अमिताभ बच्चन ने अस्पताल से लिखा ब्लॉग, बोले- हर दिन सांस लेता हुआ जीवन...

अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) कोरोना (Covid 19) पॉजिटिव होने के बाद से नानावटी हॉस्पिटल में भर्ती हैं. अब उन्होंने अस्पताल से एक ब्लॉग लिखा है.

अमिताभ बच्चन ने अस्पताल से लिखा ब्लॉग, बोले- हर दिन सांस लेता हुआ जीवन...

अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) ने अस्पताल से लिखा ब्लॉग

खास बातें

  • अमिताभ बच्चन ने लिखा ब्लॉग
  • एक्टर ने कोविड 19 वार्ड से लिखा ब्लॉग
  • भविष्य को लेकर कही ये बात
नई दिल्ली:

बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) कोरोना (Covid 19) पॉजिटिव होने के बाद से नानावटी हॉस्पिटल में भर्ती हैं. बता दें, अमिताभ बच्चन के साथ-साथ अभिषेक बच्चन, ऐश्वर्या राय और आराध्या बच्चन भी कोरोना से संक्रमित हैं. ऐसे में पूरा देश उनके लिए प्रार्थना कर रहे हैं. अमिताभ बच्चन अस्पताल में रहते हुए भी फैन्स के साथ सोशल मीडिया के जरिए जुड़े हुए हैं. अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan Twitter) अकसर ट्वीट करके लोगों का शुक्रिया करते हैं. अब हाल ही में अमिताभ बच्चन ने ब्लॉग लिखा है, जिसमें उन्होंने चुप्पी और भविष्य की अनिश्चितता के बारे में बात की है.

Newsbeep


अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) ने अपने ब्लॉग की शुरुआत लोगों को उनकी प्रार्थना के लिए धन्यवाद देने से की. अमिताभ बच्चन ने लिखा, "फिलहाल मौन और अगले पल की अनिश्चितता. यह जिंदगी के नेचर का एक वंडर है, सभी के लिए कि यह हमारे लिए हर पल, हर दिन सांस लेता हुआ जीवन है. सामान्य दिनों से प्रेरित गतिविधि में, कभी भी आराम से बैठकर कोई विचार नहीं किया. लेकिन अब एक नियमितता के साथ विचरा करते हैं जो उन बेकार घंटों को भरता है. बैठना, सोचना, बाहर देखना आदि." अमिताभ बच्चन ने इसके आगे यह भी खुलासा किया कि  उनके खाली दिमाग में कौन सी बाते दौड़ती हैं. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com



अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) ने आगे लिखा, "एक भटकता मन अकसर हमें उन गंतव्यों की ओर ले जाता है, जो कभी-कभी ऐसा नहीं होता जिसे आप सुनना या देखना चाहें. लेकिन आप करते हैं... जो हमें घेर लेती है, वह सब कुछ हमारे बारे में बहुत अधिक होता है, इसे आप इग्नोर नहीं कर सकते, तो इसे आपको अपनाना पड़ता है. इसे सहन करें... इसे जिएं. इससे दूसरों के साथ खेलें. लेकिन कभी भी इसकी उपस्थिति को समाप्त करने में नहीं करना चाहिए." यहां पढ़ें पूरा ब्लॉग