यह ख़बर 05 नवंबर, 2014 को प्रकाशित हुई थी

रवीश की रिपोर्ट : मुस्तफ़ा का मोदी कुर्ता

रवीश की रिपोर्ट : मुस्तफ़ा का मोदी कुर्ता

मोदी का कुर्ता व जैकेट दिखाते मुस्तफा

नई दिल्ली:

नई दिल्ली के पंडित पंत मार्ग पर प्रदेश बीजेपी दफ्तर से बाहर निकला ही था कि फुटपाथ पर कुर्ता और सदरी की दुकान पर नजर पड़ गई। रंग-बिरंगे कुर्ते और चटख रंग वाले जवाहर जैकेट देखकर बातचीत करने लगा। मुस्तफ़ा एक-एक कर रंगीन सदरी दिखाने लगे। कहा कि जब से मोदी जी आए हैं, कार्यकर्ताओं की च्वाइस बदल गई है। वे टीवी पर मोदी जी को जिस जैकेट में देखते हैं, उसकी मांग करने लगते हैं।

सदरी, बंडी, जैकेट या जवाहर जैकेट नाम तो कई हैं, मगर अब इन पर मोदी के रंग और मजाज की छाप पड़ने लगी है। मुस्तफ़ा ने बताया कि पहले सिर्फ काला और ग्रे टाइप का ही जैकेट चलता था। वो सिर्फ पांच छह सौ रुपये के आते थे। रंगीन वाली सदरी बारह सौ की आती है। कार्यकर्ता नाप तो दे जाते हैं और हम कुछ दिनों बाद तैयार कर ले आते हैं।

बीजेपी दफ्तर में नेता से लेकर कार्यकर्ता तक सब चटख कपड़े में नजर आए। प्रभात झा का लाल झटकमार कुर्ता और रामेश्वर चौरसिया का हल्का गुलाबी कुर्ता बता रहा था कि पार्टी रंगीन हो गई है। भगवा या गेरुआ से आगे निकल चुकी है। मुस्तफ़ा ने कहा कि बड़े नेता उससे कुर्ता नहीं खरीदते। उनके तो बड़े-बड़े टेलर होते हैं और वे खादी भंडार से कपड़ा लेते हैं।

मुस्तफ़ा बिहार के मधुबनी जिले के हैं। पंद्रह-बीस साल से बीजेपी दफ्तर के बाहर कपड़ा बेच रहे हैं। परिवार में मियां-बीवी के अलावा पांच बच्चे हैं। उन्होंने कहा कि यहां सब धर्म के कार्यकर्ता आते हैं। मेरे लिए तो यह काम रोज़ी-रोटी है। रोज़गार का अवसर है।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com