NDTV Khabar

केरल तबाह हो रहा है, लाखों लोग मदद मांग रहे हैं...

1924 के बाद केरल में ऐसी तबाही आई है. राज्य की सारी नदियां उफान पर हैं और सभी 80 डैम लबालब भरे हैं. इस कारण से उनके गेट खोल दिए गए हैं. गेट खोलने के बाद भी डैम के पानी में कोई कमी नहीं आई है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
केरल तबाह हो रहा है, लाखों लोग मदद मांग रहे हैं...
केरल के चेंगानुर से विधायक ने एशियानेट से कहा है कि अगर अभी रात में हेलिकाप्टर नहीं भेजे गए तो सुबह तक हज़ारों लोग मारे जा चुके होंगे. इडुक्की ज़िला से पूरा संपर्क टूट गया है. केरल ने 100 साल बाद ऐसी बाढ़ देखी है. 9 दिनों के भीतर 324 लोग मारे गए हैं. newsminute के अनुसार 16 अगस्त को 42 से अधिक लोग मारे गए हैं. kovai post के अनुसार 17 अगस्‍त के दिन ही 30 लोगों की मौत हो गई है. हिन्दू लिख रहा है कि दो दिन में 22 लोग मारे गए हैं. 1500 से ज़्यादा राहत शिविर बनाए गए हैं जिनमें 2 लाख से ज़्यादा लोगों को रखा गया है. बाढ़ में कितने लोग फंसे हैं, इसकी संख्या किसी के पास नहीं है. एक ज़िले को छोड़ कर पूरे केरल में रेड अलर्ट जारी किया गया है. चित्तूर में हाई अलर्ट है.

1924 के बाद केरल में ऐसी तबाही आई है. राज्य की सारी नदियां उफान पर हैं और सभी 80 डैम लबालब भरे हैं. इस कारण से उनके गेट खोल दिए गए हैं. गेट खोलने के बाद भी डैम के पानी में कोई कमी नहीं आई है. हर तरफ पानी ही पानी है. हालत यह है कि नौ सेना की 42, तटरक्षकों की 28, राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन बल की 39 टीमें ज़मीन पर काम कर रही हैं. सेना ने 200 से ज्यादा नावें लगा दी हैं. 23 हेलिकॉप्टर उड़ान भर रहे हैं, लोगों को राहत शिविरों तक लाने में. कोच्ची शहर पूरी तरह से तबाह है. एयरपोर्ट बंद है. कूर्ग शहर में सैकड़ों लोगों के घर ढह गए हैं. बेघर हो गए हैं. कूर्ग में पर्यटकों के आने पर रोक लगा दी गई है. कूर्ग के बारे में सूचना इनबॉक्स से मिली है.

thenewsminute वेबसाइट के अनुसार राज्य में व्यापक स्तर पर बचाव का काम चल रहा है. 35,000 सरकारी कर्मचारी और स्वंयसेवी कार्यकर्ता इस काम में लगाए गए हैं. 5000 से अधिक पुलिसकर्मियों को भी उतारा जा रहा है. हालत ये हो गई है कि क्राइम ब्रांच के लोगों को भी राहत कार्य में लगाया जा रहा है. सीपीएम का अखबार है देशभूमि. इसके संपादक ने अपनी बेटी की सगाई का खर्चा मुख्यमंत्री राहत कोर्ष में दे दिया है. सगाई रोक दी है. केरल के मछुआरे भी लोगों को बचाने निकल पड़े हैं.

पेरियार और उसकी सहायक नदियों ने अर्नाकुलम और थ्रीस्सुर ज़िले के कई शहरों कस्बों को डुबा दिया है. चार ज़िलों की सड़कें पूरी तरह डूब गई हैं. सिर्फ एक ज़िले को छोड़कर बाकी सभी ज़िले में रेड अलर्ट जारी किया गया है. आप जानते हैं कि केरल में 8 अगस्त से मूसलाधार बारिश हो रही है. पूरे राज्य को तहत नहस कर दिया है.

रेल, हवाई सेवाएं और हाईवे पूरी तरह से बाधित हैं. त्रिशूर- कोयंबटूर हाईवे बंद है. कई हाईवे बंद हैं. राज्य मार्ग ध्वस्त हो चुके हैं. जगह जगह पर ज़मीन धंस गई है. पर्यटक फंसे हुए हैं. सामान लेकर जाने वाले भारी ट्रक फंसे हुए हैं. पत्तनामथिट्टा में एक अस्पताल में पानी घुस गया. 80 मरीज़ों को निकाला गया है. डैम का गेट खोलने से नदियों का पानी भर रहा है. उनकी रफ्तार तेज़ हो रही है. कोच्ची के नज़दीक श्री शंकराचार्य यूनिवर्सिटी में सैकड़ों छात्र फंसे हुए हैं. चित्तूर नदी के किनारे रहनेवालों के लिए रेट अलर्ट जारी किया गया है.

टिप्पणियां
एनडीटीवी की स्नेहा वहां से लगातार रिपोर्ट कर रही हैं. ndtv.com पर कई रिपोर्ट मौजूद हैं. हमारी साइट पर उन संस्थाओं के नाम भी हैं जिनके ज़रिए आप केरल के लोगों की मदद कर सकते है. newsminute वेबसाइट पर है कि आप किस तरह से मदद कर सकते हैं.

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति NDTV उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार NDTV के नहीं हैं, तथा NDTV उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement