NDTV Khabar

रेल मंत्री ने ट्वीट किया है...

मुमकिन है, रेलमंत्री का आशय यह हो कि जो गाड़ी पहले 20 घंटे की देरी से चल रही थी, वह अब 15 घंटे की देरी से चल रही है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
रेल मंत्री ने ट्वीट किया है...

प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

रेलमंत्री पीयूष गोयल ने ट्वीट किया है कि अप्रैल-जून में हुई लेटलतीफी की तुलना में जुलाई में 10 प्रतिशत का सुधार हुआ है. रेलमंत्री के ट्वीट के साथ-साथ इलाहाबाद रेलवे स्टेशन के बोर्ड का स्क्रीनशॉट भी लगा रहा हूं. मंत्री का ट्वीट 18 जुलाई का है, और इलाहाबाद स्टेशन के बोर्ड की तस्वीर भी बुधवार रात की ही है. इसके अनुसार 90 फीसदी गाड़ियां लेट हैं. अब आप ही तय करें, कहां से और कैसे डेटा सुधर जाता है.
 
मुमकिन है, रेलमंत्री का आशय यह हो कि जो गाड़ी पहले 20 घंटे की देरी से चल रही थी, वह अब 15 घंटे की देरी से चल रही है. अगर पूर्व और उत्तर की ओर जाने वाली रेलगाड़ियों के लेट चलने का यह प्रतिशत है, तो फिर रेलमंत्री को किस बहीखाते से सुधरा हुआ डेटा मिल जाता है.

केंद्रीय रेलमंत्री ने पिछले दो महीनों में तमाम अख़बारों में जो इंटरव्यू दिए हैं, अगर सबकी कॉपी एक साथ रखकर देखें और उन्हीं अख़बारों में किसी किनारे पर रेल की समस्या को लेकर छपी ख़बरों को देखें, तो पता चलेगा कि कितना अंतर है. लेट चलने के कारणों में भी सुविधानुसार बदलाव नज़र आने लगता है.
 
cdnk72mc
 
o27vgpl4
 
a7lrqjc4

जो लोग रेल में चलते हैं, वे भी बताएं कि समय में 10 प्रतिशत का सुधार हुआ है क्या...? हुआ है, तो अच्छी बात है. हम यही चाहते हैं कि रेल मंत्रालय काम करे.

लोको पायलट दो दिन से भूखे रहकर ट्रेन चलाते रहे, उनकी मांगें नहीं मानी गईं. सातवें वेतन आयोग को दो साल हो गए और अभी तक रेलवे के ड्राइवरों का माइलेज भत्ता तय नहीं हुआ है. नई भर्ती के लिए आए फॉर्म बड़ी संख्या में फोटो के कारण छांट दिए गए. जब हमने इस मसले की तरफ ध्यान दिलाया और परेशान बेरोज़गारों ने खुद भी रेलमंत्री को ट्वीट किया, तब जाकर होश आया है.

टिप्पणियां
अंग्रेज़ी दैनिक 'इकोनॉमिक टाइम्स' के अनुसार रिजेक्ट किए गए 70,000 फॉर्म दोबारा भरने का मौका दिया जाएगा. इसके लिए बधाई. इसी तरह हमें जनता की समस्याओं को बताना है और रेलमंत्री को काम करना है. नौजवानों के जीवन से खिलवाड़ ठीक नहीं है.

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति NDTV उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार NDTV के नहीं हैं, तथा NDTV उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement