NDTV Khabar

संजय किशोर का 'स्ट्रेट ड्राइव' : टीम इंडिया के लिए ट्राई-सीरीज़ इम्तिहान भी है, मौका भी

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
संजय किशोर का 'स्ट्रेट ड्राइव' : टीम इंडिया के लिए ट्राई-सीरीज़ इम्तिहान भी है, मौका भी
नई दिल्ली: 'ऑन टॉप ऑफ द वर्ल्ड' - नई जर्सी में मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड की छत पर खड़ी टीम इंडिया यही महसूस कर रही होगी... तस्वीरों को देखकर लग रहा है कि योद्धा तैयार हैं, विश्व खिताब की रक्षा के लिए... टीम इंडिया नए जोश में नज़र आ रही है...

हो भी क्यों नहीं... सफेद से नीली जर्सी में आते ही टीम का आत्मविश्वास बढ़ जाता है, प्रदर्शन बेहतर हो जाता है... टेस्ट में जहां भारतीय टीम सातवें नंबर पर जा फिसली है, वहीं वन-डे में वर्ल्ड चैम्पियन टीम दूसरे नंबर पर कायम है और नंबर एक बनने के लिए ऑस्ट्रेलिया को चुनौती देने जा रही है... उधर, दुनिया का सबसे कामयाब कप्तान महेंद्र सिंह धोनी भी लौट आया है, लगातार दूसरी बार टीम को वर्ल्ड चैम्पियन बनाने के लिए... लेकिन वर्ल्डकप से पहले भी एक इम्तिहान है...

ऑस्ट्रेलिया, भारत और इंग्लैंड के बीच वर्ल्डकप से ठीक पहले खेली जा रही है कार्लटन मिड वन-डे ट्राई-सीरीज़... ऑस्ट्रेलिया में हो रहे इस त्रिकोणीय मुकाबले में तीनों देशों को अपनी तैयारियों का परखने का मौका मिलेगा...

सीरीज़ का पहला मुकाबला मेज़बान ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच है... जॉर्ज बेली की टीम सिडनी में इयान मॉर्गन की टीम को टक्कर देने के लिए तैयार है... वर्ल्ड नंबर एक ऑस्ट्रेलिया इस बार वर्ल्ड चैम्पियन बनने की पूरी तैयारी कर रहा है... ज़ाहिर है, इंग्लैंड को एशेज़ और भारत को बॉर्डर-गावस्कर टेस्ट सीरीज़ में शिकस्त देने के बाद ऑस्ट्रेलिया के हौसले बुलंद हैं... माइकल क्लार्क फिट नहीं हैं, लेकिन जॉर्ज बेली की कप्तानी में स्टीवन स्मिथ, मिशेल मार्श और जॉश हेज़लवुड जैसे युवा खिलाड़ी किसी भी टीम की गेंदबाज़ी की धज्जियां उड़ा सकते हैं...

वहीं, वर्ल्ड नंबर पांच इंग्लैंड का हालिया प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा है... श्रीलंका से वन-डे सीरीज़ हारने के बाद एलेस्टेयर कुक की कप्तानी छीन ली गई... उनकी जगह इयान मॉर्गन को कप्तान बनाया गया है... हालांकि जेम्स टेलर, जो रूट और जोश बटलर से बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद की जा रही है...

भारत के मैच के लिए आपको रविवार तक इंतज़ार करना होगा... टीम इंडिया पहले मैच में टकराएगी ऑस्ट्रेलिया से... टेस्ट सीरीज़ में विराट कोहली और अजिंक्य रहाणे फॉर्म में थे, सो, वन-डे में भी भारतीय बल्लेबाज़ी का दारोमदार इन्हीं पर रहेगा, लेकिन कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के सामने परेशानी गेंदबाज़ी को लेकर है...

टेस्ट मैचों में मोहम्मद शामी अपनी दिशा बरकरार नहीं रख पा रहे थे... उमेश यादव का गेंद पर नियंत्रण नज़र नहीं आ रहा था... इशांत शर्मा नंबर एक गेंदबाज़ होने की उम्मीदों पर खरे नहीं उतर पाए हैं... वर्ल्डकप से पहले ट्राई-सीरीज़ में मिले मौके का फायदा अगर गेंदबाज़ नहीं उठा पाए तो खिताब बचाना मुश्किल हो सकता है, और इस बार यह भी नहीं कह पाएंगे कि टीम वहां के हालात में खुद को ढाल नहीं पाई...


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement