NDTV Khabar

यह कथित राष्ट्रवाद कहीं असहमति के स्वर कुचलने के लिए तो नहीं?

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
यह कथित राष्ट्रवाद कहीं असहमति के स्वर कुचलने के लिए तो नहीं?
कश्मीर के हालात को लेकर उत्तर और पश्चिम की राजनीति गदगद है। उसे एक और मौका मिल गया है कश्मीर के बहाने कथित राष्ट्रवाद की आड़ में बहस को हिन्दू बनाम मुस्लिम की मंजिल पर ले जाने का। व्हाट्स ऐप अफवाहों का मटेरियल बन चुका है। इसके लिए हम जैसे दो-चार पत्रकारों का नाम इस्तेमाल कर गलत अफवाह फैलाई जा रही है। ये इतने बड़े मूर्ख हैं सब कि अफवाह फैला कर कहेंगे कि सोचिए कि लोगों का एक तबका आपके बारे में ऐसी बात क्यों कर रहा है। ऐसे मैसेज फेसबुक पर पत्रकार भी शेयर कर रहे हैं। बड़ी संख्या में पत्रकार भी राष्ट्रवाद की आड़ में हिन्दू बनाम मुस्लिम की आग को सुलगा रहे हैं। वे अपने बारे में नहीं बताते कि उनके काम के बारे में लोग क्यों नहीं बात करते हैं। क्या देशभक्ति के नाम पर चुप रहने का फरमान जारी हो रहा है?
 
मैं यह पोस्ट साझा करने वाली ध्रुवी गोस्वामी के बारे में नहीं जानता। उन्होंने साझा ही की तो जाहिर है कहीं और से इन्हें भी मिला होगा। इसे बनाया नहीं है। बताया गया है ध्रुवी गोस्वामी हिन्दी के किसी अखबार से जुड़ी हैं। ध्रुवी गोस्वामी ने साझा करने के बाद हुई बहस में कमेंट में भी लिखा है। हम उनके चेहरे को यहां 'ब्लर' कर दे रहे हैं। ढंक दे रहे हैं। मेरे लिए नाम और चेहरा महत्वपूर्ण नहीं है।
 

ध्रुवी को किसी निष्कर्ष पर पहुंचने से पहले चेक करना चाहिए था। मुझे नहीं मालूम कि अनजाने और भावावेश में युवा पत्रकार से नादानी हुई है। बात एक या दो पत्रकारों की नहीं है। यहां सोच का एक खतरनाक पैटर्न नजर आता है जो झूठ की बुनियाद पर खड़ा है। ऐसी सोच को कश्मीर से कोई लेना देना नहीं हैं।

जितनी मेहनत से ऐसे मटेरियल तैयार किए जा रहे हैं उससे लगता है कि कोई संगठित गिरोह है, जो एक राजनीतिक जमात के खतरनाक मंसूबों के लिए यह सब कर रहा है। इस मटेरियल में किसी हिन्द न्यूज़ का लोगो है ताकि लोगों की नजर में इसे विश्वसनीय बनाया जा सके। आप कभी फेसबुक और ट्विटर पर ऐसे लोगों की टाइम लाइन देखिएगा। खोजिए कि क्या यह लोग गरीब,आम लोगों की समस्याएं, दाल की कीमत, बेरोजगारी, ठेके पर रखे गए लाठी खाते मास्टरों, सरकारी शिक्षा संस्थानों को मारकर लाखों की फीस वाले शिक्षण संस्थानों के बारे में लिखते हैं? क्या यह लोग लिखते हैं कि हमारा सिपाही अठारह हजार की नौकरी में कैसे गुजारा करता होगा? एक सिपाही ने पत्र भी लिखा है कि मरने के बाद तो सब शहीद-शहीद करते हैं मगर कोई यह भी तो देखे कि हम अठारह हजार में गुजारा कैसे करते हैं? अगर मेरे बारे में ऐसे मटेरियल ही चलाने हैं तो मेरे नाम से चलाइए कि मैं मांग करता हूं कि देश के लिए लड़ने वाले सिपाही की तनख्वाह एक सांसद और विधायक से ज़्यादा होनी चाहिए।

आप कभी सोशल मीडिया के ज़रिए सही सवालों का प्रसार नहीं देखेंगे। आखिर क्या वजह है कि व्हाट्स ऐप फेसबुक पर हिन्दू बनाम मुस्लिम वाले मटेरियल ही साझा किए जा रहे हैं? देश के लोगों का ही ख़्याल नहीं तो यह राष्ट्रवाद किसके लिए है? कहीं असहमति के स्वर को कुचलने के लिए तो नहीं है?

बहुत से लोग व्हाट्स ऐप में चल रही ऐसी अफवाहों पर यकीन करने की मूर्खता कर लेते हैं। उनसे गलती हो जाती है। ऐसी बात लिखकर फैलाने वाले कौन लोग हैं? यह अब कैराना पर चुप हैं। कैराना को लेकर अफवाह फैलाई तो पोल खुल गई। गनीमत है मीडिया ने पोल खोल दी वरना व्हाट्स ऐप और फेसबुक के जरिए समाज के दिमाग में कबाड़ फैला चुके होते।

मेरे बारे में जो शेयर किया है उसमें दोनों ही बातें गलत हैं। याकूब मेमन की माफी की किसी याचिका पर मैंने कभी दस्तखत नहीं किया है। मेरे नाम से कश्मीर के बारे में जो लिखा गया है वह भी गलत है। मेरे प्राइम टाइम के जिस इंट्रो से यह पंक्ति उठाई गई है वह मेरे चैनल की वेबसाइट ndtv.in पर लिखित रूप में मौजूद है। मेरे ब्लॉग कस्बा पर भी है। मैंने प्राइम टाइम में जो कहा है उसकी दो पंक्तियां यहां पेश कर रहा हूं। इनसे पहले कश्मीर की बेरोजगारी का संदर्भ है।

"हमें कश्मीर का सुंदर पहाड़ ही दिखता है वहां की गरीबी और बेकारी नहीं दिखती है। हालात जिम्मेदार हैं तो वहां की राज्य सरकार क्या करती रही है।" जबकि अफवाह मटेरियल में यह लिखा गया है-  "लोगों को सिर्फ कश्मीर की खूबसूरती दिखती है। कश्मीर के युवाओं की बेरोजगारी नहीं दिखती है। बेरोजगार युवा आखिर हथियार और पत्थर न उठाएं तो क्या करें?- रवीश कुमार ।"

टिप्पणियां
मुझे बंदूक किसी के हाथ में अच्छी नहीं लगती। मैं क्यों ऐसी बातें करूंगा। आप पाठक खुद सोचें कि कौन हैं यह लोग जो अफवाह फैलाने में इतनी मेहनत कर रहे हैं। कहीं यूपी चुनाव के लिए ऐसी चीजों की आपूर्ति तो नहीं की जा रही है।आप इन खतरनाक लोगों के बारे में सोचिए जो आपके भीतर जहर फैलाना चाहते हैं। वरना गवर्नेंस और विकास के नाम पर आपकी जेहन में जहर के नाले बहते मिलेंगे।

इस लेख से जुड़े सर्वाधिकार NDTV के पास हैं। इस लेख के किसी भी हिस्से को NDTV की लिखित पूर्वानुमति के बिना प्रकाशित नहीं किया जा सकता। इस लेख या उसके किसी हिस्से को अनधिकृत तरीके से उद्धृत किए जाने पर कड़ी कानूनी कार्रवाई की जाएगी। 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement