NDTV Khabar

सबसे बड़ा बैंकिंग घोटाला, समय रहते कार्रवाई क्‍यों नहीं?

कब शुरू हुआ यह महत्वपूर्ण है तो यह भी महत्वपूर्ण होना चाहिए कि कब तक चलता रहा. आखिर फरवरी 2017 में आठ जाली लेटर ऑफ अंडरटेकिंग कैसे मिल गया नीरव मोदी को. प्रदर्शनी में राहुल का जाना महत्वपूर्ण है तो नीरव मोदी का प्रधानमंत्री मोदी के साथ तस्वीर खिंचाना भी महत्वपूर्ण होना चाहिए.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सबसे बड़ा बैंकिंग घोटाला, समय रहते कार्रवाई क्‍यों नहीं?

नीरव मोदी (फाइल फोटो)

यह कार्यक्रम भारत के उन लाखों किसानो के प्रति समर्पित है जिन्होंने बैंक के कर्ज़े तले दब कर जान दे दी. यह कार्यक्रम उन किसान परिवार की पत्नियों के लिए है जिनके पतियों ने कर्ज़े के बोझ से तंग आकर खुदकुशी कर ली. यह कार्यक्रम उन परिवारों के बच्चों के प्रति समर्पित है जिनके पिताओं ने खेती और कर्ज़े से तंग आकर ख़ुदकुशी कर ली. इसी साल का पहला महीना जनवरी बीता है. महाराष्ट्र के विदर्भ में कर्ज़े से तंग आकर 104 किसानों ने आत्महत्या की है. यह कार्यक्रम उनके प्रति समर्पित है. काश इनमें से एक किसान नीरव मोदी, मेहुल चौकसी की तरह चालाक होता तो कितने किसानों की जान बचा लेता. लखनऊ में आज ही बुंदेलखंड से आया एक किसान राम राज आत्महत्या की कोशिश में पेड़ पर चढ़ गया जब यूपी में राम राज लाने के लिए वहां की सरकार बजट पेश करने जा रही थी. अगर राम राज को नीरव मोदी जैसे गेम करने आता तो वह भी दावोस में किराये का काला सूट पहनकर प्रधानमंत्री के पीछे खड़ा फोटो खींचा रहा होता. आप ये तस्वीर देखिए कि कैसे पुलिस वाले एक किसान को उसके बेटे की दुहाई देकर बचा रहे हैं कि राम राज आ जाओ, तुम्हारा बेटा रो रहा है.

कृषि अर्थशास्त्री देवेंद्र शर्मा ने हिसाब लगाया है कि अगर डेढ़ लाख तक का कर्ज़ा माफ कर दिया जाए तो इस 11000 करोड़ से 30 लाख किसान कर्ज़ मुक्त हो जाएंगे. डेढ़ लाख का कर्ज़ा है राम राज पर, जान देने लखनऊ आ गए, 11000 करोड़ का चूना लगाकर नीरव मोदी चले गए न्यूयार्क, उससे पहले गए स्वीटज़रलैंड जिसके बारे में कहा जाता है कि काला धन का घर है, वहीं के दावोस में जाता है और प्रधानमंत्री के साथ फोटो खींचा लेता है. हमने किसानों से बात की कि वे नीरव मोदी के इस करामात यानी चमत्कार पर क्या सोचते हैं.

15 फरवरी के प्रेस कांफ्रेंस में रविशंकर प्रसाद ने कहा कि नीरव मोदी प्रधानमंत्री के साथ नहीं गए थे, बल्कि कंफिडरेशन ऑफ इंडियन इंडस्ट्री (सीआईआई) के लोग लेकर गए. मगर जब आप गूगल करेंगे तो 2016 की एक ख़बर मिलेगी. फाइनेंशियल एक्सप्रेस की इस खबर के मुताबिक वित्त मंत्री अरुण जेटली उस साल 100 उद्योगपतियों को लेकर दावोस गए थे. कई नाम छपे हैं, एक नाम नीरव मोदी का भी है. 13 जनवरी 2016 को यह खबर समाचार एजेंसी पीटीआई से जारी हुई है जिसे कई अखबारों ने छापा है. 16 फरवरी 2018 यानी आज के टाइम्स ऑफ इंडिया के सी उन्नीकृष्णन ने खबर लिखी है कि 2016 के साल में नीरव मोदी को 48 करोड़ की पेनाल्टी देनी पड़ी थी क्योंकि दिसंबर 2014 में 1000 करोड़ का हीरा दिखा कर स्मगलिंग कर रहे थे. डायरेक्टरोट ऑफ रेवेन्यू इंटेलिजेंस, डीआरआई में दो साल केस चला, फिर 48 करोड़ का जुर्माना भरना पड़ा. सवाल यह है कि इतनी बड़ी चोरी के बाद क्या डीआरआई ने आगे की जांच की या सिर्फ इसी मामले तक खुद को सीमित रखा. स्मगलिंग का मामला चलता रहा फिर भी कैसे यह शख्स वित्त मंत्री के साथ 2016 में दावोस गया. सीबीआई जांच शुरू करने जा रही थी फिर यह नीरव मोदी प्रधानमंत्री मोदी के साथ फोटो फ्रेम में मौजूद है. शायद इसीलिए रविशंकर प्रसाद कह रहे थे कि फोटो की राजनीति न हो, ताकि लोगों को पता न चले. वो जब प्रेस कांफ्रेंस करने आए ही थे तो यह सब बताना चाहिए था. प्रधानमंत्री के साथ भले न गए हों मगर 1000 करोड़ का माल चोरी से बाहर भेजने वाला वित्त मंत्री के साथ दावोस जाए क्या यह ठीक है.

नीरव मोदी न्यूयार्क के होटल में हैं. दिल्ली में उनकी दुकान पर छापा पड़ा है. लेकिन उनकी दुकान तो दुनिया के कई देशों में है. क्या वहां भी छापे पड़े हैं. ऐसी कोई ख़बर सुनी है आपने? मामला कई कंपनियां बनाकर हीरे के कारोबार के नाम पर पैसा इधर से उधर करने का है. साबित कुछ नहीं होगा इसी का अफसोस है क्योंकि इस खबर को खत्म करने के लिए ज़रूर कोई बड़ा ईवेंट आ रहा होगा. कोई हंगामा या कोई बवाल.

हमारी सहयोगी नम्रता बरार न्यूयार्क में जे डब्ल्यू मेरियट के 36वें फ्लोर पर जाकर कोशिश करती रहीं कि नीरव मोदी बात कर लें, अपना पक्ष रख दें, सफल नहीं रहीं. गोदी मीडिया ने तुरंत खबर लिखना शुरू कर दिया कि 5000 करोड़ बरामद हो गए. इसी गेम को आपको समझना है. माल ज़ब्त हुआ है, कीमत तय होने में कई महीने से लेकर साल लग जाते हैं. आप किसी भी आयकर अधिकारी से पूछ सकते हैं. लेकिन यह भी पता चल रहा है कि छापे की टीम में जवाहरात के एक्सपर्ट भी हैं जो साथ का साथ दाम भी बता दे रहे हैं. जो भी है, छापा तो भारत की दुकानों पर पड़ा है लेकिन नीरव मोदी जिस होटल में है उसी के पास न्यूयार्क में उनका एक और स्टोर है, दुनिया के कई देशों में दुकान है, क्या वहां भी छापे पड़ रहे हैं. क्या आपको इसकी सूचना है. गोदी मीडिया ने लिख दिया कि पैसा बरामद हो गया. क्या वो कागज भी बरामद हुआ, क्या उन लोगों के नाम भी बरामद हो गए जिनके साथ मिलकर ये खेल खेला गया है. भारत के छह शहरों में 20 ठिकानों पर छापे पड़े हैं. आयकर विभाग ने नीरव मोदी की कंपनी के 21 खाते सील कर दिए हैं.

नीरव मोदी का पासपोर्ट रद्द हो गया है. हंगामा हुआ तब रद्द हुआ. इस सवाल का जवाब नहीं मिला कि 1 जनवरी को कैसे अपने परिवार के साथ फरार हुआ. क्या 1 जनवरी तक जांच एजेंसी को बिल्कुल पता नहीं था कि नीरव मोदी के यहां छापे मारने की तैयारी है. 31 जनवरी की एफआईआर के पेज नंबर आठ पर साफ साफ लिखा है और ये एफआईआर के ही शब्द हैं जिसमें कहा गया है कि हम आपसे आग्रह करते हैं कि ऊपर दिए गए नामों के खिलाफ लुक आउट नोटिस जारी किया जाए ताकि वो देश छोड़ कर जा नहीं सके और कानून अपना काम नहीं कर पाए.

तब 30 जनवरी को ही पासपोर्ट क्यों नहीं रद्द हुआ. इतने दिनों की छूट के बाद नीरव मोदी ने क्या-क्या हेराफेरी की, किस तरह से दस्तावेज गायब कर लिए होंगे यह सब अब कभी पता नहीं चलेगा. जब 2जी घोटाले में सब बरी हो गए, जज सैनी ने कहा कि वे सुबह से शाम तक इंतज़ार करते रह गए मगर सीबीआई सबूत नहीं पेश कर सकी. अगुस्ता वेस्टलैंड हेलिकाप्टर का मामला याद होगा. इटली की अदालत में सीबीआई रिश्वतखोरी के सबूत पेश नहीं कर सकी. वहां की अदालत से आरोपी छूट गए और यहां किसी ने चर्चा नहीं की. ये है हमारी एजेंसियों का रिकार्ड. एफआईआर में सात लोगों के नाम हैं. नीरव मोदी, अमी नीरव मोदी, निशाल मोदी, मेहुल चीनुभाई चौकसी, गोकुलनाथ शेट्टी, मनोज हनुमंत खराट, डेपुटी मैनेजर पीएनबी और अन्य अज्ञात लोग, बैंक अधिकारी, पीएनबी.

आरोप है कि फर्जी तरीके से लेटर ऑफ अंडरटेकिंग जारी की गई जिसके पार्टनर नीरव मोदी, श्री निशाल मोदी, श्री अमी नीरव मोदी और श्री मेहुल चीनुभाई चौकसी हैं. 2011 से शुरू होने की बात कही जा रही है मगर एफआईआर में ही लिखा है कि 9.02.2017 को 44 लाख डॉलर और 43 लाख डॉलर से ज़्यादा की रकम की एलओयू जारी हुई. 10.2.2017 को 59 लाख डॉलर और 60 लाख डॉलर से ज़्यादा की रकम की एलओयू जारी हुई. 14.2.2017 को 58 लाख डॉलर से अधिक की रकम के दो एलओयू जारी हुए.

जब यह बता ही रहे हैं कि 2011 से शुरू हुआ तो यह भी बताना चाहिए कि 2017 तक चलता रहा बल्कि 16 जनवरी 2018 तक चलाने की कोशिश हुई मगर भांडा फूट गया। इंडियन एक्सप्रेस ने लिखा है कि 2011 से 2017 के बीच डेढ़ सौ लेटर आफ अंडरटेकिंग जारी हुई है। यह सवाल महत्वपूर्ण हो सकता है कि घोटाला किसके राज में शुरू हुआ, क्या यह महत्वपूर्ण नहीं है कि उस पैसे का हिस्सा किस किस के पास गया. इनके कौन कौन करीबी हैं. इंडियन एक्सप्रेस ने लिखा है कि 17 बैंक इस घोटाले की चपेट में हैं. 11,300 करोड़ के अलावा 3000 करोड़ का घोटाला हुआ है. चर्चा नीरव मोदी की ज़्यादा हो रही है मगर इस खेल का बड़ा खिलाड़ी मेहुल चौकसी भी है. वही जिसका नाम रविशंकर प्रसाद ठीक से नहीं ले पा रहे थे मगर प्रधानमंत्री ठीक से ले रहे थे.

प्रधानमंत्री जिस हमारे मेहुल भाई को संबोधित कर रहे हैं ये वही मेहुल भाई हैं जो नीरव मोदी के पार्टनर हैं. इन दोनों के खिलाफ मुंबई पुलिस कमिश्नर से लेकर बंगुलुरु पुलिस कमिश्नर से लेकर वित्त मंत्रालय की सभी एजेंसियों के पास कई बार शिकायत भेजी जा चुकी थी. यह शिकायत 2013 से की जा रही थी. फिर भी यह शख्स 2015 में प्रधानमंत्री के सरकारी कार्यक्रम में उन्हीं के सामने मौजूद है. आपको लगता है कि कभी कुछ होगा. पांच लोगों ने अगर जान जोखिम में डालकर इस मामले की शिकायत न की होती तो आज इस घोटाले का इतिहास आसानी से दबा दिया जाता. ये पांच लोग वो हैं जो हर एजेंसी को लिख रहे थे, धमकियां सुन रहे थे, जिंदगी दांव पर लगाकर शिकायत कर रहे थे. अगर तब सुन लिया गया होता तो पंजाब नेशनल बैंक को 11,300 करोड़ का नुकसान न उठाना पड़ता.

शिखर जैन, वैभव खुरानिया. हरि प्रसाद, दिग्विजय सिंह जडेजा और संतोश श्रीवास्तव. इन लोगों ने खूब पत्र लिखे मगर हर जगह से निराशा हाथ लगी. बाद में खुद भी हताश होने लगे कि अब कुछ नहीं होगा. पंजाब नेशनल बैंक ने 16 जनवरी को नहीं पकड़ा होता तो यह पता ही नहीं चलता कि कुछ लोग गीतांजली कंपनी से इस्तीफा देकर इसकी लड़ाई लड़ रहे हैं. इस मामले में पहला पत्र 4 मई 2015 को दिल्ली स्थित SIFO यानी सीरीयस फ्रॉड इंवेस्टिगेशन आर्गेनाइशेन को लिखा गया. 6 मई को मुंबई पुलिस कमिश्नर और सारे ज्वाइंट पुलिस कमिश्नर को लिखा गया. इसकी कॉपी वित्त मंत्रालय, कॉरपोरेट मंत्रालय, प्रवर्तन निदेशालय (ईडी), सीबीआई और आर्थिक अपराध शाखा दिल्ली को भी भेजी गई. 26 जुलाई 2016 को पहली बार प्रधानमंत्री कार्यालय को शिकायत की कॉपी भेजी गई. पीएमओ ने तुरंत ही इस कॉपी को रजिस्ट्रार ऑफ कंपनी को पत्र भेज दिया. रजिस्ट्रार ऑफ कंपनी कोरपोरेट मामले के मंत्रालय के तहत आता है. 29 जुलाई 2016 को इन लोगों ने रजिस्ट्रार ऑफ कंपनी को फिर पत्र लिखा. दो महीने बाद रजिस्ट्रार ऑफ कंपनी का जवाब आता है कि मामला बंद हो गया है.

बिना किसी शिकायतकर्ता से बात किए रजिस्ट्रार ऑफ कंपनी ने मामले को कैसे बंद कर दिया. अगर ईमानदारी से जांच हुई होती तो पंजाब नेशनल बैंक को इतने बड़े घोटाले का सामना नहीं करना पड़ता. अब आते हैं कांग्रेस बनाम बीजेपी पर. दोनों के आरोप प्रत्यारोप में एक बात का ध्यान रखिए. सवाल और जवाब इस मामले से संबंधित हैं या नहीं या फिर दायें बायें आगे पीछे दूसरे तीसरे किस्से भी लपेट लिए गए हैं. कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने पांच सवाल और पूछे और कहा कि यह घोटाला 11300 करोड़ का नहीं बल्कि 21,306 करोड़ का हो गया है.

सरकार की तरफ से पहले दिन रविशंकर प्रसाद आए थे, आज मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर साहब आए. उन्होंने इलाहाबाद बैंक के निदेशक दिनेश दूबे के बयान के हवाले से कांग्रेस को घेरा. दिनेश दूबे ने कहा है कि 2013 में उन पर दबाव डाला गया नीरव मोदी को कर्ज देने के लिए तो इस्तीफा दे दिया. कहा कि राहुल गांधी नीरव मोदी की प्रदर्शनी में जाते हैं. उसके बाद इलाहाबाद बैंक से नीरव मोदी को लोन मिल जाता है. यह घोटाला यूपीए के समय से चल रहा है.

कब शुरू हुआ यह महत्वपूर्ण है तो यह भी महत्वपूर्ण होना चाहिए कि कब तक चलता रहा. आखिर फरवरी 2017 में आठ जाली लेटर ऑफ अंडरटेकिंग कैसे मिल गया नीरव मोदी को. प्रदर्शनी में राहुल का जाना महत्वपूर्ण है तो नीरव मोदी का प्रधानमंत्री मोदी के साथ तस्वीर खिंचाना भी महत्वपूर्ण होना चाहिए. इस तरह आप कांग्रेस बनाम बीजेपी के इस खेल में इज़ इक्वल टू की थ्योरी को साबित कर देते हैं. अगर कांग्रेस बराबर बीजेपी साबित हो गया तो इसका मतलब घोटाला हुआ ही नहीं था. पोलिटिकल साइंस में इज इक्वल टू की थ्योरी मेरी खोज है जिसे छपरा के जेपी यूनिवर्सिटी से पेटेंट कराने की सोच रहा हूं जहां छात्र तीन साल का बीए छह साल में भी नहीं कर पाते हैं. वैसे झावड़ेकर को यह भी बताना चाहिए का एनडीए की सरकार आने, उनकी सरकार के मंत्रालयों से शिकायत करने के बाद भी यह घोटाला क्यों चलता रहा, क्यों रजिस्ट्रार ऑफ कंपनी ने शिकायत करने वालों को जवाब दिया कि आपके मामलों को बंद किया जाता है.

टिप्पणियां
प्रकाश झावड़ेकर ने एक बात कही. स्वच्छ बैंक मिशन की. यह मिशन क्या है. 3 अक्तूबर को इस मिशन के तहत एक दिन के भीतर ब्रोकर संस्थाओं, बैंक और कंपनियों को बताना था कि उनके पास कितना लोन बाकी है. क्या आप जानते हैं कि उस स्वच्छ बैंक मिशन का क्या हुआ? क्या सबने घोषणा की या फिर इस मिशन को बीच में ही रोक दिया गया क्योंकि इससे सबका हिसाब किताब बाहर आ जाता और पोल खुल जाता. 13 सितंबर 2017 को मनीकंट्रोल डाट काम पर लता वेंकटेश का इस पर लेख है. लता जी सीएनबीसी की एडिटर एंकर हैं और बैंकिंग सेक्टर की एक्सपर्ट मानी जाती हैं. उन्होंने लिखा है कि इससे बैंकों और कंपनियों के बीच घबराहट है लेकिन यह कदम अपने आप में क्रांतिकारी है.

क्या 3 अक्तबूर 2017 को एक दिन के भीतर सभी कंपनियों और बैंकों ने अपनी देनदारी यानी बकाए की घोषणा की. हमारी जानकारी के अनुसार बैंकों का यह स्वच्छता मिशन अचानक गायब हो गया. अब दावा तो नहीं कर सकते क्योंकि हम इस क्षेत्र के एक्सपर्ट नहीं हैं इसलिए आप भी किसी बैंक अधिकारी से पूछ लें. सब अखबार से ही नहीं पता किया जाता है कुछ रिश्तेदार भी बता देते हैं. 16 फरवरी को पंजाब नेशनल बैंक का शेयर तीन प्रतिशत और गिरा. इस घोटाले के बाद पंजाब नेशनल बैंक का शेयर 52 सप्ताह में सबसे नीचे चला गया है. 8 हज़ार करोड़ से ज़्यादा इसके शेयरधारकों को नुकसान हो चुका है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement