NDTV Khabar

लियोनेल मेसी में सचिन, तो रोनाल्डो में विराट कोहली की झलक...

47 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
लियोनेल मेसी में सचिन, तो रोनाल्डो में विराट कोहली की झलक...

लियोनेल मेसी और सचिन तेंदुलकर (ऊपर), क्रिस्टियानो रोनाल्डो और विराट कोहली (नीचे)

लियोनेल मेसी और क्रिस्टियानो रोनाल्डो फ़ोर्ब्स के मुताबिक दुनिया के दो सबसे लोकप्रिय खिलाड़ी। सोशल मीडिया पर सबसे ज्यादा फॉलो किए जाने वाले एथलीट। दो महान फुटबॉलर लेकिन खेल और शख्सियत बिल्कुल जुदा।

अर्जेंटीना के मेसी का खेल फुटबॉल को कलात्मक बनाता है। कोपा-अमेरिका के फाइनल में पेनाल्टी शूटआउट से चूके, तो उनके खेल को समझने वाले ज्यादा हैरान नहीं हुए होंगे। शायद सचिन तेंदुलकर की तरह उनका खेल रहा। तेंदुलकर का खेल कई बार जीत का भरोसा नहीं दिला पाता था, लेकिन उनकी बल्लेबाजी में ऐसा संगीत था जिसको एक बार सुनने पर मानो लत लगना तय था। मेसी के खेल में भी एक नशा है, जिसको बार-बार देखने को जी चाहता है।

पुर्तगाल के रोनाल्डो एक चैंपियन खिलाड़ी हैं। कुछ-कुछ अपने विराट कोहली की तरह। इनकी आक्रामकता में आपको जीत की गारंटी नजर आएगी। आप रोनाल्डो के पेनाल्टी में चूकने की आशंका नहीं कर सकते। आप उनके मैदान पर रहते आखिरी क्षण तक जीत की उम्मीद रख सकते हैं।

गोल करने के बाद लियोनेल मेसी के जश्न मनाने पर जरा गौर कीजिए। वे आसमान की ओर देखकर परवरदिगार का शुक्रिया करते हैं। सचिन भी शतक के बाद सबसे पहले भगवान को धन्यवाद देते थे। मेसी और सचिन दोनों के जश्न में सजदा है। हावभाव में "मैं नहीं तू कारसाज है" वाली बात है। व्यक्तित्व में सौम्यता है। सज्जनता है। विनम्रता है। मेसी जब गेंद के साथ मैदान पर दौड़ते हैं तो लय देखते ही बनती है। सचिन के ड्राइव के साथ भी आंखों को गेंद के सीमा पार तक पीछा करने में एक रूमानियतभरा सुकून मिलता था।

वहीं रोनाल्डो के जश्न में आपको ताकत का प्रदर्शन दिखेगा। उनकी शक्ति की नुमाइश में कई लोगों को दंभ भी नजर आ सकता है। रोनाल्डो गेंद के साथ भागते हैं तो उनकी चाल में पुरुषत्व साबित करने की ललक रहती है। विराट कोहली के जश्न में भी "कर दिखाया" वाला आत्मविश्वास दिखता है। "हम" से ज्यादा "मैं" वाली बात होती है।

रोनाल्डो शो मैन हैं। उनके व्यक्तित्व में नाटकीयता है। रोनाल्डो मैदान पर एक कमांडर हैं। एक्शन हीरो हैं, जबकि मेसी रोमांटिक हीरो कहे जा सकते हैं। दिलों को जीतने वाले।

टिप्पणियां
संजय किशोर एनडीटीवी के खेल विभाग में एसोसिएट एडिटर हैं...

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं। इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति एनडीटीवी उत्तरदायी नहीं है। इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं। इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार एनडीटीवी के नहीं हैं, तथा एनडीटीवी उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है।



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement