NDTV Khabar

प्रोटेस्ट@मिडनाइट : जब छात्राओं की जिद के आगे प्रशासन को झुकना पड़ा

प्रशासन को लगा कि शाम तक लड़कियां प्रोटेस्ट खत्म कर देंगी और हॉस्टल वापस चली जाएंगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ.

147 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
प्रोटेस्ट@मिडनाइट : जब छात्राओं की जिद के आगे प्रशासन को झुकना पड़ा
सोमवार रात आठ बजे का वक्त था. दिल्ली में स्कूल ऑफ प्लानिंग एंड आर्किटेक्चर कैंपस के अंदर मैं अपने कैमरा टीम के साथ पहुंचा. दो दिन पहले भी मैंने दिन में आकर स्टोरी की थी. कई दिनों से इस कैंपस के अंदर प्रोटेस्ट चल रहा था. रविवार को कुछ बच्चों के द्वारा भेजे गए तस्वीर को देखकर भावुक हो गया था. यह उन लड़कियों की तस्वीर थी जो रात भर कैंपस के अंदर प्रदर्शन करते हुए डटी हुई थीं. कुछ ऐसे वीडियो भी आए थे, जिनमें उनकी बुलंद आवाजें सुनाई दे रही थीं. चार दिन तक प्रोटेस्ट करने के बावजूद भी ये लड़कियां थकी नजर नहीं आ रही थीं. इनमें कई ऐसे छात्राएं थी जो रात भर सोती भी नहीं थीं. जो सोती थीं वो क्लास रूम में या फिर दूसरी जगह. हॉस्टल के अंदर जाने के लिए राजी नहीं थीं. कैंपस पहुंचकर देखा की लड़कियां इधर-उधर बैठी हुई हैं. कुछ तो पेड़ के नीचे बेडशीट डालकर लेटी हुई थीं, कुछ क्लास रूम में थीं.

दरअसल 26 अक्टूबर को सुबह करीब पांच बजे एसपीए कैंपस में गर्ल्स हॉस्टल के एक कमरे में आग लग गई थी. इस आग में पूरा कमरा जलकर खाक हो गया. गनीमत यह रही कि जब आग लगी तब रूम में रहने वाली छात्राएं बाथरूम में थीं और बाथरूम कमरे के बाहर था. आग देखते ही छात्राएं हॉस्टल छोड़कर नीचे की तरफ भागने लगीं. इन लड़कियां की मदद के लिए गार्ड तो था, लेकिन आग कैसे बुझाई जाए, ये गार्ड को पता नहीं था. लड़कियों ने कई बार हॉस्टल के वार्डन को फोन किया, लेकिन वार्डन ने फोन नहीं उठाया. छात्राओं ने फायर ब्रिगेड को फोन किया और दो घंटे के बाद आग पर काबू पाया गया. छात्राओं का गुस्सा चरम पर था कि हॉस्टल में आग लग जाने के बाद प्रशासन इतनी लापरवाही कैसे कर सकता है. वे प्लानिंग ब्लॉक के सामने धरने पर बैठ गईं. न क्लास जाने के लिए तैयार थीं, न हॉस्टल. कॉलेज के दूसरे छात्रों ने भी उनका साथ दिया. प्रशासन को लगा कि शाम तक लड़कियां प्रोटेस्ट खत्म कर देंगी और हॉस्टल वापस चली जाएंगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. रात भर लड़कियां वहीं बैठी रहीं. नींद आई तो तकिया और बेडशीट लेकर क्लास रूम में सोने चली गईं.
 
spa delhi girls protest

जब किसी हॉस्टल की छात्राएं अपने हॉस्टल छोड़कर रात में क्लास रूम में सोती हैं तो यह कई सवाल खड़ा करता है. इन लड़कियों ने बताया कि पहले भी कई बार ऐसे शार्टसर्किट हुए थे, लेकिन आग लगने की घटना नहीं हुई थी. हॉस्टल में कई और समस्याएं भी हैं. एक लड़की ने बताई कि सांप, चूहे, बिल्ली जैसे जानवरों का हॉस्टल के अंदर घुसना आम बात है. कई बार ऐसा भी होता है कि जब छात्राएं क्लास खत्म कर हॉस्टल आती हैं तो बंदर बेड के ऊपर सोते हुए नजर आते हैं. सबसे बड़ी बात यह भी है कि पिछले कई सालों से हॉस्टल की छात्राएं पानी खरीदकर पी रहे हैं, क्योंकि यहां जो पानी है, वह पीने लायक नहीं है.

इतनी सारी समस्याओं से जूझ रही छात्राएं पीछे हटने के लिए तैयार नहीं थीं. छात्राओं का प्रदर्शन खत्म होने का नाम नहीं ले रहा था. प्रशासन को लगा कि सब ठीक नहीं है. इसके बाद प्रशासन और स्टूडेंट काउंसिल के बीच कई राउंड की बातचीत हुई, लेकिन यह बेनतीजा साबित हुई. प्रोटेस्ट जारी रहा और प्रशासन पर भी दबाव बढ़ता गया. अब प्रशासन ने इन छात्राओं को धमकाने की कोशिश की. इनके घर लेटर भेजे गए, बावजूद इसके ये छात्राएं टस से मस नहीं हुईं.

30 अक्टूबर को स्टूडेंट काउंसिल और प्रशासन के बीच पांच घंटे की बैठक हुई. प्रशासन इन छात्राओं की लगभग सभी मांगें मानने को तैयार हो गया. यह छात्राओं के लिए बहुत बड़ी जीत थी. रात को करीब दो बजे छात्राओं ने अपना प्रोटेस्ट खत्म कर दिया. इस पांच दिन के प्रोटेस्ट ने प्रशासन को हिलाकर रख दिया. अगले दिन जब मैंने फोन किया तो कई छात्राओं का नंबर बंद मिला. कुछ घंटे के बाद मेरे पास फोन आया. एक छात्रा ने बताया कि प्रोटेस्ट खत्म हो जाने के बाद छात्राएं सो रही हैं, क्योंकि पिछले पांच दिनों से वे सही ढंग से सो नहीं पाई थी. अगर प्रशासन अपने वादे पर कायम रहता है तो ये छात्राएं रोज शांति से सो सकेंगी. यह 'प्रोटेस्ट एट मिडनाइट' इनके लिए 'फ्रीडम एट मिडनाइट' साबित हुआ.

टिप्पणियां
सुशील कुमार महापात्रा एनडीटीवी इंडिया के चीफ गेस्ट कॉर्डिनेटर हैं...

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति NDTV उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार NDTV के नहीं हैं, तथा NDTV उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement