NDTV Khabar

आंखों देखा हाल : जब एक सांसद ने किया एक मंत्री का विरोध...

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
आंखों देखा हाल : जब एक सांसद ने किया एक मंत्री का विरोध...

प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

नई दिल्‍ली: यह बात आठ जनवरी की है। उस दिन कोहरे की वजह से दिल्ली से जाने वाली कई फ्लाइट देर से रवाना हो रही थीं। कोहरे की वजह से कई फ्लाइटों को रद्द भी कर दिया गया था। मैंने भी एयर इंडिया की फ्लाइट 073 में दिल्ली से भुवनेश्‍वर के लिए अपना टिकट बुक किया था। फ्लाइट शाम को 6.30 बजे दिल्ली से रवाना होने वाली थी। शाम को कोहरा भी कम हो गया था। ऐसा लग रहा था कि फ्लाइट सही समय पर रवाना हो जाएगी। मैं समय पर एयरपोर्ट पहुंच गया। चेक इन किया। तब तक फ्लाइट सही समय पर जाने की उम्मीद थी। मुझे बताया गया कि फ्लाइट सही समय पर रवाना होगी। मेरे बोर्डिंग पास में भी बोर्डिंग का समय छह बजे लिखा हुआ था।

जब मैं बोर्डिंग गेट के पास पहुंचा तो मुझे बताया गया कि फ्लाइट सही समय पर है, लेकिन सिर्फ आधा घंटे पहले यह अनाउंस हुआ कि फ्लाइट अब रात 10.30 बजे जाएगी। लोग गुस्से में आ गए। यह सवाल पूछने लगे कि यह बात सिर्फ आधा घंटे पहले क्यों बताई जा रही है? जब मैंने यह सवाल डेस्क में बैठी मैडम से पूछा तो उनका कहना था कि आप ऊपर बात कीजिए। फिर कोई चारा नहीं था। चार घंटे क्या करना? बाहर भी नहीं जा सकते। लगेज बोर्डिंग हो चुका था। बाहर जाने के लिए दोबारा लगेज वापस मंगवाना पड़ता।

मैंने एयरपोर्ट पर इंतज़ार किया। जब करीब 9.45 बजे बोर्डिंग गेट पर पहुंचा तो बताया गया कि जो फ्लाइट वाराणसी से आ रही है वही भुवनेश्‍वर जाएगी। वाराणसी वाली फ्लाइट 10 बजे पहुंचने वाली थी, लेकिन करीब 10.15 पहुंची। लोग बार-बार जाकर डेस्क पर पूछ रहे थे कि फ्लाइट कितने बजे जाएगी। मैं भी उसमें शामिल था। फिर यह अनाउंसमेंट किया गया कि भुवनेश्‍वर वाली फ्लाइट रात को 11.15 बजे रवाना होगी। लोगों का सब्र खत्म हो रहा था। लोग गेट के पास खड़े हुए नज़र आ रहे थे, लेकिन डेस्क पर कोई नहीं था। फ्लाइट जाएगी या नहीं कोई अनाउंसमेंट नहीं हो रही थी। लोगों को समझ नहीं आ रहा था कि क्या किया जाए, किससे पूछा जाए?

कुछ देर बाद कुछ एयर होस्टेस गेट के पास पहुंचीं। लोग ताली बजाने लगे, लेकिन यह क्या... यह एयर होस्टेस तो भोपाल जाने वाली फ्लाइट के गेट से एंटर करने लगी। लोगों को समझ नहीं आ रहा था कि जब भोपाल फ्लाइट रद्द होने की अनाउंसमेंट की जा चुकी है तो फिर एयर होस्टेस उसी गेट से क्यों जा रही है। फिर भुवनेश्‍वर गेट पर खड़ा हुआ एयर इंडिया का मैनेजर भोपाल जानी वाली फ्लाइट के गेट की तरफ चला गया। रात के 11.15 बज चुके थे, लेकिन भुवनेश्‍वर फ्लाइट के बारे में कोई जानकारी नहीं थी। यह भी बताया नहीं जा रहा था की फ्लाइट जाएगी या नहीं।

थोड़ी देर बाद लोग यह बात करने लगे कि भुवनेश्‍वर जाने वाले क्रू को भोपाल फ्लाइट के लिए रवाना कर दिया गया है। मैं भी गेट के पास खड़ा था। लोग यह बात कर रहे थे कि किसी वीआईपी की वजह से भोपाल फ्लाइट, जो रद्द हो चुकी थी वह अभी रवाना होगी और भुवनेश्‍वर फ्लाइट के बारे में कोई सूचना नहीं थी। फिर लोगों को गुस्सा आने लगा। कुछ दूर ओडिशा के बीजू जनता दल के सांसद तथागत सत्पथी खड़े थे। उन्‍हें भी भुवनेश्‍वर फ्लाइट में जाना था। वरिष्‍ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई भी गेट के पास पहुंच गए। उन्‍होंने भी अपना टिकट भुवनेश्‍वर फ्लाइट में बुक किया था। फिर क्या होना था। जब सांसद सत्पथी को पता चला कि भुवनेश्‍वर फ्लाइट के क्रू को भोपाल भेज दिया गया तो वह नाराज़ हो गए। प्रोटेस्ट करने लगे। बोर्डिंग गेट के सामने बैठ गए। फिर सब कुछ अजीब हो रहा था। कुछ लोग भोपाल फ्लाइट के लिए बोर्डिंग कर चुके थे और कुछ लोग लाइन में खड़े हुए थे, लेकिन उन्‍हें जाने नहीं दिया जा रहा था।

विरोध के चलते सुरक्षाकर्मी यहां पहुंच गए। समझाने की कोशिश करने लगे, लेकिन कोई फायदा नहीं। सत्पथी और दूसरे लोग जो गेट पर बैठे हुए थे उठने को तैयार नहीं थे। तथागत सत्पथी का कहना था जब तक भुवनेश्‍वर फ्लाइट नहीं जाएगी, तब तक भोपाल फ्लाइट को जाने नहीं देंगे। कुछ समझ नहीं आ रहा था। दोनों तरफ के लोग शोर मचा रहे थे, लेकिन कोई फायदा नहीं। एयर इंडिया की तरफ से कोई सीनियर ऑफिसर नहीं था जो लोगों को समझा सके। तथागत सत्पथी बार-बार यह कह रहे थे कि मध्य प्रदेश के एक मंत्री और दो जजों की वजह से भुवनेश्‍वर फ्लाइट के क्रू को भोपाल फ्लाइट के लिए भेज दिया गया है। सत्पथी बार-बार कह रहे थे कि एक मंत्री ऐसा कैसे कर सकता है? मंत्री और जज भोपाल जाने वाले थे।

फिर कुछ देर बाद एयर इंडिया के तरफ से कुछ सीनियर ऑफिशियल आए। समझाने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। सत्पथी का कहना था जब तक भुवनेश्‍वर फ्लाइट नहीं जाएगी, वह गेट से नहीं हटेंगे। कई बार एयर इंडिया के मैनेजर यह कह रहे थे कि क्रू पांच मिनट में पहुंचने वाला है, लेकिन सत्पथी का कहना था कि पहले बोर्डिंग शुरू कीजिए, वह तभी उठेंगे। इस तरह तीन घंटे तक प्रोटेस्ट चलता रहा। रात को करीब दो बजे भुवनेश्‍वर फ्लाइट की बोर्डिंग शुरू हुई। तब तक भोपाल फ्लाइट खड़ी थी। पता नहीं बाद में भोपाल फ्लाइट रवाना हुई या नहीं?

बात चाहे जो भी हो। एयर इंडिया की तरफ से कई गलतियां की गईं। सबसे बड़ा सवाल यह है कि एक मंत्री के सामने एयर इंडिया कैसे झुक गई। अगर नहीं झुकी तो फिर एक सांसद को कैसे नहीं समझा पाई। अगर सांसद लोगों के साथ मिलकर गलत प्रोटेस्ट कर रहे थे तो एयर इंडिया को कदम उठाने चाहिए थे। एयर इंडिया की तरफ से फ्लाइट को लेकर कोई ठोस जानकारी भी नहीं दी जा रही थी। सिर्फ आधे घंटे पहले पता चलता है कि फ्लाइट 4 घंटे लेट है। फ्लाइट का समय हो जाने के बाद भी फ्लाइट रवाना नहीं होती है और न ही कोई जानकारी दी जाती है। एयर इंडिया की इन गलतियों की वजह से भुवनेश्‍वर के साथ-साथ भोपाल जाने वाले लोगों को भी परेशानियों का सामना करना पड़ा।


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement