NDTV Khabar

अविश्वास प्रस्ताव- पक्ष-विपक्ष कमर कस तैयार

विपक्ष बीजेपी और एनडीए के भीतर के अंतर्विरोध देश के सामने रखना चाहता है. कांग्रेस की ओर से हमले की कमान राहुल गांधी संभालेंगे.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अविश्वास प्रस्ताव- पक्ष-विपक्ष कमर कस तैयार

भारतीय संसद भवन (फाइल फोटो)

मोदी सरकार के खिलाफ विपक्ष के पहले अविश्वास प्रस्ताव के लिए सारी तैयारियां पूरी हो गई हैं. बीजेपी चुनावी साल में इसे एक बड़े मौके के तौर पर देख रही है. अभी लोकसभा में स्पीकर को छोड़ कर 533 सदस्य हैं और 11 सीटें खाली हैं. एनडीए के पास 312 सांसद हैं जो बहुमत के आंकड़े 267 से काफी ज्यादा है. बीजेपी की कोशिश एआईएडीएमके और टीआरएस के 48 सासंदों से अपने पक्ष में वोट डलवा कर देश के सामने एनडीए की बढ़ी ताकत दिखाने की है. ऐसे में एनडीए प्लस को 360 वोट मिल सकते हैं. वो यह साबित करना चाहती है कि चुनावी साल में उससे सहयोगी दल छिटक नहीं रहे बल्कि नए सहयोगी दल मिल रहे हैं.

दूसरी तरफ़ विपक्ष बीजेपी और एनडीए के भीतर के अंतर्विरोध देश के सामने रखना चाहता है. कांग्रेस की ओर से हमले की कमान राहुल गांधी संभालेंगे. वे बेरोजगारी, महंगाई, सांप्रदायिक तनाव, गोरक्षा के नाम पर गुंडागर्दी, विदेश नीति और जम्मू-कश्मीर में नीतियों की नाकामी को लेकर मोदी सरकार पर हमला करेंगे. मुसलमानों और दलितों के खिलाफ अत्याचार में बढ़ोतरी को लेकर सरकार को आड़े हाथों लिया जाएगा. कांग्रेस की कोशिश बीजेपी के दलित सांसदों की नाराजगी को हवा देकर बीजेपी को दलित विरोधी साबित करने की भी है. लेकिन बीजेपी के सभी नाराज़ दलित सांसदों ने कहा है कि वे पार्टी व्हिप से बंधे हैं और सरकार का साथ देंगे. ये सांसद हैं सावित्री फुले, छोटेलाल, अशोक दोहरे. शत्रुघ्न सिन्हा ने भी कहा कि जब तक बीजेपी में हूं तब तक बीजेपी की बात करूंगा. दो बीमार सांसदों को भी संसद लाने की तैयारी है.

विपक्ष एनडीए में फूट को जनता के सामने रखना चाहता है. इसलिए अमित शाह ने शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे को फोन कर दिया और उनसे समर्थन की अपील की. संभावना है कि शिवसेना सरकार के पक्ष में वोट दे. उधर, बहस से ठीक एक दिन पहले पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम के खिलाफ एयरसेल मैक्सिस घोटाले में सीबीआई ने चार्जशीट कर दी है. इस तरह भ्रष्टाचार को लेकर बीजेपी को कांग्रेस पर हमलावर होने का बड़ा मौका मिल गया है.

उधर कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि मोदी सरकार जांच एजेंसियों का गलत इस्तेमाल कर अगुस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर घोटाले के बिचौलिए क्रिस्टियन माइकल पर सोनिया गांधी का नाम लेने का दबाव डाल रही है. बीजेपी चाहती है कि कल वोटिंग हो ताकि सबकी ताकत देश के सामने आ जाए. यानी ऐसा न हो कि पीएम के जवाब के बाद विपक्ष वॉक आउट कर जाए और वोटिंग की नौबत ही न आए. बीजेपी अपने सभी सांसदों को वोटिंग के लिए तैयार कर रही है. लोक सभामें बीजेपी के 19 व्हिप हैं और सबको सांसदों की टोलियां बना कर हर टोली की जिम्मेदारी दे दी गई. आज रात का खाना सारे बीजेपी सांसद अलग-अलग राज्यों के भवनों में करेंगे. वहां उन्हें कल सदन में रहने और ठीक ढंग से वोट डालने के लिया कहा जाएगा.

इस बीच, दिल्ली में आज अफवाह फैली कि अविश्वास प्रस्ताव को हराने के बाद बीजेपी नवंबर दिसंबर में मध्य प्रदेश, छत्तीगढ़ और राजस्थान के साथ ही आम चुनाव भी करा लेगी. इस पर बीजेपी के एक बहुत बड़े नेता ने कहा कि जनता ने हमें पांच साल के लिए चुना है और हम पांच साल पूरे होने से एक घंटा पहले भी कुर्सी नहीं छोड़ने वाले. रही बात चुनाव की तो उनके मुताबिक बीजेपी चुनाव के लिए हमेशा तैयार रहती है. तो कल की कवायद से आखिर क्या हासिल होगा? क्या विपक्ष सरकार को घेरने में कामयाब रहेगा या विपक्ष का यह दांव उल्टा पड़ जाएगा?

टिप्पणियां
(अखिलेश शर्मा एनडीटीवी इंडिया के राजनीतिक संपादक हैं)

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति एनडीटीवी उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार एनडीटीवी के नहीं हैं, तथा एनडीटीवी उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement