महाराष्ट्र में प्रदर्शन के बीच सड़कों पर बहाया गया हजारों लीटर दूध तो भड़कीं एक्ट्रेस, बोलीं- मेरा खून खौल गया...

महाराष्ट्र (Maharashtra) में कोरोना वायरस (Coronavirus) संकट के बीच दूध उत्पादकों का प्रदर्शन जारी है. विरोध प्रदर्शन के बीच कई लोगों ने सड़कों पर हजारों लीटर दूध बहा दिया, जिसे लेकर बॉलीवुड एक्ट्रेस आकांक्षा पुरी (Akanksha Puri) भड़कीं नजर आईं.

महाराष्ट्र में प्रदर्शन के बीच सड़कों पर बहाया गया हजारों लीटर दूध तो भड़कीं एक्ट्रेस, बोलीं- मेरा खून खौल गया...

महाराष्ट्र (Maharashtra) में सड़कों पर बहाया दूध तो भड़कीं आकांक्षा पुरी (Akanksha Puri)

खास बातें

  • महाराष्ट्र में विरोध प्रदर्शन के बीच बहाया गया दूध
  • आकांक्षा पुरी ने महाराष्ट्र में विरोध प्रदर्शन पर जताया गुस्सा
  • एक्ट्रेस ने कहा कि मेरा खून खौल गया
नई दिल्ली:

महाराष्ट्र (Maharashtra) में कोरोना संकट (Coronavirus) के बीच दूध उत्पादकों का प्रदर्शन जारी है. विरोध प्रदर्शन के बीच कई लोगों ने सड़कों पर हजारों लीटर दूध बहा दिया, जिसे लेकर पारस छाबड़ा की एक्स गर्लफ्रेंड और बॉलीवुड एक्ट्रेस आकांक्षा पुरी (Akanksha Puri) भड़कीं नजर आईं. आकांक्षा पुरी ने ट्वीट कर विरोध प्रदर्शन के बीच दूध बहाए जाने को लेकर अपना गुस्सा जाहिर किया. उन्होंने लिखा कि इसे देखने के बाद मेरा खून खौल गया. सड़कों पर दूध बहाना, क्या आप लोग सच में ऐसा कर रहे हैं. शर्मनाक लोग. महाराष्ट्र में जारी इस विरोध प्रदर्शन को लेकर आकांक्षा पुरी का ट्वीट खूब वायरल हो रहा है. 

f70rf9lg

आकांक्षा पुरी (Akanksha Puri) ने सड़कों पर बहे हजारों लीटर दूध पर रिएक्शन देते हुए लिखा, "मेरा खून खौल गया, इसे देखने के बाद. सड़कों पर दूध बहाना. क्या आप लोग सच में ऐसा कर रहे हैं. शर्मनाक...विरोध के नाम पर आप लोग कर क्या रहे हैं. लाखों लोग भूख के कारण मर रहे हैं और फिर मैंने ये देखा. मैं हैरान हूं. मूर्ख लोग." आकांक्षा पुरी के इस ट्वीट को लेकर फैंस भी जमकर कमेंट कर रहे हैं. बता दें कि महाराष्ट्र के सांगली, कोल्हापुर, अहमदनगर, नासिक, बीड और बाकी जिलों में दूध खरीद कीमतों में 5 रुपये की बढ़ोतरी की मांग को लेकर प्रदर्शन हुए.


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


महाराष्ट्र (Maharashtra) में दूध उत्पादकों ने इसका लाभ सीधे उनके खातों में डाले जाने की मांग की और 30 रुपये की निर्यात सब्सिडी की भी मांग की है. प्रदर्शनकारी दुग्ध उत्पादों पर माल एवं सेवा कर (जीएसटी) रद्द करने और 10,000 टन दूध पाउडर आयात करने के केंद्र के फैसले को वापस लेने समेत कई अन्य मांग कर रहे थे. वहीं इस बीच कैबिनेट मंत्री सुनील केदार ने मंगलवार को कहा कि महाराष्ट्र सरकार जल्द ही डेयरी किसानों को आर्थिक रूप से मजबूत करने के लिए एक योजना बनाएगी.