मा NDTV इंडिया में एंकर और एडिटर (फॉरेन अफेयर्स) हैं...)

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) :इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति NDTV उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार NDTV के नहीं हैं, तथा NDTV उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement